उम्मीदों पर खरा उतरे पुलिस : नीतीश

0
123
New building of Bihar Vidhan Mandali Centaral hall n Patna inaugurate by Bihar Chief Minister Nitish Kumar

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के लोगों की उम्मीदों का पूरा ख्याल रखना पुलिस का परम दायित्व बताया और कहा कि सरकार पुलिस को सभी संसाधन उपलब्ध कराने के साथ ही उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है और आगे भी यह तत्परता कायम रहेगी।श्री कुमार ने बुधवार को यहां नवनिर्मित सरदार पटेल भवन में थानों के लिए खरीदे गए 1001 वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के बाद बिहार पुलिस की गौरवगाथा का बखान करने वाले कॉफी टेबल बुक का विमोचन किया। इसके बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार सभी प्रकार के संसाधन पूरी मुस्तैदी के साथ मुहैया कराने के लिए हर समय तत्पर है। ऐसे में लोगों की उम्मीदों का पूरा ख्याल रखना पुलिस का परम दायित्व है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कॉफी टेबल बुक में बिहार पुलिस के इतिहास और पुलिसकर्मियों के योगदान का बेहतर तरीके से उल्लेख किया गया है। जो भी इसे देखेगा उसे बिहार पुलिस के योगदान के विषय में जानकारी मिलेगी। उन्होंने कहा कि 12 अक्टूबर 2018 को सरदार पटेल भवन का उद्घाटन किया गया। राज्य सरकार ने विशिष्ट डिजाइन के आधार पर इस भवन का निर्माण कराया, जो भूकंपरोधी है। उन्होंने कहा कि इसके मेंटेनेंस के लिए टेंडर किया गया है, क्योंकि बड़ी संख्या में लोग यहां आयेंगे। इससे एक्टिविटी ज्यादा होगी, ऐसी स्थिति में इस भवन का रखरखाव होना आवश्यक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 133 एकड़ में राजगीर में पुलिस अकादमी का निर्माण कराया गया है, जिसे देखकर लोग भ्रमित हो जाएंगे कि कहीं यह व्हाइट हाउस तो नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार में पुलिस प्रशिक्षण केंद्र की कमी है, इसलिए वहां पुलिस उपाधीक्षक एवं अवर निरीक्षक के अलावा आरक्षी की भी ट्रे¨नग होगी। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से आह्वान करते हुए कहा कि बिहार पुलिस की राज्य सरकार से जो अपेक्षाएं हैं, उसे पूरा किया जा रहा है। लेकिन लोगों की जो आकांक्षाएं और उम्मीदें पुलिस से है उसका ख्याल रखना आप सभी का परम दायित्व है। उन्होंने कहा कि गड़बड़ करने वालों के खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई करने के लिए पुलिस को पूरी स्वायत्तता और स्वतंत्रता है। साथ ही बिहार की कानून व्यवस्था और पब्लिक ऑर्डर का हर हाल में पालन होना चाहिए। श्री कुमार ने कहा कि पिछले 13 वर्षों में उन्होंने किसी भी पुलिस अधिकारी को फोन करके किसी को बचाने या फंसाने के लिए जब नहीं कहा तो किसी और के कहने पर भी फंसाने या छोड़ने का काम नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि शराबबंदी के बाद लोगों की मानसिकता बदली है। बिहार के माहौल में परिवर्तन हुआ है। आपराधिक वारदातों और घरेलू ¨हसा में भी काफी कमी आई है। ऐसी स्थिति में शराब का अवैध धंधा करने वालों पर तत्काल सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। शराबबंदी की प्रभावी तरीके से निगरानी करने के लिए आईजी प्रोहिबिशन का तंत्र विकसित किया गया है और जो भी मदद चाहिए, वह दी जाएगी। इसलिए पूरी सजगता और मजबूती से आप सभी शराबबंदी पर ध्यान दीजिए। उन्होंने कहा कि जन अपेक्षा से अवगत कराने के साथ ही अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन करना उनका काम है इसलिए पुलिस भी न्यायसंगत ढंग से काम करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में होने वाली आपराधिक घटनाओं का बड़ा कारण भूमि विवाद है, जिसे ध्यान रखकर ही भूमि सव्रे एवं सेटलमेंट का काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसके अलावा भूमि का पारिवारिक बंटवारा मात्र 100 रुपये के खर्च पर करने का प्रावधान बिहार में लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि जब तक नया भूमि सव्रे एवं सेटलमेंट का काम पूरा नहीं होता है, तब तक पुराने रिकॉर्ड को अपडेट रखने की दिशा में भी कार्रवाई की गई है। श्री कुमार ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में पुलिस बल की बड़ी भूमिका है। यदि उनकी अपेक्षाओं पर पुलिस खरा उतरे तो लोगों को काफी प्रसन्नता होगी। एक दारोगा, पुलिस उपाधीक्षक या पुलिस अधीक्षक यदि अच्छा काम करते हैं तो लोग न सिर्फ उसकी प्रशंसा करते हैं बल्कि उन्हें याद भी रखते हैं। ऐसे अच्छे अधिकारी आप सब भी बनें ताकि लोगों के मन में आपकी अच्छी छवि हो। उन्होंने कहा कि जितने वाहनों और आधुनिक अस्त्र-शस्त्रों की जरूरत होगी, उसे राज्य सरकार उपलब्ध कराएगी। मुख्यमंत्री ने सवालिया लहजे में कहा कि जब उन्होंने मुख्यमंत्री पद का कार्यभार संभाला था तो पुलिसकर्मियों की संख्या कितनी कम थी और आरक्षियों की पोशाक का क्या हाल था। इससे हर कोई भली भांति अवगत है। उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस के थानों में जो वाहन थे, उसे धक्का देकर स्टार्ट किया जाता था और उसकी आवाज इतनी ज्यादा थी कि दूर से ही सुनकर अपराधी समझ जाते थे कि पुलिस की गाड़ी आ रही है। कार्यक्रम को मुख्य सचिव दीपक कुमार, सेवानिवृत्त पुलिस महानिदेशक के. एस. द्विवेदी, अपर मुख्य सचिव गृह विभाग आमिर सुबहानी एवं पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पाण्डेय ने भी संबोधित किया।

यह भी पढ़े  बिहार में हर तरफ दिख रहा आजादी के जश्न का नजारा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here