टीम इंडिया का वेस्‍टइंडीज से मैच, MS धोनी के स्‍ट्राइक रेट ने बढ़ाई विराट कोहली की चिंता

0
89

वेस्‍टइंडीज टीम छह मैचों में से चार मैच हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है.ऐसे में वह टीम इंडिया के खिलाफ मैच में सम्‍मान बचाने की खातिर मैदान में उतरेगी. भारतीय टीम भले ही अभी तक अजेय है लेकिन पिछले मैच में अफगानिस्‍तान के खिलाफ जीत के लिए उसे एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ा था.

वर्ल्‍डकप 2019 में अब तक अपराजेय टीम इंडिया गुरुवार को अपने छठे लीग मैच में वेस्‍टइंडीज का सामना करेगी. भारतीय टीम जहां टूर्नामेंट में अब तक कोई मैच नहीं हारी है, वहीं इंडीज टीम छह मैचों में से चार मैच हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है. इंडीज टीम के केवल तीन अंक है, ऐसे में वह टीम इंडिया के खिलाफ मैच में सम्‍मान बचाने की खातिर मैदान में उतरेगी. भारतीय टीम भले ही अभी तक अजेय है लेकिन पिछले मैच में अफगानिस्‍तान के खिलाफ जीत के लिए उसे एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ा था. विराट कोहली ब्रिगेड जब सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी वेस्टइंडीज की खतरनाक टीम (West Indies Team) से भिड़ेगी तो टीम प्रबंधन की मुख्य चिंता महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni)की बल्लेबाजी और उनका बल्लेबाजी क्रम होगी.

लीग चरण अपने अंत की ओर बढ़ रहा है और ऐसे में भारत एक और जीत के साथ सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करना चाहेगा. लेकिन यह कहना जितना आसान है उसे करना उतना आसान नहीं होगा. जेसन होल्‍डर की वेस्टइंडीज की टीम के पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है और वे बाकी मैचों में अन्य टीमों का समीकरण बिगाड़ने की कोशिश करेगी. दूसरे पावर प्ले के महत्वपूर्ण ओवरों में पूर्व कप्तान धोनी की विफलता ने कप्तान विराट कोहली की चिंता थोड़ी बढ़ाई है. धोनी ने अफगानिस्तान के खिलाफ बेहद धीमी बल्लेबाजी करते हुए 52 गेंद में 28 रन बनाए और इसके लिए उन्हें काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा. यहां तक कि आम तौर पर शांत रहने वाले सचिन तेंदुलकर ने भी उनके रवैये पर सवाल उठाए थे.

यह भी पढ़े  Airtel को पीछे छोड़ Jio बनी दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

टीम प्रबंधन भी इस समस्या से वाकिफ है लेकिन अब जब चार लीग मैच बचे हैं तब उनके पास एकमात्र विकल्प धोनी के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव करना है. संभवत: इससे केदार जाधव (Kedar Jadhav)को अधिक गेंद खेलने को मिल सकती हैं जो अपने शॉट चयन में नयापन लाने के लिए पहचाने जाते हैं. हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya)का इस्तेमाल अब तक फ्लोटर के रूप में हुआ है लेकिन अफगानिस्तान के खिलाफ मैच ने दिखाया कि अगर उन्हें दूसरे छोर से सहयोग नहीं मिलता है तो फिर उन पर काफी दबाव आ जाता है. कोहली और कोच रवि शास्त्री अब तक ऋषभ पंत का इस्तेमाल करने को लेकर काफी उत्सुक नजर नहीं आए हैं. टीम प्रबंधन अगर विजय शंकर (Vijay Shankar)को बाहर करने का फैसला करता है तो ही ऋषभ पंत (Rishabh Pant)को टीम में जगह मिल सकती है. वेस्टइंडीज की टीम में काफी तेज गेंदबाज हैं और ऐसे में धोनी को स्ट्राइक रोटेट करने में आसानी हो सकती है क्योंकि वह धीमे गेंदबाजों के खिलाफ सहज होकर नहीं खेल पा रहे हैं. पिछले मैच में अफगानिस्तान के धीमे गेंदबाजों ने इसका काफी फायदा उठाया था.

