औरंगाबाद : जिला सहकारिता पदाधिकारी समेत दो लोगों को निगरानी ने रिश्वत लेते रंगेहाथ दबोचा

0
105

निगरानी विभाग की टीम ने औरंगाबाद में बड़ी कार्रवाई की है. टीम ने जिला सहकारिता पदाधिकारी बीरेन्द्र कुमार को डेढ़ लाख रूपये तथा विभागीय क्लर्क शंभु कुमार को 50 हजार रूपये घूस लेते रंगे हाथों धर दबोचा है.

दोनों अकोढ़ा के पैक्स अध्यक्ष सुजीत कुमार से गोदाम निर्माण के नाम पर ये पैसे बतौर घूस ले रहे थे. इसकी शिकायत आवेदक ने विजिलेंस से की थी. टीम ने डीएसपी कनिष्क कुमार के नेतृत्व में दोनों को डीसीओ के आवास से ही गिरफ्तार किया और आवश्यक कार्रवाई के बाद दोनों को अपने साथ पटना लेकर चली गई.

विजिलेंस की इस कार्रवाई से जिले में हड़कंप मच गया.

जानकारी के मुताबिक, जिले के दाउदनगर प्रखंड के व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुजीत कुमार से गोदाम बनाने और राइस मिल के नाम पर जिला सहकारिता पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार ने डेढ़ लाख रुपये रिश्वत की मांग की थी. वहीं, विभाग के बड़ा बाबू शंभू कुमार ने 50 हजार रुपये की मांग की थी. रिश्वत मांगे जाने की शिकायत व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुजीत कुमार ने निगरानी विभाग से की. निगरानी विभाग की टीम ने पूरे मामले की जांच की, तो आरोपों को सही पाया. इसके बाद गुरुवार की सुबह आवास पर छापेमारी कर रिश्वत लेते हुए दोनों अधिकारी और बड़ा बाबू को रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया. निगरानी की छापेमारी टीम का नेतृत्व कर रहे विभागीय डीएसपी महाराजा कनिष्क कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर पटना स्थित निगरानी कोर्ट में गिरफ्तार दोनों अधिकारी और बड़ा बाबू को पेश किया जायेगा.

यह भी पढ़े  मोदी सरकार का बड़ा फैसला, पहली बार 2021 की जनगणना में पिछड़ी जातियों का भी आएगा आंकड़ा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here