पाकिस्‍तान के PM इमरान खान संकट में, सरकार और सेना के बीच बढ़ी दूरियां

0
61

भारत के जम्‍मू कश्‍मीर से धारा 370 और धारा 35ए हटने के बाद अनाप शनाप बयान दे रहे पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. इमरान और पाक सेना के बीच दुरियां बढ़ रही हैं. बड़ी बात यह भी है कि न न करते हुए भी हाल ही में पाक पीएम इमरान यह भी बात मान ही ली कि भारत पीओके में बालाकोट से भी बड़ा हमला कर सकता है. बताया जाता है कि इमरान के इस कुबूलनामे से भी पाकिस्तानी सेना नाराज है. इससे पहले पाकिस्‍तानी सेना इस बात से इन्‍कार करती रही है कि बालाकोट के हवाई हमले में भारत को कोई कामयाबी मिली थी.

उधर दूसरी ओर अमेरिका दौरे और भारत से संबंधों को लेकर कुछ अहम मौकों पर इमरान खान के बयानों से पाकिस्तानी सेना चिढ़ गई है. पाक सेना भारत में आतंकियों की बड़े पैमाने पर घुसपैठ कराने की लगातार कोशिश कर रही है, वहीं पाकिस्तानी सेना की कठपुतली कहे जाने वाले प्रधानमंत्री इमरान खान ने कई बार दावा किया कि उनकी सरकार आतंकियों पर कार्रवाई कर रही है. लिहाजा, पाकिस्तानी सेना इमरान से नाराज है.सभी जानते हैं कि दस सालों तक अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को अपने देश में छिपाने का काम पाक सेना ने ही किया था. अब पाक सेना का इरादा सेना के लोगों को राजनीति के जरिये मुख्यधारा में लाना है.

यह भी पढ़े  पाकिस्तान में सक्रिय थे 40 आतंकी संगठन, इस कबूलनामे के बाद अब कार्रवाई करें इमरान खान

अक्टूबर 2017 में ही पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा था कि वह सशस्त्र बल के लोगों को राजनीतिक प्रक्रिया में लाने के लिए एक विशेष योजना पर काम कर रहे हैं. एक यूरोपीय थिंक टैंक एफसास के लिखित दस्तावेज के अनुसार गफूर का मकसद आतंकियों और आतंकी संगठनों को आपस में जोड़कर उन्हें पाकिस्तान की मुख्यधारा में लाने के लिए राजनीतिक क्षेत्र में एक सकारात्मक भूमिका दी जाएगी.

इन सबके बीच करीब एक साल पहले पाकिस्तानी सेना की हेराफेरी से चुनाव जीतकर प्रधानमंत्री बनने वाले इमरान खान ने हाल में मजबूरी में कुछ ऐसे बयान दे दिए कि पाकिस्तानी सेना के जनरल उनके खिलाफ हो गए हैं, जो आतंकी समूहों को बकायदा प्रशिक्षण देते हैं. पहले तो अमेरिका यात्रा के दौरान इमरान ने दुनिया के सामने यह कुबूल कर लिया कि उनके देश में करीब 30 हजार से 40 हजार आतंकी हैं. उन्होंने यह भी दावा किया कि उनकी सरकार देश में जेहाद की संस्कृति को खत्म करने की कोशिश कर रही है.

यह भी पढ़े  सबसे तेज़ी से बढ़ रही है भारतीय अर्थव्यवस्था, ब्रिटेन को पीछे धकेल हथिया सकती है 5वां पायदान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here