कांग्रेस पार्टी के सिख दंगों वाले बयान से किनारा कर लेने के बाद अंततः सैम पित्रोदा ने मांगी माफी

0
29

कांग्रेस पार्टी के सिख दंगों वाले बयान से किनारा कर लेने के बाद अंततः सैम पित्रोदा को सफाई देने के लिए खुद आगे आना पड़ा. उन्होंने एक और कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर की तरह ही बयान पर अपनी सफाई को कमजोर हिंदी के मत्थे मढ़ दिया. उन्होंने कहा कि मेरे कहने का आशय ऐसा कतई नहीं था. मैंने कहा कुछ और था और उसका अर्थ कुछ और निकाला गया. मैं अपने बयान के लिए माफी मांगता हूं. साथ ही चाहता हूं कि इस मसले को पीछे छोड़कर आगे बढ़ा जाए.

1984 के सिख दंगों को लेकर दिए बयान पर विवाद के बाद अब इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष और गांधी परिवार के करीबी सैम पित्रोदा ने माफी मांगी है. सैम पित्रोदा ने शुक्रवार को शिमला में अपने विवादित बयान को लेकर माफी मांगी और कहा कि भाषाई दिक्कत की वजह से यह गफलत हुई है. उन्हें हिंदी की ज्यादा जानकारी नहीं है.

यह भी पढ़े  बिहार में आंधी-बारिश और आकाशीय बिजली से 16 लोगों की मौत

पित्रोदा ने कहा कि उनका सिख भाई-बहनों को ठेस पहुंचाने का कोई इरादा नहीं था. अगर उन्हें ठेस पहुंची है तो मैं माफी मांगता हूं. जो हुआ वह काफी बुरा हुआ है. इस दौरान सैम पित्रोदा ने पीएम मोदी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, ‘विश्व में देश को मोदी नहीं, राजीव गांधी की वजह से पहचान मिली है.’

गौरतलब है कि गुरुवार को धर्मशाला में कांग्रेस के कार्यक्रम में पहुंचे सैम पित्रोदा से मीडिया ने जब सिख दंगों को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा, ‘अब क्या है 84 का, आपने क्या किया पांच साल में, उसकी बात करिए, 84 में हुआ तो हुआ, आपने क्या किया? आपको रोजगार देने के लिए वोट दिया गया था. आपको 200 स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वोट दिया गया था, आपने वो भी नहीं किया. आपने कुछ नहीं किया, इसलिए आप यहां-वहां गप्प लगाते हैं.’

सैम पित्रोदा के इस बयान को अपने ट्विटर हैंडल से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी ट्वीट किया और कांग्रेस पर निशाना साधा और लिखा, ‘देश मर्डरर कांग्रेस को उसके पापों के लिए कभी माफ नहीं करेगा.’ इस मामले के मीडिया में आने और वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस को विपक्ष दलों ने जमकर घेरा. इस पूरे मामले पर कांग्रेस को सफाई देनी पड़ी है.

यह भी पढ़े  बिहार में गरीब सवर्णों के 10% आरक्षण पर कैबिनेट की मुहर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here