पटना एम्स में हुई बिहार की पहली एंडोस्कोपिक ब्रेन सर्जरी

0
198

पटना एम्स में अत्याधुनिक तकनीकों से इलाज शुरू हो चुका है। इतना ही नहीं अब पटना एम्स में आये दिन नयी सुविधाओं का शुभारंभ हो रहा है। स्थानीय स्तर के मरीजों को लाभ तो मिल ही रहा है बल्कि दूर-दूर से एवं दूसरे जिलों से आने वाले मरीजों के लिए भी पटना एम्स वरदान साबित हो रहा है। एम्स के न्यूरोसर्जरी विभाग में पहली बार एंडोस्कोपिक ब्रेन सर्जरी की गयी है। खास बात यह है कि एम्स पटना ही नहीं बल्कि पूरे बिहार में ऐसी सर्जरी पहली बार हुई है। 60 वर्षीय मरीज को पिटय़ूटरी टय़ूमर था, जिसे नाक के रास्ते मशीन डालकर निकाल दिया गया है। ऐसी सर्जरी में बेहद बारीक चीरा लगता है और ब्लड भी बहुत कम निकलता होता है। एम्स पटना के न्यूरोसर्जन डॉ.विकास चंद्र झा और उनकी टीम ने मिलकर यह सर्जरी की है। उन्होंने बताया कि इस सर्जरी में मरीज को बेहद बारीक चीरा लगाकर यह सर्जरी करने लगभग तीन घंटे का वक्त लगा। इस सर्जरी में ब्लड लॉस भी कम ही होता है। उन्होंने बताया कि बख्तियारपुर की रहने वाली सविता देवी (बदला हुआ नाम) को एक साल से सिर में दर्द की समस्या थी और आंखों की रोशनी कम होती जा रही थी। जांच के बाद पता चला कि उन्हें पिटय़ूटरी (मस्तिष्क की एक ग्रंथि) टय़ूमर है। इस टय़ूमर को निकालने के लिए एंडोस्कोपिक ब्रेन सर्जरी की गई। बिहार के लिए यह तकनीक नई है। डॉ.झा ने बताया कि टीम में ईएनटी सर्जन डॉ. क्रांति और भारतेंदु और एनेस्थीसिया विभाग की डॉ.चांदनी और डॉ.पूनम ने भी योगदान दिया। बीते तीन महीने में विभाग में 80 न्यूरोसर्जरी की जा चुकी है।

यह भी पढ़े  पाटलिपुत्र विवि : वोकेशनल कोर्स में दाखिले के लिए परीक्षा 31 को

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here