दरभंगा व भागलपुर में शुरू होगा एसटीपीआइ:रविशंकर प्रसाद

0
34
Patna-Feb.2,2019-Union Law Minister Ravishankar Prasad is delivering his lecture at foundation stone laying function of an incubation centre at Software Technology Park of India (STPI) at Gyan Bhawan in Patna.
केंद्रीय सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि दरभंगा व भागलपुर में नौ फरवरी को सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया का शुभारंभ होगा. इसके लिए दो-दो एकड़ जमीन उपलब्ध हो गयी है. सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआइ), पटना में इन्क्यूबेशन केंद्र के विस्तारीकरण का शिलान्यास के मौके पर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि  डिजिटल इंडिया का मतलब समावेशी विकास है.
उन्होंने कहा कि बिहार स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क, सहज तकनीक योजना व पंचायत स्तर पर कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) को इंडिया नेट के साथ संबद्ध कर डिजिटल सेवाएं उपलब्ध कराये जाने की योजना का शुभारंभ केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने किया.
उन्होंने कहा कि बिहार को आइटी के क्षेत्र में स्टेट ऑफ दी आॅर्ट सेंटर बनाना है. पटना में नौ बीपीओ व पूरे बिहार में 28 हजार कॉमन सर्विस सेंटर कार्यरत है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश में 121 करोड़ लोग मोबाइल से जुड़े हैं. 123 करोड़ आधार कार्ड से जुड़ गया है. उन्होंने मुख्यमंत्री से इ-सेवा का दरवाजा खोलने का आग्रह किया.
आईआईटी में न्यू इंडिया मंथन कार्यक्रम में ‘‘भारत में डिजिटल परिवर्तन’ विषय पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और विधि न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश को दुनिया की बड़ी ताकत बनाना है।इसके लिए सभी लोगों को साथ देना होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया की शुरुआत कर देश को नयी दिशा देने का काम किया। आज देश की 130 करोड़ आबादी में 121 करोड़ लोग मोबाइल फोन का और 56 करोड़ लोग इंटरनेट सर्विस का उपयोग करते हैं। ढांचागत डिजिटल सेवा को मजबूत करना ही डिजिटल इंडिया का मुख्य उद्देश्य है। ढाई लाख ग्राम पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा गया है। ‘‘आधार’ की संख्या 61 करोड़ से बढ़कर 123 करोड़ हो गयी है। उन्होंने कहा कि डिजिटल गवनेर्ंस इज गुड गवन्रेस। आयुष्मान भारत पर र्चचा करते हुए बताया कि इस योजना के तहत 5 लाख लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा दी गयी है। वहीं, सीएससी के तहत 12 लाख लोगों को डायरेक्ट और इनडायरेक्ट रोजगार दिया गया है। 60 हजार महिलाओं को डायरेक्ट इंप्लॉय बनाया गया है। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की देन है कि आज दो मोबाइल फोन फैक्ट्री से बढ़ाकर 127 हो गयी है। उन्होंने कहा कि देश तब जागता है जब देश को जगाने वाला ईमानदार सिपाही हो। आप लोगों को देश को जगाना है। जीवन में गुस्से में कोई कार्य नहीं करना चाहिए। कड़ी मेहनत से हर कार्य संभव है। ज्ञान कहीं से मिले उसे ग्रहण करना चाहिए। छात्र-छात्राओं द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि हमने अटल जी से बहुत कुछ सीखा है। वहीं, मोदी ने अपने आप को ऊर्जावान बनाया। न्यायालयों में लंबित मामले के निष्पादन के लिए सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में डिजिटल लाइब्रेरी बनाने की बात कही। उन्होंने छात्रों से हेरिटेज पर गर्व करने की अपील की। इस मौके पर आईआईटी के निदेशक डॉ. पुष्पक भटाचार्या, आलोक त्रिपाठी, डॉ. सत्यप्रकाश, त्रिपुरारी शरण, डॉ. प्रीतम, प्रियंका देओल सहित सैकड़ों छात्र-छात्राएं मौजूद थे।
यह भी पढ़े  अब भाजपा व जदयू की ‘‘केमिस्ट्री’ रंग दिखाने लगी,गोयल और मुख्यमंत्री ने जम कर की एक दुसरे की तारीफ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here