किसानों के उत्थान में भूमि विकास बैंक का बहुत बड़ा योगदान रहा है:कृषि मंत्री

0
32
PATNA BAHU RAJIYE SAHKARI BHUMI VIKAS BANK SAMITY BUDH MARG PATNA MEIN DIRY KA LOKARPAN KERTE AGRICULTURE MINISTER PREM KUMAR

राज्य के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि किसानों के उत्थान में इस बैंक का बहुत बड़ा योगदान रहा है। बैंक के अध्यक्ष विजय कुमार सिंह के नेतृव में यह प्रगति की राह पर अग्रसर है। इसे देखते हुए कृषि विभाग की ओर से बैंक को हरसंभव मदद की जाएगी। कृषि विभाग की उन योजनाओं में जिनमें बैंक ऋण की आवश्यकता है, उनमें भूमि विकास बैंक का सहयोग लिया जायेगा। कृषि मंत्री आज बहुराज्यीय सहकारी भूमि विकास बैंक के पटना अवस्थित प्रशासनिक भवन में नववर्ष पर कृषि सम्मेलन में डायरी लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे। कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य के छोटे-छोटे किसानों को संगठित कर सामूहिक खेती करने हेतु प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से राज्य के सभी प्रखंडों में पंचायत स्तर पर कृषक हित समूह, महिला हित समूह तथा प्रखंड स्तर पर कृषक उत्पादक कम्पनी (एफपीसी) का गठन किया जा रहा है। वर्ष 2018-19 में आत्मा योजना के अंतर्गत अब तक 285 कृषक उत्पादक संगठन का गठन, 1,789 कृषक हितकारी समूह तथा महिलाओं के लिए 441 खाद्य सुरक्षा समूह का गठन किया गया है। इन संगठनों को आगे बढ़ाने के लिए बैंकों से ऋण की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त कृषि यंत्र बैंक तथा उद्यान की विभिन्न योजनाओं में भी बैंकों से किसानों को ऋण की आवश्यकता है। इसमें भूमि विकास बैंक महती भूमिका निभा सकता है। कृषि विभाग की योजनाओं/कार्यक्रमों की जानकारी किसानों तक पहुंचाने, तथा योजनाओं के सफल कार्यान्वयन हेतु किसानों का विचार एवं उनका सुझाव प्राप्त करने हेतु एवं उनकी समस्याओं के समाधान हेतु पंचायत/ग्राम स्तर पर इस वित्तीय वर्ष में अब तक 16,310 किसान चौपाल का आयोजन किया गया है। कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि विभाग की योजनाओं का लाभ लेने हेतु राज्य के किसानों का कृषि विभाग की वेबसाइट पर नि:शुल्क ऑनलाइन पंजीकरण कराया जा रहा है। अब तक 43,72,633 किसानों ने पंजीकरण करवाया है। खरीफ मौसम में अनियमित मानसून एवं अल्पवृष्टि के मद्देनजर सिंचाई की व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु डीजल अनुदान कार्यक्रम के तहत 15,66,773 किसानों के बीच 195.56 करोड़ रुपये डीबीटी के माध्यम से वितरित किये गये हैं। सरकार द्वारा खरीफ, 2018 में अल्पवृष्टि के कारण फसलों को हुई क्षति की भरपाई हेतु राज्य के 24 जिलों के 275 प्रखण्डों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। इन प्रखण्डों के किसानों के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना संचालित किया जा रहा है। इस योजना का लाभ लेने हेतु 16,01,743 किसानों ने आवेदन किया है। अब तक 6.03 लाख किसानों के बीच 407.13 करोड़ रूपये कृषि इनपुट सब्सिडी का भुगतान डीबीटी के माध्यम से किसानों के बैंक खातों में किया गया है, शेष आवेदन का सत्यापन कार्य जारी है। भूमि विकास बैंक के अध्यक्ष विजय कुमार सिंह ने मंच संचालन करते हुए कहा कि बैंक को आगे बढ़ाने में कृतसंकल्पित हूं। कृषि विभाग की योजनाओं में किसानों को आवश्यकतानुसार ऋण उपलब्ध कराने हेतु भी भूमि विकास बैंक तैयार है। श्री सिंह ने कहा कि भूमि विकास बैंक अन्य वाणिज्यिक बैंकों के अपेक्षा दो प्रतिशत कम ब्याज पर ऋण किसानों को उपलब्ध कराता है। इस कार्यक्रम में उपस्थित सहकारिता के नेताओं के द्वारा भी बैंक के कार्यकलापों पर प्रकाश डाला गया। मौके पर कोऑपरेटिव फेडरेशन के अध्यक्ष विनय कुमार शाही, किसान अधिकार मोर्चा के संयोजक राज किशोर सिंह एवं अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग के अध्यक्ष अजय कुमार, सुनील कुमार सिंह, सत्येन्द्र नारायण, राजेश कुमार सिंह एवं रामाकांत तिवारी ने भी बैंक के विकास के लिए सुझाव दिया। इस अवसर पर बैंक के निदेशक, हाऊसिंग फेडरेशन के अधिकारी एवं कर्मचारी भी मौजूद थे।

यह भी पढ़े  चारा घोटाला: लालू प्रसाद यादव समेत 16 दोषियों की सजा पर फैसला कल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here