कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी आज नामांकन दाखिल करेंगे

0
210

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का पार्टी का अध्यक्ष बनने का रास्ता करीब पूरी तरह साफ हो चुका है. वे आज अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करेंगे. नामांकन दाखिले की आज अंतिम तिथि है और अब तक किसी ने पर्चा दाखिल नहीं किया है. राहुल के नामांकन दाखिले के दौरान उनके साथ सोनिया गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित कई वरिष्ठ नेता होंगे.

पार्टी के केंद्रीय चुनाव प्राधिकार अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन के अनुसार किसी अन्य ने अभी तक पर्चा दाखिल नहीं किया है. चुनाव मैदान में राहुल गांधी के एकमात्र उम्मीदवार रहने की संभावना है और कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में उनके चुनाव के लिए सभी रास्ते खुल गए हैं. वह अपनी मां सोनिया गांधी के उत्तराधिकारी होंगे जो इस पद पर 19 साल से विराजमान हैं. पार्टी सूत्रों ने बताया कि राहुल गांधी नामांकन पत्र के चार सेट दाखिल करेंगे. वरिष्ठ पार्टी नेता सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह, गुलाम नबी आजाद, एके एंटनी और अहमद पटेल तथा पार्टी के मुख्यमंत्री प्रस्तावक के रूप में पत्रों पर हस्ताक्षर करेंगे.

यह भी पढ़े  राहुल गांधी के ट्वीट को विजय माल्या ने किया रीट्वीट, BJP ने कांग्रेस पर उठाए सवाल

रामचंद्रन ने कहा, ‘‘अब तक प्रदेश इकाई प्रतिनिधियों को 90 नामांकन दिए गए. नामांकन के लिए अब तक कोई आवेदन दाखिल नहीं हुआ है और आज नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख है.’’ विभिन्न राज्यों से कांग्रेस प्रतिनिधि आज अकबर रोड स्थित पार्टी मुख्यालय में मौजूद होंगे तथा पार्टी के शीर्ष पद के लिए राहुल गांधी के नाम का प्रस्ताव करते हुए नामांकन के अपने सेट दाखिल करेंगे.

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि प्रदेश इकाइयों और संबंधित संगठनों के अलावा पार्टी के सभी महासचिव और सीडब्ल्यूसी सदस्य राहुल गांधी के पक्ष में नामांकन दाखिल करेंगे. पार्टी प्रवक्ता सुष्मिता देव ने कहा कि राहुल गांधी कल आधिकारिक रूप से नामांकन पत्र दाखिल करेंगे. कांग्रेस के आतंरिक चुनाव की आलोचना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘ऐसी आलोचना होती रही है कि कांग्रेस का चुनाव लोकतांत्रिक है या नहीं. मेरा कहना है कि यह एक ऐसा चुनाव है जिसकी निगरानी भारत निर्वाचन आयोग कर रहा है.’’ सुष्मिता ने कहा कि जब कोई चुनावी लोकतंत्र के बारे में बात करता है तो यहां इन चुनावों में पूर्ण पारदर्शिता है क्योंकि ये निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार कराए जाते हैं.

यह भी पढ़े  राम मंदिर मुद्दे पर ओवैसी का बयान- 2019 का लोकसभा चुनाव होने तक फैसला टाले सुप्रीम कोर्ट

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here