कांग्रेस में विलय चाहता था JDU, फिर गरमाई सियासत

0
69

राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की किताब (गोपालगंज टू रायसीना) को लेकर राजनीतिक विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला लालू के बेटे व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव के बयान का है। तेजस्‍वी ने कहा है कि जनता दल यूनाइटेड (जदयू) सुप्रीमो नीतीश कुमार बिहार में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार बनाने के छह महीने के भीतर अपनी पार्टी के कांग्रेस में विलय के लिए तैयार हो गए थे। छह महीने में ही उनका भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से मोहभंग हो गया था। तेजस्‍वी के बयान के बाद इस मामले में सियासत फिर गरमा गई है।

तेजस्‍वी के आरोप पर जदयू महासचिव केसी त्‍यागी ने कहा कि पार्टी के किसी अन्‍य दल के साथ विलय या महागठबंधन में जाने की कोई बात नहीं थी। खास बात यह है कि तेजस्‍वी के आरोप का महागठबंधन के घटक दल कांग्रेस ने भी खंडन कर दिया है।

यह भी पढ़े  पटना व मुंबई के बीच चलेगी समर स्पेशल ट्रेन

बिहार कांग्रेस के प्रवक्‍ता प्रेमचंद मिश्र ने ऐसी किसी जानकारी से इनकार किया है।
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने दिया बयान :”ये बातें सिर्फ किताब में लिखी हैं, इसके बारे में मुझे कुछ जानकारी नहीं है, इसपर कुछ ज्यादा नहीं बताया जा सकता”-

इसके पहले शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव की पत्‍नी व पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा था कि प्रशांत किशोर जदयू की महागठबंधन में वापसी व नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री प्रत्‍याशी घोषित करने के प्रस्‍ताव के साथ उनके आवास पर पहुंचे थे। राबड़ी ने यहां तक कहा कि उस ‘कबूतर’ (प्रशांत किशोर) को उन्‍होंने घर से निकाल दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here