कश्मीर पर पाक पीएम इमरान खान ने मानी हार,बोले- आप मेरी जगह होते तो हार्ट अटैक आ जाता

0
50

अमेरिका में दुनिया के सामने गिड़गिड़ा रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर पर पूरी तरह से अलग थलग पड़ गए हैं। हताश होकर इमरान खान ने मान लिया है कि वो भारत से जंग नहीं जीत सकते। इमरान ने कहा कि उनकी हैसियत भारत से लड़ने की नहीं है। कश्मीर को लेकर लगातार झूठ बोल रहे इमरान ने ये भी कह दिया कि उनकी प्रोपगेंडा का दुनिया पर कोई असर नहीं हो रहा है। पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने कार्यक्रम में कहा, ‘मैं क्या करूं एक तरफ अफगानिस्तान की समस्या चल रही है. ईरान की समस्या चल रही है. चीन भी चिढ़ा हुआ है. अब देखिए भारत के साथ भी दिक्कतें शुरू हो गई हैं. ऐसे में अगर आप भी मेरी जगह होते ना, तो आपको हार्ट अटैक आ जाता.’

पाकिस्तान का प्रधानमंत्री होना कोई आसान बात नहीं. ये बात खुद प्रधानमंत्री इमरान खान ने कही है. इमरान खान का मानना है कि वह इतने तनाव में गुजर रहे हैं कि उनकी जगह कोई और होता, तो बेशक हार्ट अटैक आ जाता. उनकी बातों से यह भी साफ हो गया है कि वह जो चाहते हैं, कई बार उसे भी नहीं कर पाते. पाकिस्तानी पीएम ने काउंसिल ऑफ फॉरिन रिलेशंस अफेयर्स के कार्यक्रम में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए ये बातें कही.

यह भी पढ़े  वैदिक व रामायण काल में बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी कुरीतियां नहीं, नारियों का सम्मान था : सुशील मोदी

एक पाकिस्तानी पत्रकार ने जब सवाल किया कि जब कश्मीर पर आपका कोई नहीं सुन रहा तो आपके पास दूसरा विकल्प क्या है, तो उन्होंने स्वीकार कर लिया कि भारत से लड़ने की हैसियत नहीं है। बता दें कि जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है और वो अंतरराष्ट्रीय मंच पर कश्मीर को लेकर कई बार मात खा चुका है।

पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ देशों को भड़काने की कोशिश की, लेकिन उसे नाकामी ही मिली। इमरान ने कहा कि मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय से निराश हूं। यदि आठ मिलियन यूरोपीय या यहूदी या यहां तक कि आठ अमेरिकियों को घेराबंदी में रखा गया होता, तो क्या तब भी यही प्रतिक्रिया होती? लेकिन हम दबाव डालते रहेंगे।

इमरान खान ने भारत के आर्थिक कद और वैश्विक प्रमुखता को भी स्वीकार किया और बताया कि कश्मीर पर पाकिस्तान के बयान की अनदेखी क्यों की जा रही है। इमरान ने कहा कि भारत में 1.2 बिलियन लोग हैं और दुनिया उन्हें बाजार के रूप में देखती है।

यह भी पढ़े  ये नया इंडिया है, आतंकियों को घुस कर मारेगा: पीएम नरेंद्र मोदी

मेरे पास चीन की तरह पावर नहीं
पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इमरान खान की इस बात पर आयोजन में ठहाके लगे. हंसी-मजाक के बीच ही पाकिस्तानी प्रधानमंत्री एक बार फिर अपनी बेचारगी उस वक्त दिखा गए, जब उन्होंने कहा कि कुछ मामलों से निपटने के लिए उनके पास वह पावर नहीं है, जो चीन के शासकों के पास होती है.

उन्होंने कहा कि चीन हमारे लिए प्रगति की मिसाल है. उसने अपने करोड़ों नागरिकों को गरीबी से बाहर निकाला है. इमरान ने कहा, ‘अगर मेरे पास भी उनके जैसे आदेश जारी करने की शक्ति हो, तो मैं भी देश से गरीबी और भ्रष्टाचार खत्म कर दूं.’

कश्मीर पर मध्यस्थता करे अंतरराष्ट्रीय समुदाय
इमरान खान ने कार्यक्रम में एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कश्मीर पर मध्यस्थता की गुहार लगाई. उन्होंने परमाणु संपन्न दो देशों के बीच टकराव का अपना पुराना राग अलापा. इमरान ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों परमाणु संपन्न देश हैं. दोनों देशों के बीच टकराव से पूरे दक्षिण एशिया पर असर पड़ेगा.

यह भी पढ़े  इस्‍तीफे पर अड़े राहुल गांधी पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओं से मिले, कहा- मेरा विकल्प ढूंढ़ लीजिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here