दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ महाअभियान में मिथिला डेयरी की अनूठी पहल ….

0
481

समस्तीपुर: गांधी जयंती के अवसर पर बाल विवाह और दहेज मुक्त समाज बनाने के महाअभियान में आम से लेकर खास तक अपनी अपनी तरह से सफल बनाने के लिए एक जुट हो गए है ।

बिहार में शराबबंदी को सफलतापूर्वक लागू कर देश में उदाहरण पेश करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ हाथ उठाया तो पूरा प्रदेश खड़ा हो गया. आम लोग हो या खास लोग सबने कदम से कदम मिलाकर इस महाअभियान में साथ देना का वादा किया.

इस अभियान की गूंज न सिर्फ पटना के सम्राट अशोक कन्वेंशन हॉल गूंजी बल्कि सुदूर गाँवो तक इसकी गूंज सुनाई दी । पटना के कन्वेंशन सेंटर में 5000 लोगो के बीच जब यह संदेश मुख्यमंत्री दे रहे थे तो कल्पना भी नही थी इसकी गूंज कितने लाखो लोगो तक पहुच रही है ।

इस अभियान में हर किसी का अपना योगदान है और अनूठा योगदान निभाया भी जा रहा है । इस समाज के कोढ़ को अपने आप से दूर करने, अपने समाज से मिटा देने के लिए हर कोई ततपर है ।

बिहार में सरकार के साथ कदम ताल करती हुई सूबे की सबसे बड़ी संस्था सुधा दूध इंडस्ट्रीज कभी भी पीछे नही रही । किसी भी आवाहन पर एक कदम आगे बढ़ कर समाज के विकास में एक अहम योगदान निभाया है । खास कर बात करें मिथिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड / मिथिला डेयरी संघ की तो वह हर वह पहल जो समाज के लिए आवश्यक है या उससे समाज में परिवर्तन आ सकता है उसमें कभी पीछे नही रहा है । आज मिथिला डेयरी संघ एक पहचान बन चुका है सामाजिक सरोकारों से जुड़े कार्य के लिए । पूरे मिथिलांचल में चाहे बाढ़ ग्रस्त इलाके के लिए साहयता हो या पर्यावरण के सरंक्षण के लिए उठाए गए कदम उसमे सर्वोपरी रहा है ।

कोई भी देश कोई भी राज्य कोई भी संस्था या कोई भी परिवार तभी सुसंस्कृत और समाज के प्रति निष्ठावान होता है जब उसका मुखिया इसको अपना अहम कर्तव्य समझता हो । यही कारण होता है विकास का और अपने आप को समाज से जोड़ने का जिससे सुख समृद्धि में विर्द्धि होती है ।

आज जिस मुकाम को मिथिला डेयरी संघ ने हासिल किया है उसमें उसके प्रबन्ध निदेशक डीके श्रीवास्तव का सबसे अहम योगयदान है , समाज के प्रति सत प्रतिशत ततपरता उसे एक कार्य नही बल्कि एक कर्तव्य समझ कर अपने आप को उसमे पूर्ण रूप से समाहित करते हुए उसका निर्वहन करना उनकी खासियत है ।

मिथिला डेयरी संघ पिछले कई मौकों पर अपना अमूल्य योगयदान दिया है समाज के प्रति अपने कर्तव्यों का , उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए इस आववाहन मे भी कुछ नया कर समाज को संदेस देने का कार्य कर रहा है ।
बाल विवाह और दहेज मुक्त समाज बनाने के महाअभियान में अपनी अनूठी पहल करते हुए यह घोषणा की है कि जल्द ही मिथिला डेयरी संघ द्वारा निर्मित सभी प्रोडक्ट के पैकिंग पर बाल विबाह और दहेज मुक्त समाज का स्लोगन रहेगा । यह अपने आप मे महानतम पहल है इसके माध्यम से हजारों घरों में रोज यह संदेश जाएगा । जिससे इस अभियान की सफलता पूर्ण रूपेण सुनिश्चित होती दिख रही है । इसके पूर्व भी ‘ग्रीन इंडिया मुवमेंट” के तहत पौधरोपण भी संघ परिसर में किया गया। संघ के अधीनस्थ समितियों ने एक लाख पौधा रोपड़ की थी ।

मिथिला डेयरी संघ के प्रबंध निदेशक डीके श्रीवास्तव ने बात चीत में बताया कि आने वाले कुछ दिनों में हम अपने सारे प्रोडक्ट पर स्लोगन डालने वाले है जल्द ही नया पैकेजिंग मेटेरियल आ जायेगा इसके बाद प्रति दिन हजारो हाथों में यह संदेश हमारे प्रोडक्ट के माध्यम से जाएगा । मुख्यमंत्री जी के पहल को सफल बनाने में यह हमारा छोटा सा योगयदान है और सामाजिक कर्तव्य भी है । इस अभियान को सफल बनाने के लिए डेयरी से संबंधित सभी दुग्ध उत्पादक . निदेशक मंडल , कर्मचारीयो ने सकल्प लिया है . इस मौके पर संघ के वरिष्ठ प्रबंधक एसवी रेड्डी , एच एन सिंह , रत्नेश्वर झा आदि मौजूद थे …

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here