दलाई लामा ने पूरी दुनिया में शांति के लिए की प्रार्थना

0
56

बोधगया प्रवास पर आए तिब्बतियों के आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाई लामा ने मंगलवार को विश्व शांति के लिए विश्वदाय धरोहर महाबोधि मंदिर में भगवान बुद्ध को नमन किया। उन्होंने यहां पूरी दुनिया में शांति के लिए प्रार्थना की।

धर्मगुरु ने मंदिर के पश्चिमी द्वार से प्रवेश किया। यहां उनकी आगवानी बोधगया महाबोधि मंदिर प्रबंधकारिणी समिति के सचिव एन. दोरजे, सदस्य डॉ. अरविन्द सिंह, भिक्षु प्रभारी भंते चालिंदा, केयरटेकर भंते दीनानंद, भंते मनोज व शाक्या मोनलम फाउंडेशन के प्रमुख भिक्षु शाक्या ट्रीजीन, भिक्षु अविकृता व भिक्षु अभाया ने खादा भेंट कर किया।

आधा घंटा तक रहे प्रार्थना में लीन

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दलाई लामा ने मंदिर के गर्भगृह में लगभग आधे घंटे तक भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर पुष्पवर्षा कर विश्वशांति के लिए प्रार्थना की। इसके पहले बीटीएमसी के भिक्षुओं ने पालि भाषा में सूत्त पाठ किया, फिर लामाओं ने तिब्बती भाषा में सूत्त पाठ किया।

दलाई लामा बोले, क्षमा करें

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री नीतीश ने थारू महोत्‍सव का किया उद्घाटन, कहा- जनगणना के बाद आरक्षण के प्रतिशत में इजाफा होगा

गर्भगृह से वापसी के क्रम में धर्मगुरु की निगाह एक बोर्ड पर पड़ गई। उस पर लिखा था, पांच मिनट ही ठहरें। यह देखकर उन्होंने हाथ जोड़े और कहा, हमें क्षमा करें। हम तो यहां काफी देर ठहर गए। वे मंदिर परिसर से अच्छा है, अच्छा है, अच्छा है कहते हुए बाहर निकले। मंदिर परिक्रमा के दौरान उन्होंने पुन: हिंदी शब्द का उच्चारण करते हुए व्यवस्था पर कहा कि सुन्दर है, सुन्दर है।

श्रद्धालुओं से पूछा कुशलक्षेम

इससे पहले मंदिर में प्रवेश और वापसी के क्रम में धर्मगुरु ने पवित्र बोधिवृक्ष के समक्ष पुष्पवर्षा और हाथ उठाकर आराधना की। उन्होंने मंदिर परिसर में खड़े तिब्बती व विदेशी श्रद्धालुओं के नजदीक जाकर उनका कुशलक्षेम भी पूछा। उस दौरान कई तिब्बती श्रद्धालुओं की आंखे नम हो गईं। धर्मगुरु की सुरक्षा व्यवस्था की कमान उप विकास आयुक्त सह प्रभारी जिलाधिकारी राघवेन्द्र प्रताप सिंह, एसएसपी गरिमा मलिक, सिटी एसपी जे. जलारेड्डी और डीएसपी सतीश कुमार ने संभाल रखी थी।

यह भी पढ़े  Patna Local Photo 04/06/2018

पश्चिमी द्वार तक वाहन से पहुंचे

धर्मगुरु महाबोधि मंदिर में पूजा-अर्चना करने तिब्बत मंदिर से निकले और पश्चिमी प्रवेश द्वार तक वाहन से पहुंचे। उनके मंदिर जाने की सूचना पाकर सैकड़ों की संख्या में तिब्बती बौद्ध श्रद्धालुओं कतारबद्ध होकर उनका स्वागत किया। श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए काफी संख्या में पुलिस के अधिकारी व महिला-पुरुष बल की तैनाती की गई थी।

चकाचक की गई सड़क

धर्मगुरु के आवागमन वाले मार्ग को मंगलवार की सुबह पानी से धोया गया। बीते सोमवार तक मस्जिद मार्ग में मलवा पड़ा था, उसे हटाकर पानी से धो कर चकाचक किया गया। जयप्रकाश उद्यान की जालीदार चारदीवारी में उजले रंग का पर्दा लगाकर सुरक्षा कारणों से ढक दिया गया था।

मंदिर में प्रवेश पर लगी रोक

दलाईलामा के महाबोधि मंदिर में प्रवेश के लगभग एक घंटे पहले आम श्रद्धालुओं को मंदिर में जाने से रोक दिया गया। जो मंदिर परिसर में पहले से थे, उन पर वहां तैनात जवानों की पैनी निगाह थी। मंदिर में मुख्य प्रवेश द्वार को बंद कर दिया गया था। धर्मगुरु के मंदिर से वापसी के बाद आम श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में जाने की इजाजत दी गई।

यह भी पढ़े  हमारी सरकार आयी तो चौथी पास को भी बनायेंगे सिपाही

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here