पुरी में शुरू हुई भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा, श्रद्धालुओं का उमड़ा सैलाब

0
36

आषाढ़ मास के शुक्त पक्ष की द्वितीया तिथि की मौके पर शनिवार को ओडिशा के पुरी और गुजरात के अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की भव्य यात्रा निकाली जा रही है. इस यात्रा के लिए जगह-जगह खास इंतजाम किए गए हैं. शनिवार सुबह से ही निकाली जा रही इस भव्य यात्रा में भगवान जगन्नाथ के रथ को पीले और लाल रंग के कपड़ों से सजाया गया है. वहीं, बलभद्र जी के रथ को हरे और लाल रंग के कपड़े से सजाया गया है. लकड़ी से बने भगवान के इस रथ को भक्त और पुजारी रस्सी से खींचते हैं. गुजरात और ओड़िसा दोनों ही प्रदेशों में इस रथ यात्रा के बेहद खास मायने हैं. अहमदाबाद में सूबे के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने झाड़ू लगाकर सुबह सात बजे रथयात्रा को रवाना किया था.
अहमदाबाद में सुबह पहले भगवान जगन्नाथ को स्नान आदि कराके अभिषेक कराया गया. पौराणिक मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ स्वस्थ होने के बाद ही मंदिर से रथ यात्रा के लिए रवान होने हैं. इस मौके पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रथयात्रा से पहले मंगला आरती में शिरकत की.
अहमदाबाद में रथयात्रा भगवान जगन्नाथ के मुख्य मंदिर से सरसपुर के रणछोड़दास मंदिर तक जाएगी. भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के रथ यहां करीब दो घंटे रुकेंगे. सरसपुर के रणछोड़दास मंदिर को भगवान जगन्नाथ का ननिहाल कहा जाता है.अहमदाबाद में मंत्रोच्चार के साथ मंगला आरती के पहले भगवान जगन्नाथ का भव्य स्नान और अभिषेक किया गया. मान्यता के मुताबिक भगवान जगन्नाथ स्वस्थ होने के बाद रथ के जरिए शहर में निकलते हैं.

यह भी पढ़े  आज श्री गंगा दशहरा है ,बन रहा है अद्भुत संयोग

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने झाड़ू लगाकर सुबह सात बजे रथयात्रा को रवाना कर दिया है. सीएम रूपाणी अपने पूरे परिवार के साथ रथयात्रा में दर्शन के लिए पहुंचे हैं. रथयात्रा से पहले झाड़ू लगाने को पहिंद विधि कहा जाता है. रथयात्रा में राज्य के प्रमुख यानी सीएम की तरफ से भगवान के स्वागत की परंपरा है. इसका संदेश ये है कि जगत के स्वामी जगन्नाथ हैं और सभी उनके सेवक हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर देश को जगन्नाथ रथयात्रा की शुभकामनाएं दी हैं. पीएम मोदी ने कहा है कि भगवान जगन्नाथ के आशीर्वाद से देश नई ऊंचाइयों पर पहुंचे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here