तमिलनाडु में एक अरुणाचल प्रदेश में दो विधान सभा के लिए आज उपचुनाव, मतदान जारी

0
11

तमिलनाडु में आरके नगर विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं. पिछले साल पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत के बाद यह सीट खाली हुई थी. वोटों की गिनती 24 दिसंबर को होगी. इस सीट पर अच्छा खासा घमासान पहले ही मचा हुआ है. चुनाव आयोग इससे पहले अप्रैल में इस चुनाव को रद्द कर चुका है. इस समय भी एआईएडीएमके पर पैसा बांटने का आरोप लगा था और कई ठिकानों से कुल 90 करोड़ रुपये बरामद किए थे.

चेन्नई सिटी पुलिस कमिश्नर एके विश्वनाथन ने बताया कि इलाके में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं ताकि मतदान  बिना किसी हंगामे के हो सकें.

कुछ दिन पूर्व भी डीएमके नेता एमके स्टालिन ने आरोप लगाया है कि सत्ताधारी पार्टी एआईएडीएमके की ओर से 100 करोड़ बांटे जाने का आरोप लगाया है. इसको लेकर स्टालिन की ओर से एक शिकायत भी की है. एमके स्टालिन का कहना है कि 13 करोड़ रुपये कल ही बरामद किए गए हैं. स्टालिन का दावा है कि एआईएडीमके ने हर वोटर को 6 हजार रुपये दिए हैं पैसा बांटने में पुलिस का भी सहयोग है.

यह भी पढ़े  जयराम ठाकुर बनेंगे हिमाचल प्रदेश के नए सीएम, 27 दिसंबर को होगा शपथग्रहण

इसी बीच बता दें कि पिछले साल दिसंबर में दिवंगत हुईं तमिलनाडु की भूतपूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता एक वीडियो वायरल हुआ है. अस्पताल के बेड पर बैठे हुए, कोई पेय पीते हुए और शायद TV देखते दिखाई दे रही हैं, जो उनके अस्पताल में बिताए वक्त का पहला वीडियो है.

अरुणाचल प्रदेश उपचुनाव : दो सीटों पर आज हो रहा मतदान, वीवीपैट पहली बार हो रहा इस्तेमाल

अरुणाचल प्रदेश विधानसभा की दो सीटों पर उपचुनाव के लिए आज मतदान हो रहा है. पूर्वी कामेंग जिले की पाक्के. केसांग सीट और लोअर सियांग की लीकाबली सीट पर सुबह सात बजे से जारी हुआ मतदान शाम चार बजे तक मतदान होगा. संयुक्त सीईओ ने जानकारी दी कि पाक्के केसांग में 150 मतदानकर्मियों जबकि लीकाबाली में मतदान के लिए 220 मतदानकर्मियों की तैनाती की गई है. चुनाव आयोग ने पूरी मतदान प्रक्रिया की देखरेख के लिए सामान्य तौर पर एवं व्यय पर नजर रखने वाले पर्यवेक्षक नियुक्त किये हैं.

यह भी पढ़े  शिवराज सरकार को उखाड़ फेंकने तक नहीं पहनूंगा फूलों की माला

मतदान दल और चुनाव सामग्री मतदान केन्द्रों पर कल ही पहुंचा दी गई थीं. संयुक्त मुख्य चुनाव अधिकारी डी जे भट्टाचार्य ने कहा कि ईवीएम और मतदाता सत्यापन पर्ची प्रणाली मतदान केन्द्रों पर लगाई जा चुकी थी. वीवीपैट प्रणाली का राज्य में पहली बार प्रयोग होने जा रहा है. उन्होंने कहा कि पुख्ता सुरक्षा बंदोबस्त किये गये हैं और राज्य पुलिस, आईटीबीपी तथा केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बलों की चार कंपनियों की तैनाती की गई है. उन्होंने कहा कि संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर सीआरपीएफ और आईआरबी जवानों की तैनाती की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here