ई. पुस्तकालय से होगा किसानों को लाभ : डॉ. प्रेम

0
17
file photo

कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कमार ने बिहार कृषि प्रबंधन एवं प्रसार प्रशिक्षण संस्थान बामेती में ई-किसान पुस्तकालय का उद्घाटन किया। अपने सम्बोधन में कहा कि ने कहा कि इस पुस्तकालय में ई-कियोस्क एवं इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध है जिसके माध्यम से पाठक ऑडियो एवं विजुअल के द्वारा देशध्विश्व स्तर की नवीनतम जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। बिहार सरकार के विभागों में पहली बार कृषि विभाग में ई-पुस्तकालय की स्थापना की गई है। उन्होंने कहा कि अभी ई-किसान पुस्तकालय में कृषि विज्ञान से संबंधित पुस्तक, पशु एवं मत्स्य विज्ञान से संबंधित पुस्तक, बागवानी विज्ञान से संबंधित पुस्तक, रिसर्च जनरल्स, विभिन्न प्रकार के मैगजीन्स, कृषि यांत्रीकरण, बिहार की विकास यात्रा ट्ठकॉफी टेबल बुक), समेकित कृषि पण्राली, सेरीकल्चर से संबंधित पुस्तक, मृदा से संबंधित पुस्तक, दलहन से संबंधित पुस्तक, पौधा संरक्षण से संबंधित पुस्तक, जैविक खाद से संबंधित पुस्तक, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन मैनेजमेंट से संबंधित पुस्तक, बामेती द्वारा मुद्रित विभिन्न प्रकार की पुस्तिकायें, कियोस्क कनेक्टेड विथ इंटरनेट ट्ठसॉफ्ट कॉपी ऑफ डिफरेंट बुकस, जनरल्स, सफलता की कहानियाँ आदि), ऑल इन वन टच स्क्रीन कम्प्यूटर आदि का संग्रह उपलब्ध है। इनके अतिरिक्त इस ई-किसान पुस्तकालय में बुक स्टैंड, मैगजिन स्टैंड, न्यूज पेपर स्टैंड आदि भी उपलब्ध है। इस सुविधा से कृषि विभाग और कृषकों को काफी फायदा होगा। मंत्री ने कहा कि इस ई-किसान पुस्तकालय में विभिन्न प्रकार के कृषि से सम्बद्ध विषयों से संबंधित पुस्तकों, पुस्तिकाओं लीफलेट, सफलता की कहानियां, मैगजीन, अखबार कृषि बुलेटिन इत्यादि को संग्रहित किया गया है। इसके साथ ही डिजिटल रूप में उपलब्ध नवीनतम जानकारियों से युक्त पाठय़ सामग्रियों को भी प्रदर्शित करने की व्यवस्था की गई है।इस अवसर पर प्रधान सचिव, कृषि विभाग, सुधीर कुमार, मगध प्रमण्डल के संयुक्त निदेशक एसी जैन, बसोका के निदेशक अशोक प्रसाद, बामेती के निदेशक डॉ. जितेन्द्र प्रसाद, उप निदेशक (शस्य), सूचना ओम प्रकाश सहित बड़ी संख्या में अन्य पदाधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  ‘रामधुन’ पर आगे और ‘‘थिरकेगी’ भाजपा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here