तेज प्रताप का ‘धार्मिक पर्यटन’ कार्यक्रम अगले दो ढाई हफ्ते और चलेगा

0
8
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे व पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव तलाक मसले पर 29 नवंबर को होने वाले सुनवाई से पहले नहीं लौटने की जिद पर पूरी तरह अड़े हैं. परिजनों से बातचीत में उन्होंने साफ कर दिया है कि जब तक पत्नी ऐश्वर्या से तलाक के मसले पर उनको परिवार का साथ नहीं मिलेगा और कुछ ‘भेदिये’ घर से बाहर नहीं निकाले जायेंगे, तब तक वे घर नहीं लौटेंगे. शर्त नहीं माने की स्थिति में तेज प्रताप का ‘धार्मिक पर्यटन’ कार्यक्रम अगले दो ढाई हफ्ते और चलेगा.
 
परिवार से जुड़े चार लोगों पर सीधा निशाना
तेज प्रताप यादव अपने घर से जुड़े जिन तीन-चार लोगों पर सीधा निशाना साध रहे हैं, वे कभी उनके काफी करीबी हुआ करते थे. इनमें एक ओम प्रकाश  यादव उर्फ भुट्टू तेज प्रताप  के स्वास्थ्य मंत्री रहते उनके पीए हुआ करते थे. रिश्ते में  चचेरे भाई जिस ओम प्रकाश की कोई भी बात तेज प्रताप  नहीं टालते थे, आज वही सबसे बड़े  गुनहगार बन गये हैं.
दूसरे नागमणि लंबे समय  से तेज प्रताप की मां राबड़ी  देवी का काम देख रहे हैं. वह ओम प्रकाश यादव के  बड़े भाई हैं. तीसरे  बिपिन  तेज प्रताप के ससुर चंद्रिका राय के पीए और  उनके रिश्तेदार भी हैं. बताया जाता है कि तेज  प्रताप और ऐश्वर्या की शादी में बिपिन ने  बड़ी भूमिका निभायी थी. परिवार के करीबी रहे रंजन यादव नामक व्यक्ति से भी तेज खासे नाराज बताये जाते हैं.
वृंदावन में ही धार्मिक पर्यटन कर रहे तेज प्रताप 
इधर, तेज प्रताप वृंदावन में ही अपने चार साथियों के साथ धार्मिक पर्यटन कर रहे हैं. वे पूरी तरह ब्रज के रंग में रंगे हैं. मीडिया की खोजबीन भी उनको पसंद नहीं आ रही. गेस्ट हाउस में स्थानीय पत्रकारों द्वारा पूछताछ करने पर झल्लाये तेज प्रताप ने कहा कि मुझे अपने तरीके से जीने दो भाई. यहां मैं श्रीकृष्ण की आराधना के लिए आया हूं. कृपया आप लोग मेरा पीछा न करें, हस्तक्षेप न करें.
तेज की जिद से डिप्रेशन में लालू
तेज प्रताप की जिद का असर लालू प्रसाद के स्वास्थ्य पर भी पड़ रहा है. इसको लेकर परिवार के सभी सदस्य चिंतित हैं. इलाज कर रहे डॉक्टर बता रहे हैं कि लालू प्रसाद पूरी नींद नहीं ले पा रहे. उनका बीपी व शुगर लेवल बढ़ा गया है. इसके चलते इंसुलिन की मात्रा बढ़ानी पड़ी है. ऐसा ज्यादा दिन रहा तो उनके स्वास्थ्य पर खासा बुरा असर पड़ेगा. वहीं, दूसरी ओर समूचे लालू-राबड़ी परिवार की सुख, शांति व खुशहाली के लिए उनके पुरोहित पंडित राज मिश्रा की अगुवाई में विंध्यवासिनी मंदिर में नौ दिवसीय यज्ञ अनुष्ठान भी चलाया जा रहा है.
 
राजद गठबंधन की राजनीति पर ब्रेक 
लालू परिवार का पूरा ध्यान तलाक मुद्दे पर होने की वजह से गठबंधन में सीट शेयरिंग के मुद्दे पर बातचीत नहीं हो पा रही. यहां तक कि सीट शेयरिंग को लेकर कोर्डिनेशन कमेटी का गठन भी नहीं हुआ है. उम्मीद है कि छठ बाद इस पर निर्णय होगा.
देर शाम पटना लौटे तेजस्वी, कहा परिवार से अधिक देश-प्रदेश की चिंता
पटना : नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव रांची में पिता लालू प्रसाद से मिल कर देर शाम पटना वापस लौट आये. पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए तेजस्वी ने कहा कि शनिवार को ही हमें पिता जी से मिलने का मौका मिलता है. उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं. डॉक्टरों से दरख्वास्त की कि उनका ख्याल रखें. तेज प्रताप के तलाक से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि परिवार के निजी मामले में किसी को नहीं पड़ना चाहिए. अगर हम पीएम या सीएम के निजी जिंदगी से जुड़े सवाल उठाएं, तो अच्छा नहीं लगेगा. मेरी चिंता भी परिवार से अधिक देश-प्रदेश की है. निजी मुद्दों की बजाय देश-समाज के ज्वलंत मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए.
यह भी पढ़े  तेजस्वी यादव की यात्रा पर हायतौबा क्यों : राजद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here