केंद्र नहीं चाहता दलितों को हक मिले : तेजस्वी

0
64
VIDHAN SBHA ME MEDIA KO SAMBODHIT KERTE TEJASWI YADAV

विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता व पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने केंद्र की मोदी सरकार को दलित विरोधी करार देते हुए आज जमकर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने अनुसूचित जाति-जनजाति के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले और उसमें बदलाव संशोधन को वापस लेने पर विचार करने के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग की तथा इस मामले पर बहस कराने की बात कही है। तेजस्वी यादव ने कहा कि केंद्र सरकार नहीं चाहती है कि दलितों को उनका हक मिले। इसलिए रविशंकर प्रसाद और सरकार के वकील कोर्ट में भी झूठ बोल रहे हैं। श्री यादव मंगलवार को विधानसभा में पत्रकारों से बात करते हुए एससी-एसटी एक्ट पर कहा कि वे अदालत के फैसले पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। साथ ही कहा कि कई ऐसे कानून हैं, जिनका दुरुपयोग हो रहा है, जो भी कानून का दुरुपयोग करता है, उस पर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार यदि दलितों के लिए चिंतित है तो विशेष सत्र के जरिये ऑर्डिनेंस लाये। मंगलवार को भारत बंद के समय हमने इसकी मांग की थी। हालांकि, ये लोग ऑर्डिनेंस नहीं लायेंगे।नेता प्रतिपक्ष ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सेंट्रल एजेंसियों का भी दुरुपयोग हो रहा है। सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स का दुरुपयोग हो रहा है। इस मसले पर भी र्चचा हो। कानून का दुरुपयोग जो भी करे कार्रवाई हो। गौर हो कि सुप्रीम कोर्ट ने एससी एसटी एक्ट पर दिए अपने फैसले पर रोक लगाने से फिलहाल इनकार कर दिया है। कोर्ट ने सभी पार्टियों से इस मुद्दे पर अपने विचार दो दिनों के भीतर देने का निर्देश दिया है। मामले की अगली सुनवाई 10 दिन बाद की जायेगी। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश सरकार ने बिहार में विकास को लेकर कोई रोड मैप नहीं दिया है। तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार की सरकार अल्पमत में थी और बीच में जब विधेयक पेश हो रहे थे उस समय तक वोटिंग भी नहीं करायी गयी। इस सरकार के पास बहुमत नहीं था। उन्होंने कहा कि ‘‘बुधवार को मैं सरकार के खिलाफ एक आरोप पत्र पेश करूंगा और मैं यह चाहूंगा कि नीतीश सरकार भी अपनी ओर से एक सफाई पेश करे।’

यह भी पढ़े  कोहरे के कारण छह जोड़ी ट्रेनों का परिचालन रद्द

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here