काम निकालने के लिए लोग बदलते हैं स्वरूप हास्य-व्यंग्य नाट्य प्रस्तुति

0
145

पटना -दुनिया में हर इंसान एक दूसरे से काम निकालने के लिए हर हथकंडे अपनाता है। कोई मजबूरीवश लोगों से मदद मांगता है, कोई बिना काम किए अपना पेट भरने के लिए उपाय निकालता है। तो कोई अपना वर्दी का रौब दिखा कर लोगों से पैसे की उगाही करता है। सारे विषयों पर आधारित हास्य-व्यंग्य नाट्य प्रस्तुति गुरुवार को कालिदास रंगालय के प्रेक्षागृह में देखने को मिली। अहसास कलाकृति की ओर से दीपक श्रीवास्तव लिखित एवं कुमार मानव के निर्देशन में ‘अंधा-मानव’ का मंचन किया गया। मंच पर कलाकारों में रिसर्चर – राधा कुमारी, पागल – प्रेम कुमार, भिखारी – भुनेश्वर कुमार, नेता – कुमार मानव, हवलदार – विजय कुमार चौधरी, मद्रासी – बलराम कुमार, कुबड़ा – मंतोष कुमार, सेठ – पृथ्वीराज पासवान रहे। मंच परे कलाकारों में प्रकाश व्यवस्था – राजकुमार, उपेंद्र, संगीत संयोजन – डॉ. शैलेंद्र जोसफ, रूप सज्जा – माया कुमारी, वस्त्र-विन्यास – विभा सिन्हा आदि का सहयोग रहा।

यह भी पढ़े  बिहार ने बेंचमार्क स्थापित किया : व्यास जी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here