करतारपुर कॉरिडोर: पाकिस्तान से बातचीत , वाघा बॉर्डर पहुंचे भारतीय अधिकारी, चर्चा में कई मुद्दे उठाएगा भारत

0
56

करतारपुर साहिब कॉरिडोर पर आज पाकिस्तान के वाघा बॉर्डर पर भारत और पाकिस्तान के अधिकारी बातचीत के लिए आमने सामने होंगे. पिछली बैठक 14 मार्च को अटारी यानि भारत की सीमा के अंदर हुई थी. गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के लिए दोनों देश इस कॉरिडोर को श्रदालुओं के लिए खोलने पर काम रहे हैं, लेकिन अभी भी दोनों देशों के बीच इंफ्रास्ट्रक्चर और यात्रा की शर्तों पर मतभेद कायम हैं.

दर्शन के लिये कोई फीस नहीं होनी चाहिए- भारत
कुछ मतभेद जिन पर आज की मुलाकात में चर्चा होगी, इनमें भारत चाहता है कि दर्शन के लिये कोई फीस नहीं होनी चाहिए, लेकिन पाकिस्तान दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के लिए वीजा के तर्ज पर परमिट देगा जिस पर फीस होगी और खास दिन में यह फीस बढ़ाई भी जा सकेगी. आस्था को देखते हुए भारत श्रद्धालुओं को पैदल जाने की अनुमति चाहता है जबकि पाकिस्तान श्रद्धालुओं को बस में लेकर जाना चाहता है.

यह भी पढ़े  गंगा स्नान को उमड़े श्रद्धालु

पाकिस्तान की तरफ से जीरो लाइन पर पुल बनाना चाहिए, लेकिन पाक पुल बनाने को तैयार नहीं है. भारत चाहता है कि एक या 2 श्रद्धालु जाना चाहे तो जा सके, पाकिस्तान कम से कम 15 लोग का ग्रुप लेकर जाना चाहता है. भारत चाहता है कि यात्रा सप्ताह के सातों दिन खुली रहे, पाक हफ्ते में कुछ दिन तय करना चाहता है. भारत दिन के 5000 श्रद्धालुओं और विशेष पर्वों पर 10,000 श्रद्धालुओं की अनुमति चाहता है, लेकिन पाक दिन के सिर्फ 500 से 700 श्रद्धालुओं को अनुमति देने पर अड़ा है.

 10 बजे से 1 बजे तक चलेगी बैठक

यह बैठक आज सुबह 10 बजे शुरू होगी और करीब 1 बजे तक चलेगी. जिसके बाद भारत का प्रतिनिधिमंडल दोपहर 2 बजे मीडिया से रूबरू होगा. भारतीय प्रतिनिधिमंडल की अध्यक्षता गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव SCLदास करेंगे, और विदेश मंत्रालय में पाक-अफ़ग़ान-ईरान विभाग के संयुक्त सचिव दीपक मित्तल शामिल होंगे. वहीं पाकिस्तान की और से MoFA के प्रवक्ता डॉ मोहम्मद फैसल उनके प्रतिनिधिमंडल की अध्यक्षता करेंगे. गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से पहले करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण के लिए केवल साढ़े तीन महीने रह गए हैं.

यह भी पढ़े  राज्यसभा में मनमोहन सिंह का खत्म हुआ कार्यकाल, कैसे होगी वापसी?

भारत के दबाव में खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला पाक SGPC से बाहर

वहीं, भारत के दबाव में खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला को पाकिस्तान ने पाक SGPC से बाहर कर दिया है. भारत ने पहले ही साफ कर दिया था कि करतारपुर कॉरिडोर के इस्तेमाल पाक खालिस्तानी एजेंडा के लिए न करे. आज होने वाली बैठक में भी भारत इस मुद्दे पर ज़ोर देगा. गोपाल चावला पर भारत ने ऐतराज़ जताया था, जिसके चलते 2 अप्रैल को होने वाली भारत-पाक बैठक टल गई थी. चौकानें वाली बात यह है कि जहां पाकिस्तान ने दबाव में गोपाल चावला को बाहर का रास्ता दिखाया है, वहीं खालिस्तानी समर्थक अमीर सिंह को पाक SGPC में जगह दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here