उत्तर बिहार में वज्रपात से 23 की मौत ,मृतकों के आश्रितों को 4-4 लाख का मुआवजा

0
11
पिछले 24 घंटे में आंधी-पानी के दौरान वज्रपात से 23 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 20 से अधिक घायल हो गये. एक दर्जन से अधिक पशुओं की भी माैत हुई है. सबसे अधिक सहरसा में छह लोगों की मौत हुई है. हालांकि, आपदा प्रबंधन विभाग ने कुल आठ लोगों के ही मरने की पुष्टि की है.  इन सभी के परिजनों को राज्य सरकार की तरफ से चार-चार लाख रुपये की सहायता राशि दी जायेगी. सहरसा जिले में  वज्रपात से मरने वाले छह लोगों में तीन बच्चे शामिल हैं. सदर एसडीओ शंभुनाथ झा ने बताया कि सदर
ठनका गिरने से…
अनुमंडल के महिषी  के बघवा गांव के फूलो यादव सहित सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के सलखुआ  गौसपुर के 17 वर्षीय सागर यादव, सरोजा की 12 वर्षीया मनीषा कुमारी व 10 वर्षीय अंकित कुमार, तरियामा पंचायत के तुर्की की 10 वर्षीया रेणु  कुमारी की मौत वज्रपात से हो गयी है. कोपा पंचायत की 65 वर्षीया हमीदा खातून की भी मौत की सूचना है. दरभंगा िजले में कुल पांच लोगों की मौत वज्रपात से मौत हुई है. कुशेश्वरस्थान थाने के कुबोटन निवासी हरिलाल  यादव के पुत्र महादेव यादव (55) सुबह शौच करने गये थे. इसी बीच वज्रपात  की चपेट में आने से उनकी मौत हो गयी.
दुबहा गांव के रूपलाल यादव के  पुत्र मदन यादव (59) अपने दरवाजे पर बैठे थे. वज्रपात की चपेट में आकर दम  तोड़ दिया. वहीं, बेरि पंचायत के बैरो बथनाहा प्राथमिक विद्यालय की खिड़की पर  बैठ कर बिरौल थाने के नौडेगा बलहा निवासी ट्रैक्टर चालक साधुशरण यादव के  पुत्र हरेराम यादव (35) और विलट राम के पुत्र जनार्दन राम (34) मुंह धो रहे  थे, तभी वज्रपात में दोनों की मौत हो गयी. खगड़िया के चौथम थाने के सरसवा  गांव निवासी रामसागर चौधरी के 30 वर्षीय पुत्र विक्की कुमार की मौत शुक्रवार की  सुबह भैंस चराने के दौरान ठनका की चपेट में आकर हो गयी.
कटिहार के बलरामपुर प्रखंड के भिमियाल पंचायत के  सिधना गांव में गुरुवार की रात वज्रपात घर के निकट के एक पेड़ पर गिरा.  इससे घर में सो रहे पति-पत्नी के साथ चार बच्चे गंभीर रूप से झुलस गये.  मधेपुरा के पुरैनी प्रखंड के कड़ामा गांव में बीती रात  हुई बारिश के दौरान हुए वज्रपात की चपेट में आने से एक 35 वर्षीय युवक  मनोज मेहतर की मौत हो गयी. भागलपुर जिले के पीरपैंती में वज्रपात की चपेट  में आकर किसान की मौत हो गयी.
वज्रपात से कैमूर में तीन लोगों की मौत हो गयी, जबकि औरंगाबाद, रोहतास और गया में एक-एक की मौत हो गयी. औरंगाबाद  माली थाना क्षेत्र के कर्मा विश्रामपुर गांव में नरेश राम की 13 वर्षीया बेटी रिशु कुमारी बधार में गाय चराने गयी हुई थी. बारिश के दौरान वह किसी पेड़ की आड़ में छिप गयी. उसी वक्त अचानक वज्रपात हुआ जिससे उसकी मौत घटनास्थल पर हो गयी.
मोतिहारी के लखौरा थाने के  ध्रुव लखौरा गांव में ठनका गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी. चार महिलाएं  घायल हो गयीं. उनका इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है. बताया जा रहा है कि बारिश से बचने के लिए पीपल के पेड़ के नजदीक जितेंद्र मांझी सहित तीन-चार  महिलाएं छुपी थीं. अचानक ठनका गिरने से जितेंद्र मांझी की मौत हो गयी. घटना  में एक भैंस की भी मौत हुई. बगल में बैठी मीना देवी, सुनैना देवी, कुसुम  देवी एवं एक अन्य महिला घायल हो गयी. वज्रपात से मरने वालों में पटना जिले के बख्तियारपुर के विंदेश्वरी सिंह (47 वर्ष) और बक्सर जिले के सदर थाना क्षेत्र के रामेश्वर सिंह (50 वर्ष) शामिल हैं.
कहां िकतने मरे
सहरसा 06
दरभंगा 05
कैमूर 03
मधेपुरा 01
खगड़िया 01
भागलपुर 01
पूर्वी चंपारण 01
पटना 01
बक्सर 01
रोहतास 01
औरंगाबाद 01
गया 01
20 से अधिक घायल
एक दर्जन से अधिक पशुओं की भी मौत
झारखंड में वज्रपात से 13 की गयी जान
झारखंड में पिछले 24 घंटे के भीतर वज्रपात से 13 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 20 से अिधक लोग झुलस गये. चतरा में पिता-पुत्री की मौत हो गयी. वहीं हजारीबाग में मंदिर की पुताई कर रहा मजदूर मर गया.
बोकारो के नवाडीह में बाइक सवार दो लोगों की मौत ठनका के चपेट में आने से हो गयी. छतरपुर में आम चुन रहे युवक और बच्चे की मौत हो गयी. वहीं सात लोग झुलस गये.
यह भी पढ़े  शव घर पहुंचते ही परिजनों में मचा कोहराम,दो वर्ष पूर्व गश्ती के दौरान हुई थी तीन पुलिस कर्मियों की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here