पटना में बाहरी राज्यों के मछली की बिक्री पर बैन, बेचा तो सात साल की जेल,10 लाख जुर्माना

0
84
PATNA SUCHNA BHVAN MEIN MACHLI PER PERTIBANDH LAGANE KE SAMBANDH MEIN PRESS KO SAMBODHIT KERTE HEALTH PRINCIPAL SECRETARY SANJAY SINGH

बिहार में आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल से आने वाली मछलियों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। यह रोक फिलहाल पटना नगर निगम क्षेत्र में रहेगी। अगर कोई इन मछलियो की बिक्री या भंडारण करते हुए पकड़ा जाता है तो उसे सात साल की जेल और दस लाख का जुर्माना देना होगा। वहीं, इस प्रतिबंध के विरोध में मछली व्यवसायी संघ खड़ा हो गया है. संघ के सचिव अनुज कुमार ने अन्य प्रदेशों से आयातित मछली में फार्मलिन सहित अन्य हानिकारक रसायनों की मात्रा निर्धारित सीमा से अधिक होने से इन्कार किया. उन्होंने कहा कि आयातित मछलियों के पटना नगर निगम क्षेत्र में बिक्री पर रोक लगाये जाने के सरकार के निर्णय के खिलाफ उनका संघ कल पटना में प्रदर्शन करेगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को एक ज्ञापन सौंपेगा. उन्होंने कहा कि सरकार यदि अपने निर्णय को वापस नहीं लेती तो है तो आगामी 17 जनवरी को राज्यव्यापी आंदोलन शुरू किया जायेगा और अदालत का भी रुख किया जायेगा.

यह भी पढ़े  सूबे में भाजपा ने दूर की नराजगी , अब सबका साथ सबका विकास के मंत्र के साथ सभी एकजुट

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि कुछ आंध्र प्रदेश और बंगाल सहित बिहार की मछली के नमूनों की जांच की गई. जांच में जो रिपोर्ट आई है उसमें पता चला है कि आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल से आनेवाली मछलियां खाने योग्य नहीं हैं.

बता दें कि बिहार सरकार के पशुपालन विभाग ने आंध प्रदेश और पश्चिम बंगाल की मछलियों का कोलकाता की लैब में जांच कराया था . जांच में मछलियों में हानिकारक फॉर्मेलिन पाया गया था। इन मछलियों के खाने से कैंसर की बीमारी होने का खतरा है. जांच की रिपोर्ट मिलने के बाद पशुपालन विभाग ने स्वास्थ्य विभाग को इन मछलियों की बिक्री पर रोक लगाने की अनुशंसा की थी.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा पटना नगर निगम क्षेत्र से इकठ्ठा किये गये आयातित मछली के 10 नमूनों की कोलकाता स्थित केंद्रीय खाद्य प्रयोगशाला में जांच कराये जाने पर उसमें से 7 नमूनों में फार्मलिन की मात्रा तय सीमा से कहीं ज्यादा पायी गया. साथ ही सभी 10 नमूनों में अन्य भारी धातुओं (लीड, कैडमियम और पारा) की मात्रा भी अधिक होने की पुष्टि हुई. उन्होंने कहा कि इसलिए नगर निगम क्षेत्र में आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल से आयातित मछलियों की बिक्री पर अगले 15 दिनों के लिए रोक लगायी गयी है. उन्होंने बताया कि राज्य के खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को अन्य प्रमुख शहरों से भी नमूने एकत्र करने को कहा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here