मुख्यमंत्री ने किया जलजमाव वाले इलाकों का मुआयना,जलजमाव को लेकर विपक्ष हुआ हमलावर

0
34

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को पटना में जलजमाव वाले क्षेत्रों का भ्रमण किया और स्थिति की जानकारी ली। मुख्यमंत्री 1 अणो मार्ग स्थित आवास से नेहरू पथ होते हुये डाकबंगला चौराहा पहुंचे। इसके पश्चात गांधी मैदान, एक्जीबिशन रोड, कंकड़बाग रोड, एनएमसीएच, अगमकुआं पुल पार कर बाईपास, अनिसाबाद समेत कई स्थानों पर जलजमाव वाले क्षेत्रों का जायजा लिया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार, पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पाण्डेय, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा एवं अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे।

राजधानी में जलजमाव पर जनता ही नहीं, सत्ताधारी दल के नेता भी नाराज हैं। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने तो जनता की समस्या को देखते हुए जलजमाव की जांच कराने की मांग उठा दी है। भारी बारिश के कारण पटना में हुए भीषण जलजमाव के लिए पटना नगर निगम से त्वरित जांच की मांग करते हुए भाजपा प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा कि पटना में पिछले चार दिनों से हो रही बारिश से शहर के सारे मोहल्ले और कॉलोनियां जलमग्न हो चुकी हैं। जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। उन्होंने कहा कि खुद कंकड़बाग स्थित मेरे आवास पर ही तकरीबन साढ़े चार फीट तक पानी जमा हो चुका है, वहीं अन्य जगहों पर भी ऐसा ही हाल है। ऊपर से बिजली नहीं रहने से लोगों पर दोतरफा मार पड़ रही है। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि राज्य सरकार द्वारा पटना नगर निगम को हर संभव सहायता करने के बावजूद पटना में ऐसी स्थिति क्यों उत्पन्न हुई है? ऐसा नहीं है कि पटना नगर निगम ने अपने स्तर से प्रयास नहीं किए हैं लेकिन उसके बावजूद ऐसा भीषण जलजमाव होना कहीं न कहीं कर्मचारियों और अधिकारियों की लापरवाही को उजागर करता है।

यह भी पढ़े  पेट्रोल-डीजल 5 रपए सस्ता,अध्ययन के बाद फैसला लेगी बिहार सरकार : मोदी

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने बयान जारी कर कहा है कि राजधानी पटना सहित लगभग पूरे बिहार में भारी वष्ा होने से लोगों का जीवन मुश्किल में पड़ गया है। जल-जमाव के चलते राजधानी पटना के विभिन्न मुहल्लों की स्थिति नारकीय बन गयी है। लोगों का घर से निकलना भी मुश्किल है। उन्होंने राजधानी पटना के विभिन्न मुहल्लों से युद्ध स्तर पर पानी की निकासी करने की मांग की है। भाकपा राज्य सचिव ने बिहार सरकार से मांग की है कि पानी भरे मुहल्लों, खासकर झोपड़ीपट्टियों में राहत सामग्री, दवा, खाद्य पदार्थ की व्यवस्था अविलम्ब शुरू की जाये।

राजधानी पटना में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद डूबे शहर के कई इलाकों को लेकर जनतांत्रिक विकास पार्टी ने मुख्यमंत्री पर जोरदार हमला बोला है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल कुमार ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर मुख्यमंत्री से पूछा है कि आखिर क्या वजह है कि 14 साल के विकास के बाद भी शहर पटना बारिश के पानी से डूब गया। बारिश तो कांग्रेस और राजद के शासनकाल में भी खूब हुए, मगर क्या वजह है कि इस बारिश में रविवार को पटना में लोगों के बेड तक पानी पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि इस बारिश ने स्वघोषित विकास की पोल खोल कर रख दी है। बीते सालों में कम बारिश में भी कुछ इलाकों में पानी लगते थे लेकिन इस बार बारिश थोड़ी ज्यादा क्या हुई, नालंदा मेडिकल कॉलेज, गांधी मैदान, राजेंद्र नगर, कंकड़बाग, पटना रेलवे स्टेशन, पटना शहर का दिल डाक बंगला चौराहा आदि स्थानों पर बरसात का पानी घुस गया और जो जलजमाव की स्थिति है, उससे पटना की आम जनता का जीना दूभर हो गया है।

यह भी पढ़े  छपरा में स्कूल वैन पर बिजली का तार गिरा, 11 बच्चे झुलसे, 2 की मौत

सरकार ने नहीं की थी पहले से पर्याप्त तैयारी : डॉ. दानिश
हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (से.) के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. दानिश रिजवान ने पटना में मूसलधार बारिश से हो रही लोगों की परेशानी को देखते हुए अपनी गहरी चिंता व्यक्त की है। डॉ. दानिश ने कहा कि यह जानते हुए कि पटना में वष्ा के समय जलजमाव का संकट उत्पन्न हो जाता है, उसके बावजूद राज्य सरकार के द्वारा इससे निपटने के लिए कोई तैयारी नहीं थी जिसके कारण आम लोगों को जलजमाव के संकट से जूझना पड़ रहा है। डॉ. दानिश ने कहा कि बिहार में बारिश के कारण लोगों की परेशानियां बढ़ी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here