घंटेभर की बारिश से झील बनीं सड़कें

0
44
Patna-Sep.21,2019-A view of waterlogged rain water at JP roundabout near Hotel Maurya in Patna after heavy rain fall.

करीब घंटेभर की मूसलधार बारिश ने शनिवार को शहर की कई सड़कों को पानी से लबालब भर दिया। खेतान मार्केट, लंगर टोली, टीएन बनर्जी रोड जैसे व्यस्त इलाकों की दुकानों में जहां पानी घुस गया, वहीं सड़कों पर लगे वाहन भी बारिश की पानी में डूब गए। स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल पटना में नाला उड़ाही और जल निकासी के नाम पर इस वर्ष भी 13 करोड़ रपए से अधिक राशि खर्च की गई, लेकिन हश्र सामने है। बारिश रुकने के बाद जिन इलाकों से जल निकासी हुई वहां की सड़कें और गलियां कीचड़ से सन गई। खेतान मार्केट, लंगरटोली, टीएन बनर्जी रोड, बिहारी साव लेन जैसे इलाकों में बारिश का पानी सिर्फ सड़कों तक ही नहीं, दुकानों में भी घुस गया। नतीजतन अधिकतर दुकानों के शटर गिरा दिये गए। इन सड़कों पर इतना पानी जमा हो गया कि दो पहिया और चार पहिया वाहन भी डूब गए। जलजमाव के कारण आज का व्यापार पूरी तरह चौपट हो गया। बाईपास से सटे इलाके भी डूबेपटना बाईपास से सटे एलआईजी कॉलोनी, हाउसिंग कॉलोनी, रामलखन पथ, चांगड़ समेत कई अन्य इलाकों की सड़कें भी पानी से भर गई। पानी भर जाने से सड़कों और गलियों के रास्ते बंद हो गए। दुकानें भी नहीं खुलीं। प्रभावित इलाकों में दो लाख से ज्यादा की आबादी फंसी रही।चलते रहे पंप, सोखते रहे संप फिर भी नहीं निकला पानीनगर निगम के दावे को मानें तो सभी संप हाउस चलते रहे, लेकिन हकीकत यह रही कि जलनिकासी नहीं हुई। नाला जाम रहने के कारण यह स्थिति है। नाले में फट्टा गैंग ने फ ट्टा मारा, लेकिन सब बेकार रहा। ऊपर से नगर निगम का दावा है कि सभी 38 संप चालू हैं और जलनिकासी हो रही है।जलमग्न सड़कों पर वाहनों का परिचालन बंद, लोग परेशान खेतान मार्केट, ठाकुबाड़ी रोड, सब्जीबाग, बिहारी साव लेन, अबुलास लेन, करगिल, रामगुलाम चौक, टीएन बनर्जी रोड जैसे इलाकों में जलजमाव के कारण लोग वाहन ले जाने से कतराने लगे। जो वाहन इन मागरे पर गए वह जल जमाव में फंसे। किसी वाहन के साइलेंसर में पानी घुसा तो किसी का इंजन बंद हो गया। कई वाहनों को धक्का देकर साइड करना पड़ा। राजधानी को स्मार्ट बनाने की होड़ में पाट दिए गए नालेपटना को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए कई प्रमुख नाले उपर से पाट दिए गए, जिसकी सतह तक उड़ाही नहीं हुई। जल निकासी का मुख्य नाला वादशाही पैन पर भी अतिक्रमण कायम है। इस नाले के माध्यम से पानी पुनपुन नदी में जाकर गिरता है। अशोक राजपथ, कंकड़बाग रोड, बोरिंग रोड आदि इलाकों के नाले भी उपर से पाट दिये गए, लेकिन सतह तक उड़ाही नहीं हुई।जल निकासी योजनाओं तक ही सिमटीं नगर निगम की बैठकेंजन सुविधा उपलब्ध कराने की जिम्मेवारी संभालने वाला नगर निगम जल जमाव से निजात दिलाने के मुद्दे पर बरसात से पहले चार-पांच विशेष बैठकें कर चुका। मेयर, निगमायुक्त और वार्ड पार्षदों की उपस्थिति में हुई इन बैठकों में योजनाएं बनी, लेकिन नतीजा आज सामने है। वाबजूद इसके निगम का यह दावा है कि जल निकासी के लिए गैंग काम कर रहा है। जल निकासी हो रही है।

यह भी पढ़े  39टॉपरों को मिलेगा गोल्ड मेडल गोल्ड मेडल पाने वालों में 24 छात्राएं शामिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here