घाटों पर सफाई व सुरक्षा का करें बंदोबस्त : सीएम

0
16
PATNA C M NITISH KUMAR STEAMER SE AJ CHATT KE MADENAZAR PATNA KE SABHI GHATON KA NIRAKSHAN KERTE

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोकआस्था के महापर्व छठ के मद्देनजर शनिवार को पटना के छठ घाटों का निरीक्षण किया। नीतीश ने यहां के दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के गायघाट तक स्टीमर से गंगा घाटों का निरीक्षण किया। उन्होंने इस दौरान घाटों की सफाई, सुरक्षा एवं स्वच्छता के संबंध में पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने लगभग दो घंटे तक निरीक्षण के दौरान नासरीगंज से गायघाट के बीच सभी छठ घाटों पर पर्व के दौरान छठव्रतियों को किसी तरह की कठिनाई न हो इसके लिये निर्देश भी दिये। मुख्यमंत्री के साथ निरीक्षण के दौरान पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, ऊर्जा मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव, आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चंद्र यादव, पटना की महापौर सीता साहू, मुख्य सचिव दीपक कुमार , जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव त्रिपुरारी शरण के साथ ही कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

छठ को लेकर गंगा घाटों की तैयारी जोरों पर है. कई जगहों पर घाटों का निर्माण किया जा रहा है, जबकि कुछ जगहों पर घाटों पर जाने के लिए एप्रोच रोड बनाने के लिए भी काम जारी है.
जिला प्रशासन से लेकर नगर निगम के अधिकारी लगातार घाटों पर कैंप कर रहे हैं. इस बार कई घाट एक साथ जुड़ गये हैं, जबकि कई घाटों पर जाने के लिए नये सिरे से रास्ता का निर्माण किया जा रहा है. फिलहाल ऐसी स्थिति दीघा के तरफ घाट नंबर 95 से लेकर कुर्जी तक सभी पांच घाट एक साथ जुड़ गये हैं. इसमें घाट नंबर 95, घाट नंबर 93, घाट नंबर 88, घाट नंबर 83 के साथ बगल में कुर्जी घाट आता है. इन सभी घाटों को एक साथ मिलने से गंगा तट पर घाटों की लंबाई लगभग डेढ़ किमी तक पहुंच गयी है. अगर कोई गंगा किनारे एक घाट पर आता है तो नीचे से ही सभी घाटों पर जा सकता है.
गेट नंबर 88 है संकरा : इन सभी घाटों जाने के लिए अलग-अलग रास्ता है. गेट नंबर 93 से घाट पर जाने के लिए अभी से रास्ता बनाया जा रहा है. एक जेसीबी, ट्रैक्टर और रोलर लगाकर रास्ता बनाने का काम किया जा रहा है. इस घाट पर जाने के लिए लगभग पांच सौ मीटर से अधिक की दूरी तय करनी होगी. आधा रास्ता बालू से भरा हुआ है. अगर बेहतर रास्ते का निर्माण नहीं किया जाये तो परेशानी होगी. वहीं गेट नंबर 88 वाले घाट का आधा रास्ता पक्का है.
कुर्जी घाट पर दलदल अभी अधूरा है काम 
इन पांच घाटों में घाट नंबर 95, घाट नंबर 93 और घाट नंबर 88 के लिए रास्ता का निर्माण जारी है. घाट पर शौचालय का निर्माण पूरा कर लिया गया है. इन घाटों पर अभी वॉच टावर, हैंडपंप लगाने का काम बाकी है.
इसके अलावा अभी घाट पर दलदल की स्थिति बनी हुई है. पानी लगातार घट रहा है. इसलिए अभी केवल बैनर लगाकर छोड़ दिया गया है. वहीं घाट नंबर 83 और कुर्जी घाट की स्थिति अभी ठीक नहीं है. इन दोनों घाटों पर बहुत काम बाकी है. पूरा गंगा किनारे दलदल की स्थिति बनी हुई है.
घाटों पर पार्किंग व्यवस्था 
इन सभी घाटों पर वाहन पार्किंग की व्यवस्था की जा रही है. जेसीबी से जमीन साफ कर मैदान तैयार किया जा रहा है. सभी घाटों पर पांच सौ से अधिक वाहन पार्क करने की व्यवस्था की जा रही है. पार्किंग स्थलों पर भी लाइट और बैरिकेडिंग की व्यवस्था की जायेगी. इस घाटों पर जाना लोगों के लिए अन्य घाटों की अपेक्षा जाना आसान होगा.
