औरंगाबाद : अंतिम दिन 10 प्रत्याशियों ने किया पर्चा दाखिल , कुल 16 प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किये

0
141

लोकसभा चुनाव के लिए सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन 10 प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया। अंतिम दिन होने की वजह से प्रशासन की ओर से सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। .

ज्यादातर प्रत्याशी सादे तरीके से कलेक्ट्रेट में पहुंचे और नामांकन दाखिल किया। सबसे पहले बसपा के नरेश यादव ने नामांकन दाखिल किया और उसके बाद हम पार्टी से उपेंद्र प्रसाद ने पर्चा भरा। उनके बाद भाजपा के प्रत्याशी औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह ने नामांकन दाखिल किया। इसके अलावा अंबेदक्राइट पार्टी ऑफ इंडिया से नरेश सिंह, भारतीय मित्र पार्टी से ब्रह्मदेव ठाकुर, शोषित समाज दल से अमेरिका महतो, बहुजन मुक्ति पार्टी से सुरेश प्रसाद, भारतीय समाज पार्टी से लाल हरि पासवान सुहेलदेव ने नामांकन किया। निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मो. शमशाद अख्तर खान और हरेन्द्र सिंह ने नामांकन किया। इसके साथ ही लोक सभा चुनाव के लिए कुल 16 नामांकन हो गए। अब स्क्रूटनी तथा नाम वापसी के बाद ही प्रत्याशियों की सही संख्या सामने आएगी। .

अंतिम दिन होने से रही गहमागहमी : सोमवार को नामांकन का आखिरी दिन होने की वजह से यहां गहमा गहमी रही। कलेक्ट्रेट के आस-पास सुरक्षा बलों की मौजूदगी रही और क्यूआरटी भी गश्त पर रही। एसडीओ डा. प्रदीप कुमार, एसडीपीओ अनूप कुमार, एएसपी अभियान राजेश कुमार सिंह सहित अन्य पदाधिकारी भ्रमणशील रहे। कलेक्ट्रेट से लेकर बाजार तक अधिकारियों ने निरीक्षण किया। भारी भीड़ होने की वजह से अतिरिक्त सुरक्षा बलों को लगाया गया था जो कलेक्ट्रेट के पास जमे लोगों को हटाते रहे। नामांकन के बाद भाजपा प्रत्याशी सुशील कुमार सिंह ने कहा कि विकास के नाम पर चुनाव में उतरे हैं और उन्हें जनता का समर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने अपने पांच साल के कार्यकाल में अभूतपूर्व काम किया है और हर स्तर पर अंतर दिख रहा है। इस अवसर पर सांसद प्रतिनिधि अश्विनी सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित रहे। हम के प्रत्याशी उपेंद्र प्रसाद ने कहा कि उनकी लड़ाई सांप्रदायिकता और जुमलेबाजी के खिलाफ है। वर्तमान सरकार ने किसी क्षेत्र में काम नहीं किया है और केवल घोषणाएं हुई हैं। .

यह भी पढ़े  भारतीयता की मिसाल थे पूर्व रक्षा मंत्री फर्नाडिस

26 मार्च को होगी स्क्रूटनी : 26 मार्च को सुबह 11 बजे से स्क्रूटनी का काम होगा। उपनिर्वाचन पदाधिकारी जावेद इकबाल ने बताया कि 28 मार्च को 3 बजे तक नाम वापसी का समय तय किया गया है। इसी दिन सभी योग्य प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी जाएगी और चुनाव चिह्न का आवंटन कर दिया जाएगा। शाम में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की जाएगी। .

लोक सभा चुनाव में प्रत्याशियों की बढ़ी हुई संख्या से परेशानी बढ़ेगी। अभी तक 16 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है। अधिकारियों ने कहा कि यदि प्रत्याशियों की संख्या में कमी नहीं आती है तो ईवीएम की संख्या बढ़ानी होगी। फिलहाल स्क्रूटनी और नाम वापसी का काम शेष है और प्रत्याशियों की संख्या घट सकती है। बताया गया कि वर्ष 2014 में 13 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया था। .

सुशील कुमार सिंह, भाजपा। उपेन्द्र प्रसाद, हम। नरेश यादव, बसपा।.

25 मार्च को हुए नामांकन .

