कालिदास रंगालय में हुआ सआदत हसन मंटो की कहानी पर आधारित नाटक ‘‘अकेली’ का मंचन

0
111

कालिदास रंगालय में मंगलवार को संस्था रंगम के तत्वावधान में नाटक ‘‘अकेली’ का मंचन किया गया। नाटक का आलेख सआदत हसन मंटो का और निर्देशन संतोष कुमार उर्फ रास राज का था।नाटक में सोने-चांदी के चोर मोहन के साथ घर से भागते हुए सुशीला रेलवे स्टेशन पहुंचती है जहां मोहन सुशीला से गहने चुराकर उसे अकेले छोड़ भाग जाता है। उसी रेलवे प्लेटफॉर्म पर एक दौलतमंद शख्स किशोर से मुलाकात होती है और सुशीला को किशोर का सहारा मिलता है। सुशीला चाहती है कि किशोर उसे वो प्यार दे जो एक औरत को जिन्दगी में जरूरत होती है। लेकिन किशोर प्यार, मोहब्बत को नहीं मानता है। दो वर्ष गुजरने के बाद अंतत: सुशीला अपने प्यार का इजहार करती है। मगर किशोर यह कहकर टाल देता है कि- मैं तुम्हें मुहब्बत नहीं करता क्योंकि तुम दौलतमंद नहीं हो। इस बात से सुशीला काफी आहत होती है और अपने अधूरेपन को पूरा करने की तलाश में मोती नाम के एक शख्स के संपर्क में आती है। मोती के साथ मिलकर योजना बनाकर एक दिन किशोर को छोड़कर उसके साथ भाग जाती है। जब यह बात मोती की होने वाली पत्नी चपला को पता चलता है, तो वह किसी तरह सुशीला से अकेले में मिलती है। सुशीला, चपला की मोहब्बत और उसके होने वाले पति के नाते वह अपनी मुहब्बत की बलि चढ़ा देती है। फिर सुशीला किशोर के पास जाती है। जब यह बात मोती को पता चलती है तो मोती सुशीला से मिलता है। लेकिन सुशीला उसे बेइज्जत कर उसे दूर रहने को कहती है। इस बेइज्जती का बदला लेने के लिए किशोर को बर्बाद करने में लग जाता है। मोती बाजार से सारे शेयर खरीद लेता है और सस्ते दामों में बेच देता है। उसकी मदद सुशीला भी करती है क्योंकि वो मोती से प्यार करती थी और किशोर बर्बाद हो जाता है। अंत में सुशीला यह राज बताती है कि उसे बर्बाद करने में मोती का हाथ था। यह सुन किशोर को झटका लगता है। सुशीला जाने लगती है। किशोर प्यार का इजहार करता है। मगर सुशीला नई जिंदगी की शुरुआत करने की बात कह विदा ले लेती है और अंतत: सुशीला अकेली रह जाती है। नाटक में ओशिन प्रिया, रास राज, उदित कुमार, उज्ज्वला गांगुली, कुणाल सत्यन, मनीष महिवाल, संतोष राजपूत, अमोद अलबेला, अविनाश डौबरियाल, विनोद कुमार, सद्दन और विशाल पाण्डेय ने अभिनय किया।

यह भी पढ़े  भागलपुर हिंसा: 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गए अर्जित शाश्वत चौबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here