पटना : मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार ने लोक आस्था के महापर्व छठ पर्व के मद्देनजर शनिवार को  छठ घाटों का निरीक्षण किया. उन्होंने स्टीमर से दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के गायघाट तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया और घाटों की सफाई, सुरक्षा एवं स्वच्छता के संबंध में पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने स्टीमर पर पहुंचते ही गंगा घाट के नजरी मानचित्र का अवलोकन किया. लगभग दो घंटे तक नासरीगंज से गायघाट के बीच अवस्थित सभी छठ घाटों का मुख्यमंत्री ने अवलोकन किया.
ये रहे मौजूद : ऊर्जा मंत्री  विजेंद्र प्रसाद यादव, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, आपदा प्रबंधन मंत्री  दिनेश चंद्र यादव, पटना नगर निगम की मेयर सीता साहू, मुख्य सचिव  दीपक कुमार, प्रधान सचिव जल संसाधन  त्रिपुरारी शरण, प्रधान सचिव गृह आमिर सुबहानी, प्रधान सचिव पथ निर्माण  अमृत लाल मीणा, प्रधान सचिव ऊर्जा  प्रत्यय अमृत, प्रधान सचिव नगर विकास विभाग  चैतन्य प्रसाद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव  चंचल कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक एसके सिंघल समेत कई बड़े अधिकारी मौजूद रहे.
कुर्जी घाट के आगे कटाव ज्यादा, कार्रवाई सुनिश्चित  करें
कुर्जी एवं एलसीटी घाट के निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी इसमें और अधिक काम करने की आवश्यकता है. इसमें अभी और जेसीबी लगाना होगा और तीव्र गति से कार्य कराना जरूरी है.
घाटों पर अच्छी ड्रेसिंग की भी जरूरत है. उन्होंने कहा कि कुर्जी घाट के आगे कटाव ज्यादा हो रहा है. ऐसा कटाव पिछले वर्ष नहीं था.  उन्होंने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि कटाव पर नजर रखें और समुचित कार्रवाई सुनिश्चित  करें.  उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन घाटों पर सीढ़ी का कॉन्सेप्ट नहीं है, वहां अच्छे से स्लोप बनाया जाये ताकि छठ व्रतियों को घाटों तक पहुंचने में कोई कठिनाई न हो. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि घाटों तक पहुंचने की कनेक्टिविटी भी दुरुस्त
की जाये.
बैरिकेडिंग सुनिश्चित करें
मुख्यमंत्री ने पानी के लेवल को देखकर घाटों पर बैरिकेटिंग सुनिश्चित कराने को कहा. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जहां भी श्रद्धालु भारी संख्या में अर्घ्य देने के लिए आते हैं, उन्हें अर्घ्य देने में असुविधा न हो, इसका पूरा ध्यान रखने की जरूरत है.
उन्होंने कहा कि छठव्रतियों के अतिरिक्त दूसरे श्रद्धालु भी आते हैं, इसके कारण होने वाली भीड़ को देखते हुए आवागमन को दुरुस्त रखना होगा.  इस संबंध में भी उन्होंने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. मुख्यमंत्री दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के गायघाट तक गंगा तटों पर चल रहे छठ घाटों की अब तक तैयारी से संतुष्ट नजर आये.
निरीक्षण के दौरान उन्होंने मौके पर मौजूद जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव, पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव, नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव, बुडको एवं नगर निगम के अधिकारियों को छठ घाटों तक एप्रोच रोड, बिजली, साफ-सफाई का समुचित इंतजाम करने का निर्देश दिया.
यह भी पढ़े  एनआईआईएफटी में नामांकन को 29 तक करें आवेदन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here