यह भी पढ़े  बिहार की सियासत दिलचस्प ,आज उपवास पर बैठेंगे उपेंद्र कुशवाहा

नाम दल.

1. सुशील कुमार सिंह भाजपा.

2. उपेन्द्र प्रसाद हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा, से..

3. नरेश यादव बसपा.

4. नरेश सिंह अंबेदक्राइट पार्टी ऑफ इंडिया.

5. ब्रह्मदेव ठाकुर भारतीय मित्र पार्टी.

6. मो. शमशाद अख्तर खान निर्दलीय.

7. हरेन्द्र सिंह निर्दलीय.

8. अमेरिका महतो शोषित समाज दल.

9. सुरेश प्रसाद बहुजन मुक्ति पार्टी.

10. लाल हरि पासवान सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी.

18 मार्च को हुए नामांकन.

1. सोमप्रकाश सिंह स्वराज पार्टी.

19 मार्च को हुए नामांकन.

1. डा. धर्मेन्द्र कुमार अखिल हिन्द फारवर्ड ब्लॉक (क्रांतिकारी).

2. संतोष कुमार सिन्हा निर्दलीय.

3. अविनाश कुमार पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रेटिक) .

4. धीरेन्द्र कुमार सिंह निर्दलीय.

20 मार्च को हुए नामांकन.

1. योगेन्द्र राम निर्दलीय.

एनडीए की सरकार ने पिछले पांच सालों में दिन-रात काम किया है और ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसमें विकास नहीं हुआ हो। सीमा पर भी सरकार ने ठोस निर्णय लिया जिसके कारण आतंकवादियों में खलबली है।.

यह चुनाव विकास बनाम विनाश है और जनता को तय करना है कि उसे मोदी का विकास पसंद है या फिर विपक्षी दलों का विनाश। उक्त बातें सोमवार को अनुग्रह मेमोरियल कॉलेज परिसर में आयोजित राजनीतिक सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कही। इस सभा को पूर्व सभापति अवधेश नारायण सिंह, जिले के प्रभारी मंत्री बृजकिशोर बिंद, कृषि मंत्री डा. प्रेम कुमार, उद्योग मंत्री जयकुमार सिंह, एमएलसी संजीव श्याम सिंह, नवीनगर के जदयू विधायक वीरेंद्र कुमार सिंह, भाजपा के एमएलसी राजन कुमार सिंह, औरंगाबाद के सांसद सह प्रत्याशी सुशील कुमार सिंह, काराकाट के पूर्व सांसद सह प्रत्याशी महाबली सिंह, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता सह गोह के भाजपा विधायक मनोज शर्मा, गुरूआ विधायक राजीर नंदन दांगी, पूर्व विधायक सत्यदेव कुशवाहा, गया के सांसद हरी मांझी, सासाराम के सांसद छेदी पासवान ने संबोधित किया। वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार ने किसानों को दो-दो हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी तो विपक्षी दलों ने उसे खारिज करना शुरू कर दिया। वर्तमान सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक की तो पहले विपक्षी दलों ने सबूत मांगा और जब सबूत दिए जाने लगे तो कहा गया कि उन्होंने भी सर्जिकल स्ट्राइक की थी। बताया गया कि अब दिल्ली से एक रुपया चलता है तो गरीब के खाते में एक रुपया ही पहुंचता है। पूर्व की सरकारों में दिल्ली से एक रुपया चलता था और 15 पैसा पहुंचता था लेकिन अब सरकार बदल गई है और उस हिसाब से काम हो रहा है। कहा कि औरंगाबाद से लेकर गया जिला तक में बिजली के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम हुआ और जगह-जगह सबस्टेशन बन गए। पूर्व में जब बिजली आती थी तो लोगों को पूछना पड़ता था कि बिजली आ गई, लेकिन अब कभी बिजली कट जाती है तो लोग चौंकते हैं। यह बदलाव वर्तमान सरकार ने किया है। कहा कि औरंगाबाद विकास के मामले में आगे है जिसका श्रेय वर्तमान सरकार को जाता है। भारत माला प्रोजेक्ट में औरंगाबाद को जगह मिली है वहीं करोड़ों रुपए की योजनाएं क्रियान्वित हो रही हैं।

यह भी पढ़े  बिहार : आजादी के बाद पहली बार भभुआ में बनी महिला विधायक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here