‘नंदन’ गांव में आयोजित शरद यादव के दलित महापंचायत को मिला राजद का साथ

0
60

बिहार के बक्सर जिले में समीक्षा यात्रा के दौरान जिस गांव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर हमला हुआ था, वह गांव इन दिनों राजनेताओं के लिए सियासत की उर्वर भूमि बना हुआ है. घटना के बाद से अबतक तेजस्वी यादव से लेकर लगभग सभी पार्टी के नेता नंदन गांव का चक्कर लगा चुके हैं. इसी क्रम में बुधवार को नंदन गांव में महादलित पंचायत का आयोजन करने जदयू के पूर्व वरिष्ठ नेता शरद यादव पहुंचे. वहां शरद यादव को राजद कार्यकर्ताओं का भरपुर समर्थन मिला और शरद यादव ने बिहार सरकार के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा.

शरद यादव ने कहा कि बिहार में एक सरकार चल रही है, वह आपके वोट की सरकार नहीं है. उन्होंने कहा कि बिहार में चल रहे सात निश्चय योजना धरातल से कोसों दूर है. शरद यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री  दलितों से मुलाकात करते तो इस तरह की घटना नहीं होती. लेकिन जनता से अधिक उन्हें कुर्सी से प्रेम है. उन्होंने कहा कि जब एक मुहल्लें के दलितों के साथ न्याय नहीं किया, तो बिहार की जनता के साथ क्या न्याय करेगें. इस दौरान शरद यादव ने केंद्र पर भी निशाना साधा और कहा कि मोदी सरकार बेरोजगारी दूर करने की बात हवा हवाई साबित हो चुकी है. कार्यक्रम के दौरान पूर्व मंत्री रमई राम ने कहा कि महागठबंधन में नीतीश कुमार को बिहार की जनता ने अपना मत दिया था, लेकिन वह भाजपा के गोद में जाकर बैठ गये. रमई ने कहा कि नीतीश कुमार दलित व महादलितों का विकास करने के बजाय विनाश करने पर तूले हुए है.

यह भी पढ़े  नीतीश कुमार- लालू यादव ने राष्ट्रपति को दी जन्मदिन की शुभकामना

कार्यक्रम को शरद गुट के नेताओं के साथ स्थानीय नेताओं ने भी संबोधित किया. सभी नेताओं ने केंद्र सरकार के साथ बिहार सरकार पर निशाना साधा. कार्यक्रम के दौरान अतिथि ने कहा कि 11 मार्च को पूरे राज्य में ऐतिहासिक बेरोजगार मानव श्रृंखला बनेगी. जिसमें 18 से 40 साल तक के युवा शामिल होंगें. शेषनाथ सिंह, गामा यादव, सुनील सिंह उर्फ पप्पू यादव, मेंहदी हसन सहित अन्य उपस्थित थे. इस दौरान वहां पर काफी सुरक्षा व्यवस्था का पूरा इंतजाम था. जिला प्रशासन ने शरद यादव के आगमन को लेकर पुख्ता व्यवस्था की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here