नानी और नतिनी को ट्रक ने कुचला,दोनों की मौत

0
19

फुलवारी शरीफ – तीन साल की मासूम नतिनी को खेलाने के लिए नानी ले गयी थी अपने साथ। पास में ही सड़क किनारे खेत में भैंस चर रही थी और अभी नानी अपनी प्यारी दुलारी नतिनी को दुलार-पुचकार करने में लगी थी कि उसे ट्रक ने कुचल दिया। नानी को जरा भी अहसास नहीं था कि सड़क किनारे उसे ट्रक कुचल देगा। काल के क्रूर पंजे ने एक ही झटके में नानी और नतिनी को सदा के लिए छीन लिया। ट्रक हादसे में एक ही परिवार के दो लोगों की मौत के बाद परिजनों में चीत्कार मचा रहा वहीं पूरे गांव में मातम पसर गया। मां कलावती देवी के साथ ही तीन साल की पुत्री अस्मिता की मौत की खबर सुनकर ही बच्ची की मां सावित्री देवी का कलेजा फट पड़ा। घटनास्थल पर पहुंची सावित्री देवी पछाड़ खाकर बेटी की लाश के पास ही बेहोश हो गयी। बार-बार होश में आते ही बेटी की क्षत विक्षत लाश देख चीत्कार कर उठती और बेटी का चेहरा दिखाने की जिद करने लगती। दर्दनाक हादसे की खबर सुनकर तड़ी पर बिक्रम से घटनास्थल पहुंचे बच्ची के पिता भी अपना सुध-बुध खो बैठे। परिवार की महिलाओं के साथ बड़ी संख्या में ग्रामीण महिलाएं लाश के पास सड़क पर ही विलाप करती रहीं। मृतक बच्ची अस्मिता तीन बहनों में दूसरे नम्बर पर थी। उससे बड़ी मुस्कान और सबसे छोटी प्रिया भी मां के साथ ही रोते-बिलखते रही। मृतका कलावती देवी के भी दो बेटों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा था। मृतका के पुत्र डूमर राय ने बताया कि भांजी के साथ उसकी बहन कुछ ही दिन पहले मायके आई थी। 
रविवार की सुबह साढ़े दस बजे फुलवारी शरीफ के एनएच 98 पर चकमुसा गांव के बाहर नकटी भवानी मंदिर के पास बेलगाम रफ्तार ट्रक ने सड़क किनारे 50 वर्षीय नानी और उसकी 3 साल की नतिनी को कुचल दिया। तीन साल की मासूम बच्ची की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि उसकी नानी ने अस्पताल जाने के दौरान दम तोड़ दिया। घटना के बाद ट्रक छोड़कर चालक फरार होने में कामयाब हो गया। मृतक महिला कलावती देवी चकमुसा गांव निवासी स्व. झामिरकर राय की पत्नी थी जबकि उसकी नतिनी अस्मिता कुमारी बिक्रम के तड़ी पर निवासी धम्रेश कुमार की पुत्री थी। घटना में अपनी मां और बेटी की मौत की खबर सुनकर मासूम बच्ची की मां सावित्री देवी पछाड़ खाकर बेहोश हो गयी। परिजनों में चीत्कार मच गया और पूरे गांव में कोहराम मचा रहा।दुर्घटना में एक ही परिवार के दो लोगों की मौत के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गये और नेशनल हाईवे 98 को चकमुसा के पास जाम कर तीन घंटे तक विरोध प्रदर्शन किया। मौके पर पहुंची जानीपुर और फुलवारी शरीफ थाना पुलिस की लोगों ने एक नहीं सुनी और सड़क जाम कर डटे रहे। काफी समझाने-बुझाने के बाद ग्रामीण सड़क से हटे, तब जाकर लाशों को पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच भेजा गया।जानकारी के अनुसार, जानीपुर थाना क्षेत्र के चकमूसा गांव निवासी स्व. झामिरकर राय की पत्नी कलावती देवी (उम्र 50 वर्ष) अपने साथ गोद में तीन साल की नतिनी अस्मिता को लिए गांव के बाहर घर से थोड़ी ही दूर सड़क किनारे बैठकर अपनी भैंस चरा रही थी। इसी बीच, साढ़े दस बजे फुलवारी शरीफ की ओर से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने एकदम सड़क किनारे बैठी नानी और नतिनी को कुचल दिया। बच्ची के प्राण पखेरू मौके पर ही उड़ गये जबकि गंभीर रूप से घायल उसकी नानी कलावती देवी को तत्काल आनन-फानन अस्पताल ले जाया जा रहा था लेकिन रास्ते में ही उसने भी दम तोड़ दिया। घटना के बाद लोग चिल्लाते हुए दौड़े, तब तक ट्रक चालक गाड़ी छोड़ फरार हो गया। आक्रोशित ग्रामीण ट्रक में तोड़फोड़ करते हुए पटना-औरंगाबाद नेशनल हाईवे को जाम कर उग्र प्रदर्शन करने लगे। ग्रामीण आगजनी करते हुए ट्रक चालक को गिरफ्तार करने और वाहनों की गति पर लगाम लगाए जाने, मुआवजा देने की की मांग कर रहे थे। हादसे में दो लोगों की मौत के बाद सड़क जाम होने की खबर पर पहुंची जानीपुर और फुलवारी शरीफ थाना पुलिस की लोगों ने एक नहीं सुनी और सड़क जाम कर डटे रहे। प्रखंड उप प्रमुख संजीत कुमार, सीओ सह प्रभारी बीडीओ अरुण कुमार सिंह, फुलवारी शरीफ थानेदार अजित कुमार, जानीपुर थानेदार मोहन प्रसाद सिंह के द्वारा काफी समझाने के बाद लोग सड़क जाम हटाने को तैयार हुए। सीओ ने बताया कि मृतक के परिवार को मुआवजा दिया जायेगा। जानीपुर थानेदार ने बताया कि ट्रक जप्त कर मामला दर्ज कर लिया गया है और चालक का पता लगाया जा रहा है । 

यह भी पढ़े  लालू की बेटी मीसा भारती ने दान में लिया अत्यंत कीमती जमीन: सूमो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here