पटना के एतिहासिक गांधी मैदान में किया गया रावण वध कार्यक्रम,

0
23

पटनाः राजधानी पटना के एतिहासिक गांधी मैदान में रावण वध का कार्यक्रम धूम-धाम से मनाया गया. रावण वध कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्यपाल लालजी टंडन समेत अनेक मंत्री मौजूद थे. गांधी मैदान में रामलीला का भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था. वहीं, गांधी मैदान में रामलीला देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग पहुंचे थे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कार्यक्रम का उद्घायन किया. उन्होंने दीप प्रज्वलीत कर कार्यक्रम की शुरूआत की. उनके साथ मंच पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे. वहीं, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा भी मंच पर मौजूद थे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तीर कमान चलाकर रावण दहन किया. नीतीश कुमार समेत अन्य नेता भी तीर कमान लेकर खड़े दिखे. जिसके बाद रावण के पुतले को जलाया गया.

वहीं, रावण के पुतले को जलाने से पहले मेघनाथ और कुंभ करण के पुतले का भी दहन किया गया. साथ ही गांधी मैदान में आतिशबाजी का भी प्रोग्राम किया गया.

यह भी पढ़े  वंचित वर्ग मोर्चा की ओर से एएन सिन्हा संस्थान में संगोष्ठी आयोजित

रामलीला कार्यक्रम में रंगारंग कार्यक्रम का भी आयोजित किया गया था. सबसे बड़ी बात है कि कार्यक्रम ट्रांजेंडरों द्वारा आयोजित की गई थी.

इससे पहले राम, लक्ष्मण और हनुमान का रूप लेकर रामलीला में कलाकार पहुंचे थे. वहीं, लोगों की भीड़ उन्हें घेरे हुई थी.

4 साल पहले पटना में भी रावण दहन के दौरान हुआ था भीषण हादसा, गईं थीं 33 जानें
पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान मची भगदड़ में करीब 50 लोगों के मौत की खबर है. अमृतसर में जहां पर रावण दहन रखा गया था वहां से नजदीक ही रेलेव ट्रैक भी है. जैसे ही रावण दहन शुरू हुआ तो पटाखों की तेज आवाज और आग की वजह से वहां मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई. लोग नजदीक ही रेलवे ट्रैक के पास खड़े हो गए है. ट्रैक पर खड़े लोगों को वहां से तेज रफ्तार से निकलती लोकल ट्रेन ने रौंद दिया जिसके बाद करीब 50 लोगों की मौत की खबर आई है और करीब 50 लोग घायल हो गए.

यह भी पढ़े  चंपारण सत्याग्रह की महत्वपूर्ण भूमिका रही, जिसे भुलाया नहीं जा सकता :मुख्यमंत्री

पटना में 33 लोगों की मौत

साल 2014 में पटना के गांधी मैदान में रावण दहन के दौरान भगदड़ मचने से 33 लोगों की मौत हो गई थी और 29 लोग घायल हो गए थे. यह दुर्घटना उस समय हुई थी जब लोग रावण दहन के बाद पटना के गांधी मैदान से वापस लौट रहे थे. पटना के गांधी मैदान में रावण दहन का भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जाता है. मैदान में इस कार्यक्रम को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग आते हैं. गांधी मैदान से बाहर निकलती भीड़ में कुछ लोगों ने तेजी से चलने के लिए आवाजें निकालनी शुरू कीं, हो हल्ला शुरू किया.

इसके बाद एकदम से ऐसी स्थिति पैदा हुई कि लोगों में भगदड़ मच गई. चूंकि वहां लोगों की भीड़ बहुत ज्यादा थी तो एक बार जैसे ही भगदड़ शुरु हुई तो स्थितियां प्रशासन के हाथ से बाहर निकल गईं और इसका परिणाम 33 लोगों की मौत के रूप में सामने आया था.

यह भी पढ़े  12 से 14 दिसम्बर तक पूर्णिया में होगा युवा महोत्सव : ऋषि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here