पहले चरण में दो बड़े दलित नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर

0
61

बिहार की नक्सल प्रभावित चार लोकसभा सीटों पर पहले चरण में 11 अप्रैल को हो रहे चुनाव में दो बड़े दलित नेताओं रामविलास पासवान और जीतन राम मांझी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। इस चरण में औरंगाबाद, नवादा, गया (सुरक्षित) और जमुई (सुरक्षित) लोकसभा क्षेत्र शामिल हैं। राजग में शामिल सत्ताधारी जदयू-भाजपा एक-एक तो लोजपा दो सीटों पर मैदान में उतरी है। वहीं महागठबंधन में शामिल राजद-रालोसपा के एक-एक तो हम (से.) के दो उम्मीदवार चुनावी दंगल में खम ठोक रहे हैं। जबकि पहले चरण में कांग्रेस का कोई उम्मीदवार मैदान में नहीं है। हिन्दुस्तान अवामी मोर्चा (से.) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी खुद गया (सुरक्षित) लोकसभा क्षेत्र से चुनावी दंगल में उतरे हैं तो लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के पुत्र व लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान जमुई (सुरक्षित) लोकसभा सीट से मैदान में उतरे हैं। श्री मांझी की पार्टी हम (से.) इस चरण में शामिल दूसरी औरंगाबाद सीट लड़ रही है जबकि लोजपा की दूसरी सीट नवादा है। हालांकि दोनों दलित नेता आपस में टकरा नहीं रहे हैं। दोनों ने एक दूसरी की सीट पर उम्मीदवार नहीं उतारा है। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के दलित चेहरा भूदेव चौधरी की सीट भी इसी चरण में पड़ती है। श्री चौधरी जमुई (सुरक्षित) सीट से चुनावी दंगल में उतरे हैं। उनके सामने रालोसपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग कुमार पासवान मैदान में हैं। जदयू गया (सुरक्षित) और भाजपा औरंगाबाद से तो राजद उम्मीदवार नवादा सीट से मैदान में है। पहले चरण में 44 उम्मीदवार चुनावी दंगल में उतरे हैं। इनमें औरंगाबाद लोकसभा सीट से 9, गया सुरक्षित से 13, जमुई सुरक्षित से 9 और नवादा से 13 उम्मीदवार खम ठोक रहे हैं। वहीं बिहार विधानसभा की नवादा सीट पर हो रहे उप चुनाव में आठ उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी गया (सुरक्षित) लोकसभा सीट से चुनावी दंगल में उतरे हैं तो उनसे मुकाबला करने के लिए जदयू ने विजय कुमार को चुनाव मैदान में उतारा है। भारतीय जनता पार्टी ने सुशील कुमार सिंह पर एक बार फिर विास जताते हुए औरंगाबाद लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा सेक्युलर ने औरंगाबाद से उपेन्द्र प्रसाद को चुनावी दंगल में उतारा है। नवादा लोकसभा सीट से लोक जनशक्ति पार्टी के चंदन कुमार सिंह, राष्ट्रीय जनता दल की विभा देवी सहित 13 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। जमुई (सुरक्षित) लोकसभा सीट से लोक जनशक्ति पार्टी संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग कुमार पासवान चुनाव मैदान में उतरे हैं, उनके विरोध में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी सहित नौ उम्मीदवार खम ठोक रहे हैं। जीतन राम मांझी 2014 के लोकसभा चुनाव में गया (सुरक्षित) लोकसभा सीट से जदयू का टिकट पर मैदान में उतरे थे। श्री मांझी को 131828 को वोट मिले थे और वे तीसरे स्थान पर रहे थे। जबकि भाजपा के हरी मांझी को 326230 मिले थे और वे चुनाव जीते थे। दूसरे नम्बर पर रहे रामजी मांझी को 210726 वोट मिले थे। जमुई (सुरक्षित) लोकसभा क्षेत्र से लोजपा के चिराग पासवान जीते थे। उन्हें 285354 वोट मिले थे। दूसरे स्थान पर रहे राजद के सुधांशु शेखर भाष्कर को 199407 और तीसरे स्थान पर रहे जदयू के उदय नारायण चौधरी को 198599 वोट मिले थे। औरंगाबाद लोकसभा सीट से भाजपा के सुशील कुमार सिंह को कामयाबी मिली थी। उन्हें 307941 वोट मिले थे जबकि दूसरे स्थान पर रहे कांग्रेस के निखिल कुमार को 241594 और तीसरे स्थान पर रहे जदयू के वागी कुमार वर्मा को 136137 वोट मिले थे। नवादा लोकसभा सीट से भाजपा के गिरिराज सिंह को जीत मिली थी। उन्हें 390248 मिले थे। जबकि राजद के राज बल्लभ यादव 250091 वोट पाकर दूसरे और जदयू के कौशल यादव 168217 तीसरे स्थान पर रहे थे। इस बार के चुनाव में नवादा से जीते भाजपा के गिरिराज सिंह बेगूसराय से चुनाव लड़ रहे हैं। पहले चरण में शामिल सीटों पर ऊंट किस करवट बैठेगा यह तो वक्त ही बतायेगा,लेकिन दो दलित नेताओं की राजनीति इस चरण पर टिकी हुई है। इस चरण में 70.37 लाख मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इन मतदाताओं के लिए 7486 मतदान केंद्र बनाये गये हैं।

यह भी पढ़े  योग के क्षेत्र में विश्वगुरु बना भारत :राज्यपाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here