निलंबित एसएसपी के चार लॉकर से मिले 1.44 करोड़ ,102 घंटे तक चली छापेमारी

0
50

मुजफ्फरपुर के निलंबित एसएसपी विवेक कुमार की ससुराल मुजफ्फरनगर में चार और बैंक लॉकरों को शुक्रवार को खोला गया। इन लॉकरों में से 1. 44 करोड़ कैश और कई अहम दस्तावेज व बीमा पॉलिसी के कागजात मिले हैं। इनमें विजया बैंक में मौजूद एक लॉकर से 36 लाख, केनरा बैंक के एक लॉकर से 31 लाख रुपये के अलावा इंडियन ओवरसीज बैंक के दो लॉकरों से 45 लाख और 32 लाख रुपये मिले हैं। केनरा बैंक के लॉकर से कैश के अलावा एलआईसी की दो पॉलिसियों के कागजात भी मिले हैं। कुछ बड़े प्लॉट के और घर के कागजात भी बरामद हुए हैं। बुधवार को दो लॉकरों से 2. 05 करोड़ रुपये की संपत्ति बरामद की गई थी। चार दिनों तक इनके तीनों ठिकानों पर सर्च के दौरान इनके पास से अब तक करीब पांच करोड़ रुपये से अधिक की चल संपत्ति बरामद हो चुकी है। विवेक कुमार के पिता प्रकाश चंद्र उर्फ प्रकाश सैनी सहारनपुर में रहते हैं और ‘‘जमीन वाले’ के नाम से जाने जाते हैं। वह एक निजी दुग्ध उत्पादन कंपनी में मैनेजर थे और करीब 10 साल पहले उनकी नौकरी छूट गयी थी, लेकिन कुछ साल से वे बड़े-बड़े प्लॉट लेकर उसकी प्लॉटिंग करा बेचते हैं। का काम किया है। इस तरह उन्होंने कई कॉलोनी तैयार करवायी है। लेकिन इन सभी मामलों में उन्होंने किसानों को सीधे जमीन के पैसे खरीदारों से दिलवाये हैं। ऐसे में इनके खिलाफ कोई ठोस दस्तावेज नहीं मिले हैं। हालांकि कुछ कागजात और स्थानीय लोगों की सूचना के आधार पर इस मामले में काफी जानकारियां मिली हैं। सूत्रों के अनुसार, नोटबंदी के दौरान सहारनपुर और मुजफ्फरनगर के कई लोगों के 500 और हजार रुपये के पुराने नोटों को बिहार लाकर बदला गया है। इसी में बचे हुए करीब 65 हजार रुपये के पुराने नोट उनके आवास से मिले हैं। सूत्र यह भी बताते हैं कि नोटबंदी के दौरान बदले गये पुराने नोटों की बदौलत ही कई एफडी किये गये हैं।

मुजफफरपुर में छापेमारी खत्म, पटना लौटी टीम
निलंबित एसएसपी विवेक कुमार के आवास पर विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) टीम की  मैराथन छापेमारी शुक्रवार की शाम साढ़े छह बजे समाप्त हो गयी. करीब 102 घंटे की जांच में विवेक कुमार और उनके परिजनों की 6.47 करोड़ की संपत्ति का खुलासा हुआ है.
एसवीयू ने पटना के निगरानी थाने में आय के ज्ञात स्रोत से 2.06 करोड़ रुपये की ज्यादा संपत्ति अर्जित करने की प्राथमिकी 15 अप्रैल को दर्ज की थी. मुजफ्फरपुर, यूपी के सहारनपुर स्थित आवास और मुजफ्फरनगर ससुराल से नकद समेत 4.39 करोड़ की संपत्ति मिली है. वही एसएसपी आवास से 9एमएम का देसी कार्बाइन, कार्टिरेज व पुराने नोट की बरामदगी में अलग से प्राथमिकी नगर थाने में दर्ज की गयी है.
एसवीयू ने सोमवार की दोपहर से विवेक कुमार के तीन ठिकानों पर एक साथ छापेमारी शुरू की थी. पांच दिनों से एसवीयू की टीम एसपी एके शर्मा के नेतृत्व में लगातार एसएसपी आवास में जमी थी. इस दौरान पूरे आवास को बीएमपी के जवानों ने घेर लिया था. करीब दर्जन भर लोगों को बुलाकर टीम ने पूछताछ भी की. मुजफ्फरपुर आवास से भी  7,69,280 लाख कैश की भी बरामदगी हुई थी.
एफडी संख्या बढ़ कर 96 और लॉकर आठ   
निलंबित एसएसपी के पास अब तक 96 फिक्स डिपॉजिट (एफडी) के अलावा 18 बैंक एकाउंट, आठ बैंक लॉकर, 50 से ज्यादा किसान विकास पत्र (केवीपी) और तीन प्लॉट के कागजात मिले हैं. इनके 96 एफडी में 1.76 करोड़ और 50 केवीपी में पांच लाख (सभी 10-10 हजार के) रुपये जमा हैं, जबकि करीब 50 लाख रुपये के गहने बरामद हुए हैं. इनके पास मुजफ्फरनगर के सिखेरा, जनसथ में जमीन के तीन प्लॉट मिले हैं. इनमें 0.64 हेक्टेयर का एक प्लॉट पत्नी के नाम पर है. दो अन्य प्लॉट में एक 200 यार्ड का है, जो उनके स्वयं के नाम पर है. 15 कट्ठे के एक प्लॉट का उल्लेख उन्होंने कहीं नहीं किया है.
फरार रीडर की तलाश में गया में कई स्थानों पर छापा
इस मामले में एसएसपी के रीडर दिनेश कुमार यादव छापेमारी शुरू होने वाले दिन से ही लापता हैं. उनकी तलाश में गया के चिरैयाटांड इलाके स्थित उनके पैतृक आवास के अलावा अन्य कई स्थानों पर छापेमारी की गयी है. गया में उनकी तलाश में तीन-चार स्थानों पर छापेमारी की गयी, लेकिन वह मिले नहीं. उनकी तलाश कारबाइन मामले की हकीकत और शराब से जुड़े मामले की पूछताछ करने के लिए की जा रही है. उनकी गोपनीय शाखा की अलमारी से बरामद एक कारबाइन के अलावा एक मैगजीन और इसी हथियार के दो खोखे भी मिले हैं. इस अवैध हथियार से कहां  और कब फायरिंग की गयी, इसकी जांच भी चल रही है. अवैध हथियार मामले में एफआईआर दर्ज करने से पहले उनके रीडर से पूछताछ करना जरूरी समझा जा रहा है.
यह भी पढ़े  विधान परिषद चुनाव: नीतीश-मोदी समेत 11 को आज मिलेगा निर्वाचन का सर्टिफिकेट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here