घाटों पर छठ व्रतियों को कोई कठिनाई नहीं हो : मुख्यमंत्री

0
9
Patna-Nov.8,2018-Bihar Chief Minister Nitish Kumar along with Deputy Chief Minister Sushil Kumar Modi are inspecting several ghats on a ship at Ganga river in Patna for holy Chhath festival.

छठ लोक आस्था का महापर्व है। छठ के समय गंगा नदी पर लाखों की संख्या में लोग अघ्र्य देने के लिए आते हैं। हमने शुरू से ही कहा है कि घाटों पर किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो। ज्यादा से ज्यादा घाटों का निर्माण कार्य शुरू किया जा रहा है। लोगों के आने-जाने के लिए रास्ता सुगम हो, इसका ध्यान रखकर घाटों को तैयार किया जा रहा है। एक साल ऐसी घटना घट गई थी कि उसके बाद से इस पर हम लोगों ने विशेष ध्यान रखना शुरू किया है। छठ व्रत करने वाले लोगों को किसी तरह की कोई कठिनाई नहीं हो, इसके लिए घाटों की गहराई पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। 03 नवम्बर को भी हमने मुआयना किया था और कुछ सुझाव दिये थे। साथ ही यहां दोबारा 8 नवम्बर को आने की बात कही थी। यह बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोक आस्था के महापर्व छठ पर्व के मद्देनजर आज दूसरी बार छठ घाटों का निरीक्षण करने के बाद कही। उन्होंने स्टीमर से दानापुर के नासरीगंज से खाजेकलां घाट तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया और घाटों की सफाई, सुरक्षा एवं स्वच्छता के संबंध में पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि काम तेजी से हो रहा है और बेहतर हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘‘ कुछ और निर्देश दिये गये हैं, जिसे दो दिनों के अंदर ठीक कर लिया जाएगा। मुख्य सचिव को भी हमने कहा है कि वे स्वयं इस पर निगरानी रखें। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी और नगर आयुक्त इन सब चीजों की निगरानी कर रहे हैं और तैयारी संतोषजनक है। हम लोग तो फैसीलिटी देते हैं लेकिन हर साल छठव्रतियों की संख्या बढ़ती जा रही है, इसको भी ध्यान में रखकर तैयारी की जा रही है। मुख्यमंत्री ने लगभग ढाई घंटे तक नासरीगंज से खाजेकलां घाट के बीच अवस्थित सभी छठ घाटों का बारीकी से अवलोकन किया और लगातार अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते रहे ताकि छठव्रतियों को किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो। मुख्यमंत्री ने छठव्रतियों की सुविधा के लिए सीढ़ी और स्लोप ठीक कराने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि घाटों तक पहुंचने की कनेक्टिविटी भी दुरुस्त की जाय। साथ ही सभी घाटों पर उपयुक्त बिजली की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। घाटों के कटाव के मद्देनजर उन्होंने कहा कि पानी के लेवल को देखकर वहां बैरिकेडिंग सुनिश्चित करायी जाय। उन्होंने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि कटाव पर नजर रखें और समुचित कार्रवाई सुनिश्चित करें। घाटों के आसपास बालू के जमाव को हटाने के साथ-साथ नदी के बीच में कहीं-कहीं जमा हुए बालू को भी हटाने का निर्देश दिया। डिसिल्टेशन से घाटों एवं नदी के बहाव को ठीक रखा जा सकता है। डिसिल्टेशन की वजहों का अध्ययन कराने का भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जहां भी श्रद्धालु भारी संख्या में अघ्र्य देने के लिए आते हैं, उन्हें अघ्र्य देने में असुविधा न हो, इसका पूरा ध्यान रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि छठव्रतियों के अतिरिक्त परिवार के श्रद्धालु भी आते हैं, इसके कारण होने वाली भीड़ को देखते हुए आवागमन को दुरुस्त रखना होगा। इस संबंध में भी उन्होंने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। मुख्यमंत्री दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के खाजेकलां घाट तक गंगा तटों पर चल रहे छठ घाटों की तैयारी से संतुष्ट नजर आये।

यह भी पढ़े  जीएसटी परिषद की बैठक में छोटे कारोबारियों, सर्राफा कारोबारियों और आम लोगों को बड़ी राहत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here