तेलंगाना और राजस्थान में वोटिंग जारी

0
12

राजस्थान और तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए आज वोटिंग का दिन है। राजस्थान की 199 सीटों और तेलंगाना की 119 सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। एक तरफ जहां राजस्थान में मुख्य मुकाबला सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस के बीच है, वहीं तेलंगाना में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और मिजोरम के बाद अब राजस्थान और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जा रहे हैं। तेलंगाना में 119 सीटों के लिए सुबह 7 बजे से वोटिंग शुरू हो चुकी है। यहां की नक्सल प्रभावित 13 सीटों पर शाम 4 बजे और बाकी सीटों पर शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे। राज्य में शुरुआती घंटों में तेज वोटिंग की खबरें हैं। वहीं, राजस्थान में 199 सीटों के लिए सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू हुई। अलवर जिले की रामगढ़ सीट से बीएसपी उम्मीदवार के निधन की वजह से वहां वोटिंग नहीं हो रही है।

राजस्थान में जहां मुख्य मुकाबला सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस के बीच है। वहीं, तेलंगाना में सत्ताधारी टीआरएस, कांग्रेस-टीडीपी गठबंधन और बीजेपी में त्रिकोणीय लड़ाई की संभावना है। एमपी, छत्तीसगढ़, मिजोरम समेत पांचों राज्यों में 11 दिसंबर को मतगणना होगी।

यह भी पढ़े  अयोध्या पर नई पहल, कोर्ट से बाहर समझौता; हाजी महबूब ने लिखी चिट्टी

राजस्थान के रण में कुल 2,274 उम्मीदवार
राज्य में 20 लाख से अधिक मतदाता पहली बार वोट डाल रहे हैं। मतदान के लिए दो लाख से ज्यादा ईवीएम-वीवीपैट का इस्तेमाल किया जा रहा है और ईवीएम के साथ-साथ पूरे राज्य में वीवीपैट मशीनों का उपयोग पहली बार हो रहा है। यहां की 199 विधानसभा सीटों के लिए कुल 4,74,37,761 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं। इनमें 2,47,22,365 पुरुष और 2,27,15,396 महिला मतदाता है।

राज्य के 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2,274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इंडियन नैशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 1, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से 16 और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 28 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि 817 गैर मान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी एवं 830 निर्दलीय उम्मीदवार हैं।

राजस्थान चुनाव: जानिए क्या है वोटों का पूरा गणित

राजस्थान में विधानसभा की कुल सीटों की संख्या 200 है लेकिन एक सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया है। अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का 29 नवम्बर को निधन हो गया। वहां का चुनाव स्थगित कर दिया गया है। निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव के लिए सूबे में 1,44,941 जवानों को तैनात किया गया है, जिनमें केंद्रीय सुरक्षा बलों की 640 कंपनियां शामिल हैं। राज्य में कुल 387 नाके और चेक पोस्ट लगाए गए हैं।

यह भी पढ़े  जय शाह ने अपने कारोबार में कुछ भी गलत नहीं किया :अमित शाह

तेलंगाना में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार
राज्य में सत्तारूढ़ टीआरएस, कांग्रेस-टीडीपी गठबंधन और बीजेपी में त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है। तेलंगाना में पहली बार मतदाता सत्यापन पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) का उपयोग किया जा रहा है। वोटिंग सुबह 7 बजे शुरू हो चुकी है और शाम 5 बजे संपन्न होगी। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के रूप में चिन्हित की गईं 13 सीटों पर मतदान शाम 4 बजे तक ही होगा।

राज्य में कुल 2.80 करोड़ मतदाता विधानसभा चुनाव में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने जा रहे हैं। इस चुनाव के लिए कुल 32,815 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। तेलंगाना विधानसभा चुनाव मूल रूप से अगले साल लोकसभा चुनाव के साथ-साथ होना था लेकिन राज्य कैबिनेट की सिफारिश के मुताबिक 6 सितंबर को विधानसभा भंग कर दी गई थी। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने समय से पहले चुनाव कराने का विकल्प चुन कर एक बड़ा दांव चला था। सत्तारूढ़ टीआरएस को कड़ी चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने टीडीपी, तेलंगाना जन समिति और सीपीआई के साथ एक गठबंधन बनाया है। टीआरएस और बीजेपी अपने-अपने दम पर चुनाव लड़ रही हैं।

यह भी पढ़े  MP उपचुनाव में बंपर वोटिंग, कोलारस में 72.82% और मुंगावली में 77.35% मतदान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here