पश्चिम बंगाल में TMC-BJP के बीच झगड़े बढ़ने से विवाद गहराया, आज चुनाव आयोग ले सकता है बड़ा फैसला

0
7

पश्चिम बंगाल में अंतिम चरण के मतदान से पहले राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) और TMC को चुनौती देने वाली भारतीय जनता पार्टी के बीच झगड़े बढ़ने की वजह से विवाद गहरा गया है। मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा के बाद राज्य में पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनो पार्टियां हिंसा के लिए एक दूसरे पर आरोप लगा रही हैं। इस बीच आज पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2 रैलियां हैं और हिसां के बीच चुनाव प्रक्रिया का जायजा लेने के लिए दिल्ली में चुनाव आयोग ने बैठक रखी हुई है।

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान मंगलवार को हुई हिंसा को लेकर देश की राजनीति गर्मा गई है. बीजेपी के सभी नेता रोड शो के दौरान हुई हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस पर हमलावर है. बीजेपी नेताओं का कहना है कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र खतरे में है, वो ममता बनर्जी के मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगी. बीजेपी हिंसा के विरोध में बुधवार दिल्ली में सुबह साढ़े 10 बजे से जंतर-मंतर पर धरना-प्रदर्शन करेगी.

यह भी पढ़े  क्या जदयू में पक रही है कोई सियासी खिचड़ी...

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा को लेकर मंगलवार रात बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. पार्टी नेता पीयूष गोयल ने हिंसा की निंदा करते हुए बंगाल की जनता से ज्यादा से ज्यादा वोट करने की अपील की है. पीयूष ने कहा कि चुनाव आयोग बंगाल की हिंसा पर मूकदर्शक बन गया है. ममता सरकार नहीं चाहती कि बंगाल में निष्पक्ष चुनाव हों. इलेक्शन कमीशन को इस मामले में सख्त कदम उठाने चाहिए. उन्होंने कहा कि बंगाल सरकार कार्रवाई करने की बजाए उल्टा बीजेपी को दोष दे रही है. बीजेपी ममता बनर्जी के मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगी.

ममता बनर्जी ने किया हिंसा वाली जगह का दौरा

इसी बीच, सीएम ममता बनर्जी ने हिंसा वाली जगह का दौरा किया. उन्होंने विद्यासागर यूनिवर्सिटी से कोलकाता यूनिवर्सिटी कैंपस तक पैदल मौके का निरक्षण किया. इस कॉलेज के निकट बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान मंगलवार को झड़पें हुईं.

यह भी पढ़े  आजम खान के बिगड़े बोल , जानिए- पीएम मोदी से लेकर जया प्रदा तक कब क्या कहा

बता दें कि मंगलवार को अमित शाह की रैली के दौरान भारी बवाल हुआ है. यहां बीजेपी समर्थकों की पुलिस से भिड़ंत हो गई, जिससे स्थिति बेकाबू हो गई. कई जगह आगजनी भी की गई. पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

वहीं रोड शो में हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार देर रात चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, अनिल बलूनी, जीवीएल नरसिम्हा राव सरीके नेताओं ने चुनाव आयोग से मुलाकात की.

इलेक्शन कमीशन से मीटिंग के बाद बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हमने चुनाव आयोग से गड़बड़ी करने वाले तत्वों और हिस्ट्रीशीटरों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की. केंद्रीय बलों का फ्लैग मार्च निकाला जाए. सीएम ममता बनर्जी को उनके समर्थकों को उकसाने के अभियान से रोक दिया गया.

गौरतलब है कि मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो पर कोलकाता में कथित रूप से तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद (टीएमसीपी) के कार्यकर्ताओं ने पत्थर फेंके. इसके बाद कॉलेज स्ट्रीट के पास हिंसा भड़क उठी, जिसमें तीन बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया.

यह भी पढ़े  प्रधानमंत्री कार्यालय अब ‘प्रचार मंत्री का ऑफिस’ बन गया है: राहुल गांधी

शाह ने बाद में तृणमूल पर अपनी रैली में ईंट और पत्थर फेंकने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘मेरी रैली के दौरान दो जगहों पर अशांति पैदा की गई. तृणमूल के समर्थकों ने हिंसा भड़काने का प्रयास किया और हम पर ईंट व पत्थर फेंके.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here