उच्च शिक्षा की बेहतरी को सरकार प्रयत्नशील: वर्मा

0
90
patna - comars college me jan vistar sava ka celebration karta and exgivishan ka nirachan karta secha mantare krishanandan varma

पटना – सूबे के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा है कि राजकीय पक्षी ‘‘गौरैया’ का बसेरा कभी इंसानों के घर-आंगन में हुआ करता था। अब यह बहुत कम दिखती है। जरूरत है इसके संरक्षण की। कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आर्ट्स एंड साइंस, पटना के ‘‘स्ट्राइड’ कार्यक्रम के अवसर पर प्रेस इन्फॉम्रेशन ब्यूरो, पटना के सहायक निदेशक और लेखक-पत्रकारसंजय कुमार द्वारा खींचे गये गौरैया के फोटो की प्रदर्शनी ‘‘मैं जिंदा हूं..गौरैया’ का उद्घाटन करते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि गौरैया की संख्या में कमी आई है जो चिंता का विषय है। ऐसे में संजय कुमार की फोटो प्रदर्शनी ‘‘गौरैया’ संरक्षण का संदेश देती है। विलुप्त होती ‘‘गौरैया’ की तस्वीरों की तीन दिवसीय फोटो प्रदर्शनी ‘‘‘‘मैं जिंदा हूं..गौरैया’’, कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आर्ट्स एंड साइंस, पटना के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग और सीआरडीएफ के सहयोग से आयोजित की गयी है। इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य प्रो. डा. जैनेन्द्र कुमार ने कहा कि छोटे आकार वाली खूबसूरत गौरैया पक्षी का जिक्र आते ही बचपन की याद आ जाती है। हमें इसके बचाव के उपाय करने होंगे। पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के कोऑर्डिनेटर प्रो. डॉ. तारिक फातमी ने कहा कि संजय कुमार की यह प्रदर्शनी गौरैया संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने में अहम भूमिका निभाएगी। कॉलेज और विभाग की कोशिश है कि पयार्वरण को बचाने का हर प्रयास हो, इसलिए यह पहल की गई है।इस अवसर पर लेखक-पत्रकार संजय कुमार ने कहा कि इस फोटो प्रदर्शनी का मकसद लोगों को गौरैया के प्रति संवेदनशील बनाना है ताकि विलुप्त होती इस नन्हीं-सी जान का संरक्षण हो सके। गौरैया की आबादी में 60 से 80 फीसद तक की कमी आई है। गौरैया की विभिन्न अदाओं को समेटे फोटो प्रदर्शनी छात्र-छात्राओं और लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है।

यह भी पढ़े  छात्रों के राजभवन मार्च के दौरान जेपी गोलंबर रणक्षेत्र में तब्दील

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here