गया दुष्‍कर्म कांड पर गरमाई सियासत,RJD नेताओं पर पीड़िता की पहचान उजागर करने का केस दर्ज

0
68

एक डॉक्टर के सामने उसकी पत्नी और बेटी से गैंगरेप मामले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है. इन नेताओं पर मगध मेडिकल थाना में पीड़िता से जबरदस्ती मिलने, फोटो खिंचवाने और पहचान उजागर करने के आरोप दर्ज किये गये हैं. कांड संख्या 130/18 के तहत राजद के प्रधान महासचिव आलोक मेहता, राजद महिला सेल की अध्यक्ष आभा लता, बेलागंज के विधायक सुरेंद्र यादव, जिला अध्यक्ष निजाम आलम, जिला महिला अध्यक्ष सरस्वती देवी को नामजद किया गया है. इसके अलावा 8-10 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है.

बिहार के गया जिले में एक शख्स के सामने ही उसकी पत्नी और बेटी के साथ गैंगरेप मामला अब शर्मनाक ढ़ंग से राजनीतिक रंग ले चुका है. इस मामले में लालू यादव की पार्टी (आरजेडी) नेताओं के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. उनपर आरोप है कि गैंगरेप पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए आयोजित प्रदर्शन के दौरान पीड़िता की पहचान उजागर की. नाबालिग पीड़िता आरजेडी नेताओं के सामने गिड़गिड़ाती रही, लेकिन नेताओं ने सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में जबरन उससे सवाल पूछते रहे. इस घटना का वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

यह भी पढ़े  अरुण जेटली के बहाने PM नरेंद्र मोदी पर क्यों हमले कर रहे हैं यशवंत सिन्हा

वीडियो के आधार पर अब पुलिस ने केस दर्ज की है. आरजेडी के जिन नेताओं के खिलाफ केस दर्ज किया गया उनमें पूर्व सांसद आलोक मेहता के अलावा आरजेडी महिला सेल की अध्यक्ष आभा लता, बेलागंज विधायक सुरेन्द्र प्रसाद यादव, आरजेडी जिलाध्यक्ष निजाम आलम, महिला आरजेडी जिलाध्यक्ष सरस्वती देवी समेत छह नेता शामिल हैं. सभी के खिलाफ पुलिस ने मगध मेडिकल थाना में आईपीसी की धारा 114, 147, 353, 228 A के तहत प्राथमिकी दर्ज की है. गैंगरेप पीड़िता और उसके परिवार वालों की पहचान उजाकर किया जाना अपराध है.

अब तक दो गिरफ्तार
गैंगरेप के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर किया है. बिहार के गया जिले के कोंच थाना क्षेत्र में बुधवार रात एक व्यक्ति को बंधक बनाकर उसकी 55 वर्षीय पत्नी और 15 वर्षीय बेटी के साथ गैंगरेप किया गया था. पुलिस के मुताबिक, आंती थाना क्षेत्र का रहने वाला एक शख्स अपनी मोटरसाइकिल से पत्नी और बेटी के साथ घर जा रहा था, तभी सोनडीहा गांव के पास आठ से दस लोगों ने मोटरसाइकिल रोक ली. बदमाशों ने शख्स को पेड़ से बांध दिया और उसकी पत्नी व बेटी को दूर ले जाकर दोनों के साथ गैंगरेप किया था.

यह भी पढ़े  महागठबंधन में राजद के कारण नीतीश की कुछ ज्यादा ही किरकिरी होती थी !

पीड़िता ने दोषियों के खिलाफ फांसी की सजा की मांग की है. 15 वर्षीय पीड़िता ने कहा कि दोषियों को जल्द गिरफ्तार कर उसे फांसी की सजा दी जानी चाहिए, जिससे फिर किसी बेटी के साथ ऐसी घटना न घटे. पीड़िता के पिता ने भी दरिंदों को फांसी दिए जाने की मांग की है. उन्होंने कहा, “मेरा तो सबकुछ लूट चुका है, लेकिन ऐसी सजा दी जाए कि दरिंदे किसी और के साथ दरिंदगी न कर सकें.’

राष्ट्रीय महिला आयोग ने लिया गया कांड का संज्ञान

राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने शुक्रवार को बिहार के गया जिले में एक महिला और उसकी बेटी के साथ करीब 12 युवकों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म की रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना पर स्वत: संज्ञान लिया है। आयोग ने अपने पत्र में कहा, आयोग जघन्य और घृणित प्रकृति के अपराध के लिए गंभीरता से चिंतित है, एनसीडब्ल्यू ने बिहार के डीजीपी को पत्र लिखा है और मामले में की गई कार्रवाई के बारे में तत्काल बताने के लिए कहा है। यह घटना बुधवार रात को सोंधिया गांव में हुई थी।

यह भी पढ़े  साबरी ब्रदर्स के गायन पर झूमे श्रोता पर्यटन मंत्री ने किया मनेर महोत्सव का उद्घाटन,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here