उपमुख्यमंत्री मोदी का 66वां जन्मदिन मनाया

0
47
BJP OFFICE ME SHUHEEL KUMAR MODI KA 66TH BIRTHDAY CELEBRATE KERTE BJP WORKERS

राजधानी के चीना कोठी में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का 66वां जन्मदिन युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह के नेतृत्व में झुग्गी-झोपड़ी में चल रहे विद्यालय में मनाया गया। इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा कि बिहार को जंगलराज से मुक्ति दिलाने में उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी का अभूतपूर्व योगदान रहा है। भ्रष्टाचार के खिलाफ सुशील मोदी के संघर्ष के कारण ही पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव जेल में हैं। श्री सिंह ने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के जन्मदिवस पर छात्रों के बीच केक काटा साथ ही छात्र-छात्राओं के बीच फल वितरित किया। इस अवसर पर रामनरेश महतो, सौरभ भारती पासवान, अरुण पांडेय, सत्येंद्र सिंह बिशेन, आनंद यादव, सरिता देवी आदि भी उपस्थित थे।

डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने अपने जन्मदिन की सही तारीख का किया खुलासा

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी का जन्मदिन है. इस मौके पर सुशील मोदी ने खुलासा किया है आज उनका असली जन्मदिन नहीं है. उनका रियल जन्मदिन नवंबर में हैं. लेकिन स्कूल में दाखिले के समय पिताजी ने 5 जनवरी लिखा दिया था.

यह भी पढ़े  केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे का हुआ एंकल फ्रैक्चर

डिप्टी सीएम ने कहा कि मैंने कभी जन्मदिन सेलेब्रेट नहीं किया. मुझे खुद जन्मदिन याद नहीं रहता है. लोग फोन करते हैं तो मुझे याद आता है. आज जिन लोगों ने मुझे फोन और ट्वीट के जरिए बधाई दी मैंने सभी लोगों को धन्यवाद दिया हूं. जन्मदिन के मौके पर डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने सचिवालय में अधिकारियों के साथ मीटिंग की.

उन्होंने कहा कि कोर्ट का फैसला आने के बाद ही मैं लालू प्रसाद केस में कोई टिप्पणी करूंगा. राजद नेता शिवानंद तिवारी की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया पर सवाल उठाना गलत है.

ज्यूडिशियरी में आरक्षण की बात पर उन्होंने कहा कि मैं इसका पक्षधर हूं. बिहार में लोअर ज्यूडिशियरी में आरक्षण लागू हैं लेकिन हायर ज्यूडिशियरी में फिलहाल संभव नहीं है. हालांकि कॉलेजियिम के जरिए यह ध्यान रखा जाता है कि ज्यूडिशियरी में सभी तबकों का प्रतिनिधित्व हो.

उन्होंने कहा कि जज की जगह विक्रमादित्य की जगह है और कोर्ट में दूध और दूध और पानी का पानी होता हैं. जब लालू प्रसाद पिछली बार जेल गए हैं तो बिहार में बीजेपी की सरकार नहीं थी. केंद्र की देवगौड़ा सरकार ने उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति दी थी. उस समय बिहार के राज्पाल एक आर किदवई थी जो कांग्रेसी थे.

यह भी पढ़े  महाराजा अग्रसेन की राज व्यवस्था प्रेरणादायक : मोदी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here