जोकीहाट उपचुनाव में मिली जीत के बाद तेजस्वी के इस ट्वीट पर मचा बवाल

0
47
file photo

राजद नेता तेजस्वी यादव के एक ट्वीट से बिहार में राजनीतिक विवाद पैदा हो गया है. उन्होंने इस ट्वीट में हाल में जोकिहाट सीट पर हुए उपचुनाव में पार्टी की जीत पर खुशी जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू की हार का मजाक उड़ाया था. विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के इस ट्वीट की निंदा करते हुए जदयू ने उनकी औपचारिक शिक्षा की कमी पर निशाना साधा.

विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के इस ट्वीट की निंदा करते हुए जद (यू) ने उनकी औपचारिक शिक्षा की कमी पर निशाना साधा। राजद ने भी पलटवार करते हुए कहा कि कालिदास और तुलसीदास जैसे महान कवियों के पास भी अकादमिक योग्यता नहीं थी और उन्होंने चुनौती दी कि सत्तारूढ़ पार्टी मुख्यमंत्री एवं उनके 28 वर्षीय नेता के बीच खुली बहस की व्यवस्था कर ले।
जोकिहाट विधानसभा सीट को जद (यू) से छीनने और 41,000 से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज करने के एक दिन बाद यादव ने कल भोजपुरी में ट्वीट किया था।

यह भी पढ़े  आरक्षण से छेड़छाड़ मुमकिन नहीं : आरसीपी सिंह

राजद ने भी पलटवार करते हुए कहा कि कालिदास और तुलसीदास जैसे महान कवियों के पास भी अकादमिक योग्यता नहीं थी और उन्होंने चुनौती दी कि सत्तारूढ़ पार्टी मुख्यमंत्री एवं उनके 28 वर्षीय नेता के बीच खुली बहस की व्यवस्था कर ले.

मालूम हो कि जोकिहाट विधानसभा सीट को जदयू से छीनने और 41,000 से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज करने के एक दिन बाद तेजस्वी यादव ने कल भोजपुरी में ट्वीट किया था. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘क्या नीतीश चच्चा जी ..! अंतरात्मा अभी जागेगी कि नहीं… कि अब भी मोदीजी के डर से अंतरात्मा सोई ही रहेगी? चुप क्यों हैं चच्चा ..? ये बच्चा तो सब चुनाव ही जीत रहा है. कहां गयी आपकी चमक ?? अब समझ में आ गया कि 2015 में किसके नाम पर वोट मिला था ?’

तेजस्वी यादव के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए जदयू विधायक एवं प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि जिस भाषा का उन्होंने इस्तेमाल किया उससे मैं हैरान हूं. मैंने उनसे ऐसी उच्च स्तरीय भाषा की अपेक्षा नहीं की थी जबकि वह हाईस्कूल भी पास नहीं कर पाये हैं. पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव को राजद अपना अगला उत्तराधिकारी घोषित कर चुका है.

यह भी पढ़े  नीतीश कुमार को आपसी वैमनस्य भुलाकर वापस आ जाना चाहिए:रघुवंश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here