पहले चरण की चारों सीटों पर राजग ने लहराया था परचम,

0
165

पहले चरण में जिन चार सीटों पर चुनाव होने जा रहा है वे पिछले चुनाव में राजग की झोली में गई थीं। इनमें गया, औरंगाबाद व नवादा भाजपा के कब्जे बाली सीट है तो जमुई पर लोजपा काबिज है। गया लोकसभा क्षेत्र में मुख्य लड़ाई जदयू के विजय मांझी व महागठबंधन से हम (से) के उम्मीदवार जीतनराम मांझी के बीच है। गत लोकसभा चुनाव में यह जंग त्रिकोणात्मक थी। तब यहां भाजपा के हरि मांझी का मुकावला राजद के रामजी मांझी से था। इन दोनों के बीच तब जदयू के उम्मीदवार के रूप में जीतनराम मांझी ने संघर्ष को त्रिकोणात्मक आधार दिया मगर जीत भाजपा के हरि मांझी को मिली थी। इस बार गत चुनाव के विनर और रनर स्क्रीन से गायब हैं। गया लोकसभा से 1999, 2009 व 2014 में भाजपा जीती है। वर्ष 2004 में राजद के राजेश कुमार मांझी ने भाजपा को हराया था।2019 में नवादा लोकसभा के जंग में लोजपा व राजद आमने-सामने हैं। लोजपा से चंदन कुमार तो राजद से विभा देवी चुनाव लड़ रही हैं। चंदन कुमार पूर्व सांसद सूरजभान के भाई हैं तो विभा देवी राजद से विधायक रहे राजवल्लभ यादव की पत्नी हैं। गत चुनाव में भाजपा के गिरिराज सिंह ने राजवल्लभ यादव को लगभग 1.40 लाख मतों से परास्त किया था। इस बार राजद का मुकाबला लोजपा के उम्मीदवार से है। प्रथम चरण में भाजपा एकमात्र औरंगाबाद लोकसभा से चुनाव लड़ रही है। यहां से भाजपा के सीटिंग सांसद सुशील कुमार सिंह चुनाव लड़ रहे हैं। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार श्री सिंह ने कांग्रेस के निखिल कुमार को हराया था। इस बार भाजपा का मुकाबला हम (से) के उपेन्द्र प्रसाद से है। हम उम्मीदवार श्री प्रसाद पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। जमुई लोकसभा से इस बार भी लोजपा के सीटिंग सांसद चिराग पासवान चुनावी खम ठोक रहे हैं। वर्ष 2014 में इनका मुकाबला राजद के सुधांशु शेखर से था। तब लोजपा को यहां 85,947 मतों से जीत मिली थी। इस बार राजद ने पैंतरा बदल कर टिकट रालोसपा को दिया है। रालोसपा से यहां भूदेव चौधरी चुनाव लड़ रहे हैं। वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में श्री चौधरी ने जनता दल के टिकट पर जीत दर्ज की थी। तब राजद से श्याम रजक उम्मीदवार थे।

यह भी पढ़े  बजट सत्र का अंतिम दिन :विपक्ष के हंगामे के कारण विधानसभा की कार्यवाही स्थगित

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here