पाकिस्तान को रास नहीं आया अयोध्या में मंदिर निर्माण का फैसला

0
27

अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले से जहां देश के सभी वर्ग संतुष्ट नजर आ रहे हैं और फैसले को देश के सांस्कृतिक सद्भाव और ताने-बाने के अनुरूप ले रहे हैं, वहीं पाकिस्तान के मंत्री फव्वाद हुसैन को इस फैसले से सबसे ज्यादा मिर्ची लगी है. उन्होंने एक ट्वीट के जरिये भारत के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अनर्गल और अनैतिक बताते हुए ऐसी टिप्पणी की है, जो उनकी बौखलाहट को ही साबित करती है.

पहले भी कर चुके हैं बेतुकी टिप्पणी
इसके पहले भी फव्वाद हुसैन भारत के चंद्रयान-2 और कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने पर बेतुकी बयानबाजी कर ट्रोल हो चुके हैं. इसके बावजूद वह बेवकफी भरी बातों से बाज नहीं आ रहे हैं. शनिवार को अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले से जुड़ी ट्वीट को रि-ट्वीट करते हुए उन्होंने उसे शर्मनाक, अनैतिक और बेतुका करार दिया.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला
गौरतलब है कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की खंडपीठ ने एकमत से फैसला दिया. इसके तहत सर्वोच्च न्यायालय ने अब तक विवादित कही जा रही जमीन को केंद्र के हवाले कर तीन महीने के अंदर मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने का निर्देश दिया. इसके साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि अयोध्या में मस्जिद के लिए महत्वपूर्ण स्थान पर 5 एकड़ जमीन उपलब्ध कराने की बात कही. अदालत ने स्पष्ट करते हुए कहा था कि आस्था और विश्वास को दरकिनार नहीं किया जा सकता है, लेकिन अदालत किसी धर्म को दूसरे से कमतर नहीं आंक सकती है.

यह भी पढ़े  Man Booker Prize: आयरलैंड की लेखिका Anna Burns को 'मिल्कमैन' के लिए मिला मैन बुकर पुरस्कार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here