गुनगुनी धूप ने दी ठंड से हल्की राहत,कोहरे की मार कायम , राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनें रद

0
47

राजधानी समेत राज्य के विभिन्न जिलों में कई दिनों बाद शुक्रवार को धूप निकली तो लोगों ने राहत की सांस ली। दोपहर बारह बजे से ढाई-तीन बजे तक धूप रहने से मौसम सुहाना बना रहा। इस बीच लोग घरों से बाहर निकले तथा पिछले कई दिनों से लंबित कामों का निपटारा करते देखे गए। कई दिनों बाद बाजार में रौनक दिखी तथा लोगों ने सड़कों पर, पाकरे में गुनगुनी धूप का आनंद लिया। लेकिन तीन-चार बजने के बाद अचानक मौसम ने यू टर्न लिया तथा तेज ठंडी हवाओं से वातावरण में सिहरन बढ़ गई। दरअसल, राजधानी समेत पूरा सूबा पिछले तीन सप्ताह से भीषण शीतलहर की चपेट में है। इस सप्ताह तो ठंड ने अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ दिए। इस बीच न्यूनतम तापमान के साथ ही साथ अधिकतम तापमान में भीषण गिरावट दर्ज की गई। शुक्रवार को भी हालांकि दिन में धूप निकली, लेकिन ठंडी हवा चलने से शीतलहर से एक पल के लिए भी राहत नहीं मिली। मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार को भी दिन का तापमान सामान्य से दस डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान में थोड़ी वृद्धि दर्ज की गई। मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा है कि आने वाले सात दिनों तक शीतलहर से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। आसमान साफ रहने से अधिकतम तापमान में थोड़ी वृद्धि दर्ज की जा सकती है, लेकिन कोहरा और ठंडी हवा की वजह से न्यूनतम तापमान में अभी और गिरावट दर्ज की जाएगी। शुक्रवार को राजधानी के अधिकतम तापमान में धूप निकलने से कुछ वृद्धि हुई जिससे लोगों को राहत मिली।इसी तरह, न्यूनतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस रहा। इसी तरह भागलपुर का अधिकतम तापमान 14.6 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान 6.8 डिग्री सेल्सियस जबकि गया का अधिकतम तापमान 21.0 तथा न्यूनतम तापमान 10.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

यह भी पढ़े  बिहार विधानमंडल बजट सत्र का आज आखिरी दिन, विकास को लेकर होगी विशेष चर्चा

भीषण कोहरे के कारण ट्रेनों का परिचालन बुरी तरह प्रभावित चल रहा है। नई दिल्ली से आने वाली राजधानी एक्सप्रेस लगातार विलंब से चल रही है। शुक्रवार को भी कोई सुधार नहीं हुआ। नई दिल्ली से आने वाली 12310 राजधानी एक्सप्रेस शुक्रवार को रात 11 बजे के आसपास पहुंची। ट्रेनों के घंटों विलंब से चलने के कारण शुक्रवार को राजेंद्र नगर टर्मिनल से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस समेत आधे दर्जन ट्रेनों को रद करने की घोषणा की गई। सबसे अधिक परेशानी विक्रमशिला व हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस के यात्रियों को उठानी पड़ी। आनंदविहार से आने वाली विक्रमशिला एक्सप्रेस आज 17 घंटे विलंब से चलकर रात में 11.30 बजे के बाद ही जंक्शन पहुंची। ट्रेन में इतनी भीड़ थी कि पैर रखने तक की जगह नहीं थी। इसी तरह हावड़ा से आने वाली 12023 जनशताब्दी एक्सप्रेस देर रात 8 बजे के बाद हावड़ा से ही खुली थी। सुबह पांच बजे के बाद ही यह पटना जंक्शन पहुंचने वाली थी। इसके यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सबसे अधिक खाने-पीने के सामान न मिलने से परेशानी हो रही थी। दुर्गापुर से आ रहे निखिल चन्द्रा ने बताया कि यह ट्रेन शाम 4 बजे के बजाय रात में 10.30 बजे दुर्गापुर पहुंची। 1राजधानी एक्सप्रेस लेट होने की वजह से नाश्ते और भोजन को लेकर यात्रियों व पैंट्रीकार कर्मियों के बीच तू-तू, मैं-मैं होते रही। सुबह का नाश्ता दोपहर में, दोपहर में भोजन शाम में तथा शाम का नाश्ता देर रात को दिया गया।

यह भी पढ़े  दलाई लामा का 2 जनवरी से 3 फरवरी तक गया में प्रवास ,पुलिस महकमा अलर्ट

भीषण ठंड और घना कुहरा ट्रेन यात्रियों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। घने कुहरे की वजह से ट्रेनों का परिचालन सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। कोहरे की वजह से बृहस्पतिवार-शुक्रवार को भी ज्यादातर ट्रेनें घंटों विलंब रहीं, वहीं एक दर्जन से अधिक ट्रेनें रद्द रहीं। ट्रेनों के अचानक रद्द हो जाने, उसका शिड्यूल बदल जाने तथा घंटों विलंब परिचालन से यात्रियों को भारी परेशानी हो रही है। आलम यह है कि यात्रियों को अपने सफर में लगने वाले समय से अधिक समय तक जंक्शन पर ठिठुरते हुए इंतजार में गुजारना पड़ रहा है। दरअसल, ठंड के दिनों में जैसे-जैसे कोहरे का प्रकोप बढ़ता है, ट्रेनों का परिचालन भी प्रभावित होता है। हालांकि इस समस्या से निपटने के लिए रेलवे ने पहले ही बड़ी संख्या में लंबी दूरी की ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया था, ताकि बाकी ट्रेनों का परिचालन ठीक से किया जा सके। बावजूद, ट्रेनों के परिचालन में कोई सुधार नहीं दिख रहा है। आलम यह है कि ट्रेन पर सफर करना यात्रियों के लिए सजा बन गई है। परिवार एवं बच्चों के साथ यात्रा करने वाले यात्रियों का तो और भी बुरा हाल है। लंबी दूरी की ट्रेनें इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं। शुक्रवार को भी विभिन्न दिशाओं की ओर जाने वाली तथा वहां से आने वाली दर्जनों ट्रेनें विलंबित रहीं। नतीजा यह है कि पटना जंक्शन की ओर आने वाली तथा यहां से खुलने वाली कई गाड़ियां अगले दिन खुल पा रही हैं।

यह भी पढ़े  4 घंटे 40 मिनट रहेंगे पीएम मोदी, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here