औरंगाबाद में बड़े नक्सली हमले में BJP एमएलसी के चाचा की मौत

0
118

बिहार के औरंगाबाद जिला स्थित देव थाना क्षेत्र में शनिवार देर रात नक्सलियों ने हमला कर दिया. इस दौरान नक्सलियों ने बीजेपी के विधान पार्षद राजन सिंह के चाचा नरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी साथ ही 10 वाहनों को फूंकते हुए दो घरों में भी आग लगा दी. जानकारी के अनुसार नक्सलियों ने जिले के देव थाना के सुदी बीघा गांव में ट्रांसपोर्टर के दो घरों को निशाना बनाया. रात करीब 10 बजे हथियारबंद 15 नक्सलियों ने धावा बोलते हुए जमकर उत्पात मचाया और गाड़ियों में आग लगाने के बाद ट्रांसपोर्टर के परिवार के एक सदस्य नरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी.

बिहार में एक बार फिर से नक्सलियों का तांडव देखने को मिला है. बिहार के औरंगाबाद स्थित देव थाना क्षेत्र के सुदी बीघा गांव में ट्रांसपोर्टर के घर शनिवार देर रात नक्सलियों ने हमला कर दिया. जानकारी के मुताबिक नक्सलियों ने 100 राउंड से ज्यादा फायरिंग की, जिसमें एक वृद्ध की मौत हो गयी. मृतक BJP के विधान पार्षद राजेंद्र कुमार सिंह के चाचा बताये जा रहे हैं. इस घटना में एक सामुदायिक भवन को भी विस्फोट कर उड़ा दिया गया है. इस दौरान नक्सलियों ने चार बसों समेत दस गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया.

यह भी पढ़े  मैट्रिक परीक्षा के नतीजे घोषित ,सिमुलतला के छात्रों ने फिर लहराया परचम

बताया जा रहा है कि घटना के पीछे ट्रांसपोर्टर सुनील सिंह से अड़ीबाजी का विवाद बताया जा रहा है. नक्सलियों ने पहले सुनील के सुदी बीघा स्थित पैतृक घर पर हमला किया. उसके बाद नक्सलियों ने केताकी मोड़ स्थित सुनील के नये घर पर भी हमला किया. धमाकों से देव बाजार इलाके में दहशत फैल गयी. रात करीब साढ़े नौ बजे नक्सलियों का एक दस्ता देव गोदाम पहुंचा और इसमें शामिल नक्सलियों ने एक-एक कर गोलू नाम से चलती पांच बसों के अतिरिक्त दो कार, तीन ट्रैक्टर व एक बाइक को आग के हवाले कर दिया. इसके तुरंत बाद हमलावरों ने कृष्णा मिस्त्री नामक एक व्यक्ति का घर भी फूंक दिया. इसके पश्चात सुदी बिगहा गांव में पहुंच कर नक्सलियों ने पुन: हमला बोल कर भाजपा एमएलसी राजन सिंह के चाचा नरेंद्र सिंह की हत्या कर दी. हत्या की पुष्टि एसपी ने भी की है. उधर, घटना की सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों के जवानों ने गांव को चारों तरफ से घेर लिया. खबर लिखे जाने तक नक्सलियों के साथ पुलिस मुठभेड़ जारी थी. दोनों तरफ से देर रात तक रह-रह कर विस्फोट की आवाज आती रही, बंदूकें गरजती रहीं.

यह भी पढ़े  सहरसा जिला सदर अस्पताल और पीएमसीएच के मामले में सरकार ने दी सफाई

करीब डेढ़ सौ की संख्या में सशस्त्र नक्सलियों ने वहां गोलू बस के मालिक को खोजते हुए उपद्रव मचाना शुरू किया. हमलावरों ने एक-एक कर देव गोदाम स्थित स्टैंड के पास खड़े वाहनों को आग के हवाले कर दिया. इधर, घटना की सूचना पर एसपी (अभियान) राजेश कुमार सिंह सहित पुलिस के अन्य अफसरों ने भी घटनास्थल पर पहुंच कर अपने जवानों का हौसला बढ़ाया. नक्सलियों ने इस घटना को क्यों अंजाम दिया, यह स्पष्ट तौर पर नहीं पता चल सका है. पर, जानकारी मिली है कि मामला लेवी वसूली से जुड़ा था. लेवी की मांग को लेकर बस मालिक अरुण सिंह नक्सलियों के टारगेट पर थे. वैसे, बस मालिक से इस मामले में किसी तरह की बात नहीं हो सकी. स्थानीय सूत्रों से पता चला कि सुदी बिगहा जाने वाले रास्ते में नक्सलियों ने आइइडी प्लांट कर दिया था, ताकि पुलिस उन तक नहीं पहुंच सके.
जानकारी के मुताबिक नक्सलियों का सुनील सिंह से पांच साल पहले भी अड़ीबाजी को लेकर विवाद हुआ था. तब भी उनके घर पर हमला कर वाहनों में आग लगायी गयी थी. जिसमें उनके चचेरे भाई अजीत सिंह की हत्या कर दी गयी थी. वहीं, डीजीपी केएस द्विवेदी ने बताया कि सुदी बिगहा गांव में नक्सली हमला हुआ है. एक आदमी को गोली भी लगी है. घटनास्थल पर सीआरपीएफ, एसटीएफ व कोबरा के जवान पहुंच गये हैं. नक्सलियों के खिलाफ पुलिस अभियान चला रही है.

यह भी पढ़े  चौथा अंतरराष्ट्रीय धर्मा-धम्मा सम्मेलन : नीतीश ने की राजगीर को वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल करने की मांग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here