पुण्यतिथि पर याद किये गये अम्बेडकर राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रतिमा पर माल्यार्पण कर दी श्रद्धंजलि

0
11
PATNA DR BHIM RAO AMBEDKAR JEE KI PUNETITHI KE ABSAR PER AYOJIT SAMAROH MEIN RAJPAL LAL JI TONDON, CM NITISH KUMAR AND OTHER

राज्यपाल लाल जी टंडन ने आज डॉ. भीमराव अम्बेदकर के ‘‘महापरिनिर्वाण दिवस’ पर आयोजित राजकीय समारोह में पटना हाईकोर्ट के पश्चिम स्थित डॉ. भीमराव अम्बेदकर जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी डॉ. भीमराव अम्बेदकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस राजकीय समारोह में पथ निर्माण मंत्री, मंत्री नंद किशोर यादव, शिक्षा मंत्री कृष्ण नन्दन प्रसाद वर्मा सहित कई जन-प्रतिनिधिगण, सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के पदाधिकारियों, प्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों एवं गणमान्य जन ने भी डॉ .भीमराव अम्बेदकर जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यक्रम में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के कलाकारों द्वारा देशभक्तिपूर्ण गीतों के गायन प्रस्तुत किये गये।

उधर, जदयू महादलित प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष हुलेश मांझी जी की अध्यक्षता में बाबा भीम राव अम्बेडकर जी के 62वां परिनिर्वाण दिवस समारोह मनाया गया। वक्ताओं ने बाबा साहेब के विचार व दर्शन को जीवन में उतारने के लिए प्रेरित किया। वे न केवल संविधान के प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे बल्कि आजाद भारत के प्रथम कानून मंत्री के पद पर हिन्दू कोड विल के समर्थन के साथ महिलाओं के समान अधिकार देनें का वकालत किये। साथ ही साथ जनकल्याण, भारत निर्माण, रिजर्व बैंक स्वतंत्र चुनाव आयोंग तथा रोजगार नियोजनालय आदि के स्थापना कायरे में अग्रिणी भूमिका निभाये है। अर्थात आधुनिक भारत के निर्माण में इनका योगदान अतुलनिय है।

यह भी पढ़े  राज्यपाल व सीएम ने इंदिरा गांधी और लौहपुरु ष को दी श्रद्धांजलि

छुआ-छूत के खात्मे को आजीवन संघर्ष करते रहे बाबा साहेब
डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने अपना पूरा जीवन गरीबों, दलितों अर समाज के पिछड़े वगरे के उत्थान के लिए न्योछावर कर दिया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम विधि एवं न्याय मंत्री, भारतीय संविधान के जनक एवं भारत गणराज्य के निर्माता थे। उक्त बातें बिहार विधान सभा में सत्तारुढ़ दल के उप मुख्य सचेतक श्री अरूण कुमार सिन्हा ने कही। ़श्री सिन्हा ने आज अम्बेडकर स्थल, पीएमसीएच में आयोजित डॉ. भीमराव बाबा साहब अंम्बेडकर की 62वीं पुण्यतिथि समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि डा.भीमराव अंम्बेडकर समाज में दलित वर्ग को समानता दिलाने के लिए जीवन भर संघर्ष करते रहें। उन्होंने दलित समुदाय के लिए एक ऐसी अलग राजनैतिक पहचान की वकालत की जिसमें कांग्रेस अर ब्रिटिश दोनों का ही कोई दखल न हो।

राज्य के पशु व मत्स्य संसाधन मंत्री व लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने कहा कि बाबा साहेब डॉ. भीम राव अम्बेदकर अद्वितीय महापुरूष थे। जहां उन्होंने देश को संविधान दिया वहीं देश में व्याप्त समाजिक विषमता को पाट कर समतामूलक समाज की रचना भी की। श्री पारस आज लोजपा के राज्य मुख्यालय में आयोजित बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेदकर के परिनिर्वाण दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।

यह भी पढ़े  बिहार का इतिहास गौरवमय : राज्यपाल

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की पूण्यतिथि बृहस्पतिवार को निर्वाण दिवस के रूप में मनाई गई। इस दौरान राजधानी में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों एवं सामाजिक संगठनों की ओर से श्रद्धापूर्वक निर्वाण दिवस मनाया गया तथा लोगों ने बाबा साहब के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर र्चचा की। पीएमसीएच के कर्मचारियों ने धन्वंतरी छात्रावास के निकट स्थित सामुदायिक भवन में बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की पूण्य तिथि मनाई। इस दौरान यहां आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता भाजपा नेता संजय चन्द्रा ने की। वार्ड नंबर 41 का पार्षद कंचन देवी एवं सेवानिवृत्त सैनिक रामशरण प्रसाद, भाजपा कार्यकर्ता राहुल ने माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किया।

बार्ड पार्षद कंचन देवी ने 200 से अधिक बच्चों के बीच पठन – पाठन सामग्री का वितरण किया। उधर, राष्ट्रीय सामाजिक न्याय मोर्चा के प्रदेश कार्यालय में संविधान निर्माता बाबा साहब की तस्वीर पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता मोर्चा के प्रधान महासचिव नरेश महतो एवं संचालन मुख्य प्रवक्ता नीलमणि पटेल ने किया।

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री ने लंगोट मेला का किया शुभारंभ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here