जनता के अधिकार की रक्षा करे पुलिस :मुख्यमंत्री

0
13

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वरीय पुलिस पदाधिकारी एवं जवानों को अपने कार्य के प्रति सजग रहने की नसीहत दी है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हम लोग चुनी हुई सरकार हैं, लेकिन हमारा काम अपराधियों को पकड़ना नहीं है। अपराधियों को पकड़ने का काम पुलिस का है। सरकार पुलिस को हर संसाधन उपलब्ध करा रही है लेकिन जनता के अधिकार की रक्षा करने का दायित्व आप लोग निभाएं। बिहार में हर हाल में कानून का राज कायम रहे, दोषी बचे नहीं और निदरेष फंसे नहीं यही हमारी आपसे अपेक्षा है।’ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को राजगीर के मोरा गांव के पास 133 एकड़ जमीन पर 275 करोड़ रुपये की लागत से बनी राज्य की पहली पुलिस अकादमी का उद्घाटन करने के बाद कहीं। इस पुलिस अकादमी का शिलान्यास मुख्यमंत्री ने 13 अगस्त 2010 को किया था। प्रशिक्षुओं को आवासीय व्यवस्था छोड़कर शेष सभी व्यवस्था पूरी कर ली गई हैं। इस प्रशिक्षण केंद्र में पहला बैच की शुरुआत सोमवार से शुरू हो गयी। उन्होंने कहा कि ‘‘राजगीर में नवनिर्मित पुलिस अकादमी मिल का पत्थर साबित होगा। इस अकादमी में महिला व पुरु ष पुलिसकर्मियों सहित आईपीएस अफसरों तक को प्रशिक्षण दिया जाएगा। पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण के साथ-साथ मानवता की भी सीख लेनी होगी।’ उद्घाटन के बाद समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार से झारखंड राज्य अलग हो जाने के बाद यहां पुलिस अकादमी केंद्र नहीं बचा था। उसकी कमी खल रही थी। उन्होंने कहा कि पुलिस अकादमी के लिए इस जगह को चुनने का मकसद सिर्फ इतना था कि राजगीर का महत्व ऐतिहासिक है। धार्मिक व पौराणिक सभी दृष्टिकोण से यह क्षेत्र गौरवान्वित करता है। यह स्थल सभी धर्मो (हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई) का केंद्र है। पुलिस अकादमी राजगीर में सिर्फ एसपी, डीएसपी और सब इन्सपेक्टर के लिए ही नहीं, बल्कि सभी पुलिसकर्मियों के लिए भी प्रशिक्षण की व्यवस्था होगी। उन्होंने पुलिस अकादमी में बचे काम को छह माह के अंदर पूरा कर देने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां चार हजार सिपाहियों की आवासन केंद्र का भी निर्माण कार्य जल्द पूरा होगा। उन्होंने कहा कि काफी संख्या में पुरु ष पुलिस बलों की बहाली हो रही है। पुलिस बलों की सभी उपयोगी संसाधनों को पूरा किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को अच्छा प्रशिक्षण देने के साथ-साथ मानवता को बनाये रखने की भी ट्रेनिंग दी जायेगी। उन्होंने अकादमी के लोगों को कहा कि आप धन राशि की चिंता न करें, प्रशिक्षण के दौरान होने वाले खर्च को सरकार वहन करेगी। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने नालंदा विविद्यालय का गलत नाम से प्रयोग न करने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा कि इसे नालंदा इंटरनेशनल विविद्यालय नहीं, सिर्फ नालंदा विविद्यालय कहें। मुख्यमंत्री ने पुलिस अकादमी परिसर को हरा भरा करने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि परिसर में बड़ी संख्या में पेड़ लगायें, जिसमें अजरुन का भी वृक्ष भी हो। वृक्ष लगने से शुद्ध पर्यावरण के साथ-साथ लोगों का स्वास्य भी अच्छा रहेगा। उद्घाटन के बाद आज से 142 डीएसपी की ट्रेनिंग शुरू हो गयी। इस पुलिस अकादमी में 2200 सब इंसपेक्टर और 142 डीएसपी सहित 4000 पुलिसकर्मियों को ट्रेनिंग दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशिक्षण केंद्र में आने वाले समय में आईपीएस की ट्रेनिंग होगी। समारोह संबोधन के पूर्व मुख्यमंत्री ने 90 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले सिपाही प्रशिक्षण संस्थान केंद्र का भी शिलान्यास किया। इस मौके पर ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, सांसद कौशलेंद्र कुमार, गृह सचिव आमिर सुहानी, मुख्य सचिव दीपक कुमार, पुलिस महानिदेशक सुनील कुमार, पुलिस महानिदेशक के एस द्विवेदी, पीटीसी महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय प्रोजेक्ट डायरेक्टर विजय सौरभ सहित अन्य गणमान्य पदाधिकारी व प्रशिक्षु मौजूद थे।

यह भी पढ़े  सातवे दिन माता की अर्चना और आराधना के साथ पंडालों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here