चीन और रूस लेजर हथियारों समेत अंतरिक्ष में अमेरिका की स्थिति को चुनौती दे रहे हैं

0
9

पेंटागन की एक नई रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि चीन और रूस लेजर हथियारों समेत अपनी अंतरिक्ष क्षमता विकसित कर रहे हैं, जो अमेरिकी उपग्रहों को लक्षित और उसे क्षतिग्रस्त कर सकता है. रक्षा खुफिया एजेंसी की सोमवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार, “चीन और रूस अंतरिक्ष आधारित प्रणालियों पर अमेरिका की निर्भरता का लाभ उठाने के लिए कई तरह की चीजों को विकसित कर रहे हैं और अंतरिक्ष में अमेरिका की स्थिति को चुनौती दे रहे हैं.”

सीएनएन के अनुसार, “‘चैलेंज टू सिक्योरिटी इन स्पेस’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में रूस, चीन, ईरान और उत्तर कोरिया की अंतरिक्ष क्षमताओं की जांच की गई है.” अमेरिकी उपग्रह उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम और रूस और चीनी सेना की गतिविधियों पर नजर रखने के साथ नौवहन, हथियारों को लक्ष्य करने और खुफिया जानकारी जुटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि बीजिंग और मॉस्को ‘दोनों उपग्रहों और उनके सेंसर में व्यवधान उत्पन्न करने या उसे क्षतिग्रस्त करने के लिए संभवत: अपने लेजर हथियारों के क्षेत्र में काम कर रहे हैं.’ रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि चीन के पास पृथ्वी की निचली कक्षा में उपग्रहों तक मार कर सकने वाली मिसाइल क्षमता है, जबकि रूस इस दिशा में आगे बढ़ने की प्रक्रिया में है.

यह भी पढ़े  ट्रूडो की भारतीय रंग में रंगी इस यात्रा से दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में मजबूती आएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here