गांधी मैदान में आज पतंग उमंग उत्सव मनाने जुटेंगे लोग

0
99
HOTEL BUDHA HERITEGE ME MAKAR SANKARANT KE MAUKA SE PATANGBAZI KERTE

प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने पटनावासियों से अपील की है कि मकर संक्रांति के दिन 14 जनवरी को अपने पूरे परिवार के साथ 11 बजे दिन से 02 बजे दिन तक पतंग उमंग उत्सव 2018 का आनंद उठाने के लिए गांधी मैदान आयें। पतंग उमंग उत्सव के दौरान गीत, संगीत एवं नृत्य का भी आयोजन किया गया है। कार्यक्रम में दिल्ली के प्रख्यात पतंगबाज सुजीत चौधरी और दीपक मिश्रा पतंग उड़ाएंगे। सांस्कृतिक कार्यक्रम में गैंग ऑफ वासेपुर की नायिका अनुरिता झा, अमृता झा, गायिका जिज्ञासा जगवार एवं गायक विनय राय के बेहतरीन गायन का प्रदर्शन होगा। नेट डांस तथा ट्रांस जेंडर ग्रुप की भी प्रस्तुति होगी। अभिनेता निखिल सांस्कृतिक कार्यक्रम की उद्घोषणा करेंगे।आम लोगों के बीच भी पतंगबाजी प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी। प्रख्यात पतंगबाजों द्वारा बेहतर एवं कलात्मक ढंग से पतंग उड़ाने वाले प्रतियोगी का प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार के लिए चयन किया जायेगा। पतंग उमंग उत्सव में बड़े-बड़े साइज के आकर्षक पतंग देश एवं राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से आये हुए उड़ायंगे। डिजाइनर एवं आकर्षक कलाकृति के पतंग जो प्रख्यात पतंगबाजों द्वारा दिल्ली से लाया जा रहा है, आम लोगों को भुगतान के आधार पर उपलब्ध कराया जायेगा। पतंग उमंग उत्सव में भुगतान के आधार पर दही, चूड़ा, गुड़, तिलकूट एवं जलेबी के पैकेट आम लोगों को उपलबध कराया जायेगा। सादे एवं आकर्षक पतंग पर सरकार की विभिन्न योजनाओं का श्लोगन यथा-सात निश्चय, आर्थिक हल युवाओं को बल, आरक्षित रोजगार महिलाओं का अधिकार, हर घर बिजली लगातार, हर घर नल का जल, घर तक पक्की गली नालियां, शौचालय निर्माण घर का सम्मान, अवसर बढ़े आगे पढ़े, बाल विवाह एवं दहेज उन्मूलन, शराब बंदी, स्वच्छ बिहार, स्मार्ट बिहार एवं ग्रीन बिहार के नारों के साथ प्रतियोगिता आयोजित होगी जिसमें विजेता को प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार दिया जायेगा। पतंग उमंग उत्सव-2018 में भुगतान के आधार पर लटाई एवं पतंग आम लोगों को प्राप्त होगा। बाल विवाह विरोधी, दहेज विरोधी, शराब बंदी के संबंध में भी सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होगा। पतंग उमंग उत्सव-2018 में चाईना धागा का उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। हर हालत में पतंगबाज चाईना धागा का उपयोग नहीं करेंगे। विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार दिया जायेगा। प्रशासन द्वारा सुरक्षा की सारी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई है। दंडाधिकारियों, पुलिस बल एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की जायेगी।2012 में शुरू हुआ था पतंग महोत्सवराजधानी में मकर संक्रांति के मौके पर पतंग महोत्सव की परंपरा 2012 में पटना सिटी के गांधी सरोवर मैदान से आरंभ हुई थी। पहला आयोजन सामाजिक संस्था पाटलिपुत्र परिषद ने राज्य सरकार के साथ मिलकर किया था। सरकार ने महोत्सव के संयोजन का दायित्व पाटलिपुत्र परिषद के महासचिव संजीव कुमार यादव को सौंपा था। पतंगबाजी प्रतियोगिता में देश के कई भागों के पतंगबाजों ने भाग लिया था, जिन्हें तब उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सम्मानित किया था। संयोजक संजीव कुमार यादव भी सम्मानित हुए थे, लेकिन पटना सिटी के इस मैदान में कोर्ट के आदेश पर सभी तरह के समारोहों पर प्रतिबंध लगने के बाद पतंगोत्सव दियारा में और फिर इस बार गांधी मैदान में आयोजित हो रहा है। 

 मकर संक्रांति की पूर्व संध्या पर सकारात्मक सोच व नई उड़ान का प्रतीक माने जाने वाले पतंग महोत्सव-2018 का आयोजन किया गया। होटल बुद्धा हेरिटेज के तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में अतिथियों ने पतंगबाजी से संबंधित अपने कौशल का खुले आसमान में जमकर प्रदर्शन किया। पतंग महोत्सव में शामिल लोगों ने एक-दूसरे को पतंग पर आधारित अपनी कई स्वलिखित कविताएं भी सुनायीं। साथ ही मकर संक्रांति का विशिष्ट भोज्य पदार्थ माना जाने वाला तिलकुट भी एक-दूसरे को खिलाया। इसके पश्चात आयोजित पतंग उड़ान प्रतियोगिता में शामिल लोगों ने प्रतिस्पर्धा में खुले आसमान में रंगबिरंगे पतंग उड़ा पूरे आसमान को पतंगों से आच्छादित कर दिया। मौके पर उपस्थित होटल के वाइस प्रेसिडेंट अनवर खान, आलेख सिंह, गौतम दत्ता समेत अन्य लोग मौजूद थे। 

यह भी पढ़े  बिहार को चौथी बार मिला कृषि कर्मण पुरस्कार : प्रेम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here