ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पर रोना आया..

0
82

पटना। बेगम अख्तर की याद में रविवार को कार्यक्रम मेरे हम-नफ़स, मेरे हम-नवा का आयोजन किया गया। तारामण्डल सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम का आयोजन नवरस स्कूल ऑफ परफॉरमिंग आर्टस के तत्वावधान में किया गया था। कार्यक्रम में गायिका विद्या शाह ने बेगम अख्तर के जीवन काल पर विस्तार से प्रकाश डाला। उसके बाद शाह ने छा रही काली घटा.. दिवाना बनाना है तो दिवाना बना दे.. का गायन कर पूरे माहौल को खुशनुमा बना दिया। सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कोयलिया मत कर पुकार.. का गायन कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। फिर वो जो हम में तुम में करार था.. पतली कमर लंबे बाल.. हमरा कही मानों राजा जी.. हमरी अटरीया पे.. का गायन कर लोगों को ताली बजाने पर मजबूर कर दिया। उसके बाद मेरे हम-नफ़स, मेरे हम-नवा.. और अंत में ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया.. का गायन कर झूमने पर मजबूर कर दिया। वहीं इनका सारंगी पर गुलाम अली, तबला पर डॉ श्याम मोहन और हारमोनियम पर आश्कि कुमार ने साथ दिया। मौके पर पूर्व शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी, फिल्म समीक्षक विनोद अनुपम सहित कई गणमान्य और संगीत प्रेमी मौजूद थे।

यह भी पढ़े  अगड़ों को आरक्षण का मुद्दा विप में गिरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here