दिनदहाड़े दस हथियारबंद अपराधियों ने जेवर दुकान में की करोड़ों की डकैती

0
57

राजधानी के राजीवनगर थाना क्षेत्र में दीघा-आशियाना रोड स्थित एक ज्वेलरी शॉप पंचवटी रत्नालय में शुक्रवार को हथियारबंद डकैतों ने दिनदहाड़े धावा बोलकर करोड़ों रुपये मूल्य के आभूषण और बिक्री के रखे गए लाखों रुपये लूट लिए। बदमाशों की संख्या 10 से अधिक थी। यह दुकान आर्किटेक्ट नीतीश चंद्रा की है। वे मूलत: बेगूसराय के रहने वाले हैं और पटना के पटेलनगर में उनका मकान है। पाटलिपुत्रा में उनका एक होटल भी है। लूटपाट के क्रम में अपराधियों ने नीतीश के पिता रत्नेश चंद्रा के सिर पर पिस्तौल के बट से प्रहार कर उन्हें जख्मी कर दिया। घटना को अंजाम देने के बाद अपराधियों ने दुकान के मालिक, मालकिन और सभी कर्मचारियों को एक जगह बंधक बनाकर मेन गेट को बंद कर दिया और आराम से चलते बने। डकैत दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर भी अपने साथ ले गए, जिसमें पूरी वारदात कैद हुई थी। सूचना मिलने के थोड़ी देर के बाद आईजी से लेकर थानेदार तक ने घटनास्थल पर पहुंचकर छानबीन शुरू की। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि कितने करोड़ रुपये के जेवर की लूट हुई है। दुकानदार के करीबी लोगों की मानें तो दस करोड़ के गहने बदमाश लूट कर ले गए हैं। पूरी दुकान को बदमाशों ने साफ कर दिया। एसएसपी ने इस घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि कितने की लूट हुई है, इसका ब्योरा दुकान के मालिक से लिया जा रहा है। उधर, डीएसपी विधि व्यवस्था राकेश कुमार ने बताया कि दुकानदार ने चार करोड़ के गहने लूटे जाने की जानकारी दी है।पंचवटी रत्नालय में जब घटना हुई, उस समय वहां नीतीश चंद्रा के पिता रत्नेश चंद्रा, उनकी मां और छोटे भाई समेत 10 कर्मचारी मौजूद थे। बताया जाता है कि पहले दो-दो की संख्या में यानी चार बदमाशों ने ग्राहक बनकर दुकान में प्रवेश किया। इसके बाद पांच अन्य अपराधी भी घुस गए।सभी बदमाशों ने अपने पास हथियार ले रखा था। अभी कुछ सेकेंड ही हुए थे कि अन्य अपराधी भी दुकान में आ धमके और सभी ने हथियार का भय दिखाकर दुकान में मौजूद लोगों को अपने कब्जे में कर लिया। इसके बाद बदमाशों ने सभी लोगों से मोबाइल फोन छीन लिया। जब रत्नेश चंद्रा ने मोबाइल देने से इनकार किया तो बदमाशों ने उनके सिर पर पिस्तौल के बट से प्रहार कर उन्हें जख्मी कर दिया। इसके बाद अपराधियों ने दुकान में रखे सारे आभूषण और बिक्री के लाखों रुपये लूट लिये। लूटपाट करने के बाद बदमाशों ने सभी को एक जगह रहने को कहा और उसके बाद मेन गेट को बंद कर पैदल ही उत्तर दिशा की ओर भाग गए। थोड़ी दूर जाने के बाद सभी बदमाश एक वाहन में सवार होकर भाग निकले। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के होश उड़ गए। बाद में जोनल आईजी सुनील कुमार, डीआईजी राजेश कुमार, एसएसपी गरिमा मल्लिक समेत सिटी एसपी (मध्य) पीके दास कई डीएसपी और आधा दर्जन थानेदार मौके पर पहुंचे। डीआईजी (सीआईडी) पीएन मिश्रा भी सीआईडी की टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस टीम अलग-अलग टीम में बंटकर बदमाशों के बारे में जानकारी एकत्र कर रही थी। पुलिस जहां सीसीटीवी को खंगालने में लग गयी वहीं मौके पर फॉरेंसिक टीम का भी बुला लिया गया था। इस घटना ने पटना पुलिस को खुली चुनौति दी है।

यह भी पढ़े  जमीनी विवाद में एक ही परिवार के चार लोगों को जिंदा जलाया, दो की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here