यह भी पढ़े  भागलपुर, बांका, पूर्णिया, किशनगंज, कटिहार में मतदान जारी , 68 उम्मीदवारो में मुकाबला महज 12 के बिच

आईपीएल में धोनी की बल्लेबाजी और भारत के लिए 50 ओवर के प्रारूप में उनके प्रदर्शन में अंतर को लेकर काफी बहस हो रही है. चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से खेलते हुए धोनी ने भारत के एक अनुभवहीन घरेलू गेंदबाज को निशाना बनाया जबकि बड़े अंतरराष्ट्रीय नामों के खिलाफ सुरक्षित क्रिकेट खेला. लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करने के दौरान उन्होंने कागिसो रबाडा या जोफ्रा आर्चर जैसे गेंदबाजों के खिलाफ कोई जोखिम नहीं उठाया जबकि अन्य गेंदबाजों के खिलाफ रन जुटाए. टीम को धोनी की रणनीति और तेजतर्रार विकेटकीपिंग की जरूरत है और ऐसे में कप्तान और कोच को उनकी भूमिका पर काफी माथापच्ची करनी होगी. दूसरी तरफ पाकिस्तान के खिलाफ शानदार शुरुआत के बावजूद वेस्टइंडीज की टीम वर्ल्‍ड कप में सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी है लेकिन टीम टूर्नामेंट का सकारात्मक अंत करना चाहेगी. आंद्रे रसेल (Andre Russel)पैर की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण बाहर हो गए हैं और इससे टीम को बड़ा झटका लगा है.

टीम के तेज गेंदबाजी विभाग ने हालांकि बेहतरीन क्षमता दिखाई है. शेल्डन कोटरेल और ओशेन थॉमस की युवा तेज गेंदबाजी जोड़ी ने काफी प्रभावित किया है. कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा काफी अच्छी फार्म में हैं और ऐसे में भारतीय बल्लेबाजों और वेस्टइंडीज के गेंदबाजों के बीच अच्छा संघर्ष देखने को मिल सकता है. ‘यूनिवर्सल बास’ क्रिस गेल से अब भी बड़ी पारी का इंतजार है और कोहली उम्मीद कर रहे होंगे कि कल होने वाले मैच में ऐसा नहीं होगा. गेल के खिलाफ जसप्रीत बुमराह का शुरुआती स्पैल मैच की रूपरेखा तैयार कर सकता है जबकि वेस्टइंडीज के मध्यक्रम को कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की चुनौती का सामना करना होगा. न्यूजीलैंड के खिलाफ कार्लोस ब्रेथवेट ने शानदार पारी खेली और वेस्टइंडीज को जीत की दहलीज पर ले गए थे. ब्रेथवेट हालांकि धीमे गेंदबाजों के खिलाफ सहज नजर नहीं आते. कुल मिलाकर भारत की राह आसान नहीं होगी लेकिन इसके बावजूद हाल के प्रदर्शन को देखते हुए टीम जीत की प्रबल दावेदार है.

यह भी पढ़े  'जरूरत होगी तो बिहार में BJP अकेले लड़ेगी चुनाव':गिरिराज

दोनों टीमें इस प्रकार हैं
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, विजय शंकर, हार्दिक पंड्या, महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, रवींद्र जडेजा, दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत.
वेस्टइंडीज: जेसन होल्डर (कप्तान), क्रिस गेल, शाई होप, शिमरोन हेटमायर, कार्लोस ब्रेथवेट, शेल्डन कोट्रेल, ओशेन थामस, केमार रोच, एश्ले नर्स, निकोलस पूरण, सुनील अंबरीश, एविन लुईस, शेनन गैब्रिएल, डेरेन ब्रावो और फाबियान एलेन.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here