पत्रकार हमारे दुश्मन नहीं दोस्त हैं, पुलिस के साथ न आएं चुनावी ड्यूटी परः नक्सली

0
11

छत्तीसगढ़ विधान सभा चुनाव कवर करने के दौरान हमले में मारे गए दूरदर्शन के कैमरामैन को लेकर नक्सलियों ने सफाई जारी की है. संगठन ने लिखित बयान जारी कर कहा है कि कैमरामैन की हत्या अनजाने में हुई है. सफाई में इस बात का जिक्र किया गया है कि कैमरामैन अच्युतानंद साहु का मरना दुख की बात है. हम जानबूझ कर पत्रकारों को नहीं मारेंगे. नक्सलियों ने इस हमले की जिम्मेदारी भी ली है.

हमले में दूरदर्शन के कैमरापर्सन के साथ 3 जवान शहीद हो गए थे. दो पन्ने की इस प्रेस रिलीज को भारत की कम्युनिस्ट पार्टी ( माआोवादी ), दरभा डिवीजनल कमेटी की ओर से जारी किया गया है. अपने पत्र में संगठन ने सरकार पर आरोप भी लगाए हैं.

नक्सलियों ने पत्रकारों को बताया अपना मित्र

संगठन की ओर से जारी चिट्ठी में लिखा गया है, “मुझे नहीं मालूम था कि पुलिस के साथ पत्रकार भी हैं. फायरिंग में कैमरामैन अच्युतानंद साहु का मरना दुख की बात है. हम पत्रकारों के दुश्मन नहीं है. हम जानबूझकर पत्रकारों को नहीं मारेंगे. पत्रकार हमारे दुश्मन नहीं हैं वह हमारे मित्र हैं.” अपने पत्र में नक्सलियों ने कहा कि हम अपील करते हैं कि कभी भी संघर्ष वाले इलाकों में पत्रकार और कर्मचारी पुलिस के साथ न आएं. खासकर चुनावी ड्यूटी पर आने वाले कर्मचारी पुलिस के साथ न आएं.

यह भी पढ़े  जनकल्याणकारी योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने में मीडिया की भूमिका अहम : मयंक अग्रवाल

गौरतलब हो की छत्तीसगढ़ के दंतेवाडा में दूरदर्शन टीम पर नक्सली हमला हुआ था . इस हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मौत हो गई थी . हमले वाली जगह का नाम अरनपुर था . ये वो इलाका है जहां पहली बार वोटिंग होने वाली है. दूरदर्शन टीम उसी की रिपोर्टिंग के लिए दौरे पर थी.
दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव के अनुसार , ”अरनपुर थाना इलाके के नीलवाया में मंगलवार को नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया. मुठभेड़ में एएसआई रुद्रप्रताप और सहायक आरक्षक मंगलराम शहीद हो गए. वहीं जवान विष्णु नेताम और सहायक आरक्षक राकेश कौशल घायल हैं.”
उन्होंने बताया, “दूरदर्शन की तीन सदस्यीय टीम पर भी यहां नक्सलियों ने गोलीबारी की है, जिसमें कैमरामैन अच्युतानंद साहू की गोली लगने से मौत हो गई. वहीं एक अन्य पत्रकार के भी घायल होने की सूचना है.”

सूचना प्रसारण मंत्री ने हादसे पर जताया था दुख
केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने नक्सलियों के इस कायराना हरकत पर दुख जताया था. उन्होंने कहा था, ”कैमरामैन के परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. मैं उन सभी मीडिया कर्मियों को सलाम करता हूं जो इतनी खतरनाक जगहों पर कवरेज के लिए जाते हैं. उनकी बहादुरी को याद रखा जाएगा.”

यह भी पढ़े  मालदीव के अखबार ने भारत को बताया 'सबसे बड़ा दुश्मन', कहा- 'PM मोदी मुस्लिम विरोधी'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here